0

नवग्रहों को सुगंध से प्रसन्न करें, हर ग्रह को है कोई खास सुगंध पसंद...

रविवार,जून 24, 2018
0
1
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है केतु के बारे में रोचक जानकारी...
1
2
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है राहु के बारे में रोचक जानकारी...
2
3
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है बुध के बारे में रोचक जानकारी...
3
4
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, ...
4
4
5
भारतीय ज्योतिष में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु और केतु। यहां पाठकों के लिए ...
5
6
ज्योतिष के अनुसार ग्रह की परिभाषा अलग है। भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, यहां प्रस्तुत है ...
6
7
पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु और केतु। यहां पाठकों के लिए ...
7
8
भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, मंगल, गुरु, शनि, राहु और केतु। ...
8
8
9
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, ...
9
10
ज्योतिष शास्त्र में राहु काल को उचित समय नही माना गया है। राहु तमस असुर है। राहु का कोई सिर नहीं है और जो आठ काले घोड़ों ...
10
11
अगर कुंडली में ग्रह दोष है तो जानकार हमें ग्रहों से संबंधित दान और मंत्र जप का बोलते हैं। यहां प्रस्तुत है नवग्रहों के ...
11
12
मंगल जातक को वैद्य (डॉक्टर) भी बनाता है। अन्य सभी सुयोग बनें, तो सर्जन बना सकता है, चाहे वह न्यूरोसर्जन हो या हार्ट का
12
13
सूर्यस्वरूप सृष्टि में सबसे पहले प्रकट हुआ इसलिए इसका नाम आदित्य पड़ा।
13
14
चन्द्रमा माता का सूचक और मन का कारक है। कुंडली में चन्द्र के अशुभ होने पर मन और माता पर प्रभाव पड़ता है। लोगों की ...
14
15
आचार्य वराहमिहिर ने अपने ग्रंथ 'वराह संहिता' में ग्रह पीड़ा निवारण के लिए रत्न धारण करने पर बल दिया है। दीर्घकालीन एवं ...
15
16

सबसे चमकदार ग्रह है शुक्र

गुरुवार,अप्रैल 19, 2018
चन्द्रमा के बाद रात के आकाश में सबसे ज्यादा शुक्र ही है। शुक्र का आकार और घनत्व करीब-करीब पृथ्वी जैसा है और इसका ...
16
17
प्राचीन ग्रंथों के अनुसार शनिदेव ने शिव भगवान की भक्ति व तपस्या से नवग्रहों में सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त किया है।
17
18
अगर आप ग्रहों के प्रकोप से परेशान हैं और कोई उपाय सूझ नहीं रहा है तो ऐसे समय में आप नवग्रहों के विशेष मंत्रों का सहारा ...
18
19
ज्योतिष में शनिदेव का विशेष स्थान है। अक्सर देखा गया है कि आम जनता शनि भगवान से बहुत भयभीत रहती है। शनि की वक्र दृष्टि ...
19