0

कहीं आपको पितृदोष तो नहीं, जानिए पितृ दोष के लक्षण...

सोमवार,अक्टूबर 8, 2018
pitradosh
0
1
सर्वपितृ अमावस्या पर यह हैं सबसे सरल और सटीक उपाय... 8 अक्टूबर 2018 को जरूर आजमाएं
1
2
सर्वपितृ अमावस्या के दिन ही सोमवती अमावस्या का महासंयोग बन रहा है यह अत्यंत सौभाग्यशाली संकेत है। मोक्षदायिनी सर्वपितृ ...
2
3
सभी श्रेष्ठ पितृगण अक्षोदा को वरदान देने के लिए एकत्र हुए। उन्होंने अक्षोदा से कहा कि हे पुत्री हम सभी तुम्हारी तपस्या ...
3
4
9 अक्टूबर को पितृमोक्ष अमावस्या है। श्राद्ध पक्ष में यह अमावस्या बहुत ही महत्वपूर्ण होती है। इस दिन सभी ज्ञात-अज्ञात ...
4
4
5
यदि आप पितृदोष, कालसर्प दोष, ग्रहण दोष या चांडाल योग से परेशान है तो निम्न मंत्रों के जप आपको निश्चित ही लाभ देंगे।
5
6
सर्वपितृ विसर्जनी अमावस्या अथवा महालय हिन्दू धर्म में अत्यंत ही महत्वपूर्ण तिथि मानी जाती है। इस दिन शास्त्रों के ...
6
7
हमारे सनातन धर्म में श्राद्ध के विभिन्न प्रकार बताए गए हैं। मत्स्य पुराण में तीन प्रकार के श्राद्ध का उल्लेख है-
7
8
पूर्वजों के कार्यों के फलस्वरूप आने वाली पीढ़ी पर पड़ने वाले अशुभ प्रभाव को पितृ दोष कहते हैं।
8
8
9
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार ‍पितृ पक्ष के सोलह दिन हमारे पूर्वज धरती पर आते हैं। मान्यता है कि हमारे द्वारा शुद्ध मन से ...
9
10
श्राद्धपक्ष के इन 16 दिनों में वे कौन से दान हैं जो महादान की श्रेणी में आते हैं। शास्त्रानुसार इन दस वस्तुओं को महादान ...
10
11
पौराणिक ग्रंथों एवं पुराणों में श्राद्ध की आवश्यकता और लाभ पर अनेक ऋषि-महर्षियों के वचन मिलते हैं।
11
12
श्राद्ध पक्ष में 16 दिन ही दी जाने वाली धूप से पितृ तृप्त होकर मुक्त हो जाते हैं तथा पितृदोष का समाधान होकर पितृयज्ञ भी ...
12
13
श्राद्ध पक्ष में आने वाली अष्टमी को लक्ष्मी जी का वरदान प्राप्त है। यह दिन विशेष इसलिए भी है कि इस दिन सोना खरीदने का ...
13
14
शास्त्रों में श्राद्ध न करने से होने वाली हानियों का जो वर्णन किया गया है, उन्हें जानकर रोंगटे खड़े हो जाते हैं।
14
15
अपने पितरों को प्रसन्न करके उनका आशी‍ष पाना है तो श्राद्ध पक्ष के दिनों में अवश्य पढ़ें सर्व पितृ दोष निवारण 'पितृ कवच' ...
15
16
शास्त्रानुसार विष्णु को स्तुति, देवी को अर्चन, सूर्य को अर्घ्य एवं पितरों को तर्पण अतिशय प्रिय है। इसलिए श्राद्ध पक्ष ...
16
17
श्राद्ध पक्ष के दिनों में संध्या के समय तेल का दीपक जलाकर पितृ-सूक्तम् का पाठ करने से पितृ दोष की शांति होती है...
17
18
पितरों के प्रति श्रद्धा अर्पित करने का भाव ही श्राद्ध है। आइए जानें श्राद्ध में कौन-सी 4 बातें सबसे ज्यादा जरूरी है।
18
19
भविष्य पुराण के अनुसार श्राद्ध 12 प्रकार के होते हैं, जो इस प्रकार हैं-
19