श्रीराम शलाका प्रश्नावली

जीवन में कई बार ऐसे मौके आते हैं जब समझ नहीं आता कि क्या करें और क्या न करें? इस भटकाव से उबरने के लिए श्रीराम शलाका प्रश्नावली के रूप में एक कीमती कुंजी हमें परंपरा से प्राप्त हुई है। इसकी उपयोग_विधि बेहद सुगम है। सबसे पहले भगवान श्रीरामचंद्रजी का श्रद्धापूर्वक ध्यान करें और उस प्रश्न के बारे में सोचें, जिसपर प्रभु का मार्गदर्शन पाने की इच्छा हो। फिर नीचे दी गई चौखट के भीतर किसी भी जगह पर कर्सर को ले जाकर आंख मूंदकर क्लिक करें। कुछ ही पलों में आपके क्लिक के अनुरूप, रामशलाका प्रश्नावली की नौ चौपाइयों में से किसी एक के आधार पर समाधान मिल जाएगा।

|| सुफल मनोरथ होहुँ तुम्हारे ||
|| राम लखनु सुनि भए सुखारे ||
बालकांड में वाटिका से फूल लाने पर विश्वामित्रजी का आशीर्वाद
फल : प्रश्न बहुत ही उत्तम, काम अवश्य पूरा होगा।
|| सुफल मनोरथ होहुँ तुम्हारे ||
|| राम लखनु सुनि भए सुखारे ||
बालकांड में वाटिका से फूल लाने पर विश्वामित्रजी का आशीर्वाद
फल : प्रश्न बहुत ही उत्तम, काम अवश्य पूरा होगा।
|| उधरें अंत न होइ निबाहू ||
|| कालनेमि जिमि रावन राहू ||
बालकांड की शुरूआत में अच्छे लोगों की सोहबत करने की सीख
फल : इस काम को छोड़ ही दें, सफलता में संदेह है।
|| बिधि बस सुजन कुसंगत परहीं ||
|| फनि मनि सम निज गुन अनुसरहीं ||
बालकांड की शुरूआत में बुरे लोगों की सोहबत से बचने की नसीहत
फल : बुरे लोगों का साथ छोड़ो, यह काम शायद ही बने।
|| प्रबिसि नगर कीजै सब काजा ||
|| हृदय राखि कोसलपुर राजा ||
सुंदरकांड में श्री हनुमानजी के लंका प्रवेश का प्रसंग
फल : ईश्वर को याद करके काम शुरू कर दें, सफलता राह देख रही है।
|| मुद मंगलमय संत समाजू ||
|| जिमि जग जंगम तीरथ राजू ||
बालकांड में संतों के सत्संग के महत्व का प्रसंग
फल : मनोरथ अच्छा है, काम शुरू करें - पूरा होगा।
|| होइ है सोई जो राम रचि राखा ||
|| कोकरि तरक बढावहिं साषा ||
बालकांड के अंतर्गत शिवपार्वती संवाद
फल : काम होने में संदेह है, इसे भगवान भरोसे छोड़ देना बेहतर है।
|| बरुन कुबेर सुरेस समीरा ||
|| रन सनमुख धरि काह न धीरा ||
लंका कांड में विधवा मंदोदरी का विलाप
फल : चुप बैठें, काम पूरा नहीं होगा।
|| गरल सुधा रिपु करय मिताई ||
|| गोपद सिंधु अनल सितलाइ ||
श्री हनुमानजी के लंका में प्रवेश का प्रसंग
फल : संकल्प बहुत बढ़िया, काम पूरा होगा।
AD Banner