Widgets Magazine Widgets Magazine

मील के पत्थर

  • 1999

    23 सितंबर 1999 को वेबदुनिया का शुभारंभ हुआ, लेकिन इसकी तैयारियां काफी पहले से ही शुरू हो गई थीं। अंग्रेजी के बिना जहां इंटरनेट की कल्पना नहीं की जा सकती थी, वहीं ताजा खबरें, धर्म, ज्योतिष और सभी पठनीय, रोचक लेख और ज्ञानवर्धक सामग्री वेबदुनिया डॉट कॉम ने अपने पाठकों के लिए उपलब्ध करवाई। वेबदुनिया डॉट कॉम ने भाषाई पोर्टल के रूप में अपने 15 साल कामयाबी के साथ पूरे किए हैं। जिस समय इंटरनेट एक आम व्यक्ति के लिए सुलभ नहीं था, उस समय वेबदुनिया ने हिन्दी भाषा में पोर्टल की शुरुआत की और पाठकों के लिए यह संभव किया कि वे अपनी भाषा को इंटरनेट पर देख सकें/पढ़ सकें।

  • 2000

    आज चैटिंग बहुत आम हो गई है। 2000 में ही चैटिंग सेवा की शुरुआत की गई थी। वेब पत्रकारिता जगत में यह एक नई क्रांति की शुरुआत थी। पूर्व प्रधानमंत्री इन्द्रकुमार गुजराल और तत्कालीन केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और उमा भारती जैसी हस्तियों तक पाठकों के प्रश्न चैटिंग के माध्यम से पहुंचाकर उनका इंटरव्यू लिया गया था। यह चैट 9 भारतीय भाषाओं में की गई थी।

  • 2001

    वेबदुनिया ने 2001 में प्रयाग कुंभ में उत्तरप्रदेश सरकार के साथ आधिका‍रिक वेबसाइट का निर्माण कर पूरे विश्व में हिन्दी में कुंभ का शानदार कंटेंट उपलब्ध कराया। कुंभ की इस वेबसाइट का उद्‌घाटन उत्तरप्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री राजनाथसिंह ने किया था।

  • 2003

    रिलायंस इंडिया मोबाइल के R World फीचर के लिए वेबदुनिया ने कंटेंट उपलब्ध करवाया। R World फीचर में सभी कैटगरी में समाचार और अन्य उपयोगी जानकारी वेबदुनिया ने उपलब्ध करवाई।

  • 2004

    सन् 2004 में हरिद्वार में हुए अर्धकुंभ के लिए वेबदुनिया ने वेबसाइट बनाई और अर्धकुंभ से संबंधित सभी जानकारियां एक जगह उपलब्ध करवाई।

  • 2006

    एमएसएन के लिए वेबदुनिया ने युवाओं को ध्यान में रखते हुए पोर्टल एमएसएन युवा तैयार किया। इस पोर्टल की सामग्री पूरी तरह युवाओं पर केंद्रित थी। इसमें करियर से लेकर खेल जगत, मनोरंजन सभी सामग्रियों का समा‍वेश था। इसका पूरा कंटेंट वेबदुनिया ने तैयार किया।

  • 2007

    विश्व के पहले हिन्दी पोर्टल के साथ ही वेबदुनिया ने 2007 में एक और उपलब्धि हासिल की, जब अपने 7 भाषाओं के पोर्टल को वेबदुनिया ने यूनिकोड फॉन्ट में बदल दिया। यूनिकोड को भविष्य का फॉन्ट कहा जा रहा था। वेबदुनिया ने पाठकों की सुलभता को ध्यान में रखते हुए नई सामग्री के साथ ही पुरानी हिन्दी सामग्री को भी यूनिकोड में परिवर्तित कर दिया।

  • 2008

    ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन यानी बीबीसी दुनिया में सबसे बड़ा प्रसारण संघ है। पैंसठ सालों से बीबीसी हिन्दी सेवा से समाचार और समसामयिक विषयों पर कार्यक्रम प्रसारित करती आ रही है। 2008 में बीबीसी हिन्दी ने वेबदुनिया को प्लेटिनम कंटेंट पाटर्नर बनाया। इस पार्टनरशिप के तहत बीबीसी की चुनिंदा हिन्दी सामग्री वेबदुनिया पर उपलब्ध होती है। पाठकों की रुचि के अनुसार वेबदुनिया पर बीबीसी की खास स्टोरी को पेश किया जाता है।

