0

रत्न विज्ञान : जानिए किस लग्न के जातक पहनें पन्ना...

बुधवार,नवंबर 22, 2017
0
1
सोमवार प्रातः अथवा संध्या के समय चांदी में कनिष्ठा में मोती धारण करने से लाभ होता है। धारणकर्ता को राज्य की ओर से ...
1
2
शुक्र महाराज काम के देवता हैं। इनकी प्रसन्नता मानव जीवन को सृजन, कला व आनंद से जोड़ती है। अतः यथायोग्य स्थिति को ज्ञात ...
2
3
नीला पुखराज बहुत अधिक प्रसिद्ध हुआ है। सिल्वर पुखराज चमकदार, पारदर्शी रत्न होता है। इसका मूल्य कम होने के कारण ये बाकी ...
3
4
रत्न भाग्योन्नति में सहायक होते हैं क्योंकि रत्नों में ग्रहों की ऊर्जा होती है। यही शुभ ऊर्जा स्वास्थ्य भी प्रदान करती ...
4
4
5
हमारे शरीर में ओरा होती है, यह नौ रंगों से प्रभावित होती हैं। इन्हीं नौ रंगों का प्रभाव हमारे जीवन पर पड़ता है। आपने ...
5
6
वर्तमान में लॉकेट के रूप में एक नया फैशन चल पड़ा है जिसमें लग्नेश,पंचमेश व नवमेश के रत्न होते हैं। मेरे अनुसार ऐसा करना ...
6
7
जहां रत्न भाग्योन्नति में सहायक होते हैं वहीं रत्नों को कुंडली अनुसार ज्ञान प्राप्त करके धारण करने से रत्न जातक को ...
7
8
ज्योतिष शास्त्र में रत्न पहनने के पूर्व कई निर्देश दिए गए हैं। रत्नों में मुख्यतः नौ ही रत्न ज्यादा पहने जाते हैं। ...
8
8
9
दमकता रत्न मोती हर किसी को पसंद आता है। इसकी गुलाबी आभा न सिर्फ आकर्षण प्रदान करती है बल्कि जीवन की कई विकट समस्याओं ...
9
10
ज्योतिष विद्या में अन्य पूजा अनुष्ठान के अतिरिक्त रत्नों का अहम भूमिका है, लेकिन ज्योतिष में आपकी कुंडली के अनुसार ...
10
11
लाख प्रयास करने पर भी सफलता नहीं मिल रही है तो आपको उन रत्नों को अपनाना होगा। यदि प्रशासनिक क्षेत्र में, राजनीति में, ...
11
12
जो हीरा हल्के रंग की नीलिमा लिए श्वेत वर्ण का या नीली या लाल किरण निःसारित करते हुए सफेद वर्ण का हो या काले बिन्दुओं से ...
12
13
नीलम रत्न को मूल्यवान रत्नों की श्रेणी में रखा जाता है। शनि के उपरत्न कटहला, काकानीली होते हैं। इन्हें नीलम के स्थान पर ...
13
14
ज्योतिष शास्त्र मानता है कि रत्नों को कुंडली के अनुसार धारण करने से रत्न जातक में रोगों से लड़ने की शक्ति पैदा करते ...
14
15
सोना माने गोल्ड अत्यंत पवित्र भी है और अत्यंत मूल्यवान भी है। सोना आपके भाग्य को जगा भी सकता है और सुला भी सकता है। ...
15
16
रत्न जहां भाग्योन्नति में सहायक होते है वहीं यदि रत्नों को कुंडली के अनुसार धारण करने से रत्न जातक को रोगो से लड़ने की ...
16
17
पुखराज को संस्कृत में पुष्पराग, हिन्दी में पुखराज कहा जाता है। यह बृहस्पति ग्रह से संबंधित रत्न है। चौबीस घंटे तक दूध ...
17
18
यदि प्रशासनिक, राजनीति, उच्च प्रशासनिक, धर्म, न्यायाधीश के क्षेत्र में असफल होते हैं तो पुखराज आपको उपरोक्त क्षेत्रों ...
18
19
रत्न जहां भाग्योन्नति में सहायक होते है वहीं यदि रत्नों को कुंडली के अनुसार धारण करने से रत्न जातक को रोगों से लड़ने की ...
19