  • 2009

    यह गौरव की बात है कि 2009 में जर्मनी की सार्वजनिक प्रसारण संस्था डायचे वेले ने वेबदुनिया के साथ अपना कंटेंट शेयर का समझौता किया। दुनिया की 33 भाषाओं में सेवा देने वाली और दुनिया की पुरानी संस्था डायचे वेले हिन्दी पोर्टल वेबदुनिया के साथ हिन्दी सामग्री शेयर करती है। डायचे वेले की खबरें और अन्य ज्ञानवर्धक लेख वेबदुनिया के माध्यम से पाठकों तक पहुंच रहे हैं।

  • 2010

    वेबदुनिया डॉट कॉम द्वारा विकसित मोबाइल एप्लीकेशन ‘ग्रीन प्लाजा’ को लंदन में संपन्न नोकिया डेवलपर समिट में ईको/ बीइंग ग्रीन श्रेणी में पुरस्कृत किया गया। वेबदुनिया को यह पुरस्कार इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर (आईसीसी) लंदन में आयोजित 2010 कॉलिंग ऑल इनोवेटर्स अवॉर्ड समारोह में मिला। वेबदुनिया को इस श्रेणी में तृतीय श्रेणी में यह अवॉर्ड मिला। 'ग्रीन प्लाजा’ को सभी आयु वर्ग के लोगों के बीच पर्यावरण की रक्षा हेतु जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से विकसित किया गया था।

  • 2013

    2013 में इंदौर मैनेजमेंट एसोसिएशन ने मैनेजमेंट कॉन्क्लेव के लिए वेबदुनिया को ऑनलाइन पार्टनर बनाया। आईएमए स्थापना के 50 वर्ष पूर्ण होने पर'ट्रांसफॉर्मिंग लीडरशिप गेटिंग फ्यूचर रेडी' थीम वाले इस कॉन्क्लेव में आदित्य बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला, एनआर नारायणमूर्ति जैसे बिजनेस टाइकून शामिल हुए। इस भव्य आयोजन में देशभर के एक हजार एंटरप्रेन्योर्स, सीईओ, विचारक, कॉर्पोरेट्स शामिल हुए। इस भव्य आयोजन में ऑनलाइन पार्टनर के रूप में वेबदुनिया ने सक्रिय रूप से कार्य किया। वेबदुनिया ने आईएमए कॉन्क्लेव को सोशल मीडिया पर भी उपलब्ध करवाने में अहम भूमिका निभाई।

  • 2014

    वेबदुनिया के लिए ये गौरवपूर्ण क्षण रहे, जब 15 सितंबर 2104 को हिन्दी दिवस पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने 'वेबदुनिया' को हिन्‍दी सेवा के लिए सम्मानित किया। वेबदुनिया द्वारा हिन्दी और प्रादेशिक भाषाओं के प्रसार और नवाचार के लिए अतुलनीय योगदान पर राज्य सरकार द्वारा इस पुरस्कार से नवाजा गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने वेबदुनिया के सीईओ विनय छजलानी के प्रयासों की प्रशंसा की। वेबदुनिया के नेशनल हेड (बिजनेस) विशाल डाकोलिया ने यह पुरस्कार ग्रहण किया। मुख्यमंत्री ने वेबदुनिया के कंटेंट के साथ ही उसके प्रस्तुतीकरण की भी प्रशंसा की।

संस्थापक का संदेश

वेबदुनिया के संस्थापक और ग्रुप चेयरमैन श्री विनय छजलानी ने विश्व के पहले हिन्दी पोर्टल के पंद्रह वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर अपने बधाई संदेश में कहा कि वेबदुनिया की अब तक यात्रा काफी सुखद रही। हालांकि इस अवधि में काफी उतार-चढ़ाव भी देखे।

झलकियां