listing

गोस्वामी तुलसीदासजी कृत महाकाव्य श्रीरामचरितमानस मूल अवधी भाषा में हिन्दी में भावार्थ सहित यहाँ उपलब्ध है। इंटरनेट की दुनिया में वेबदुनिया ने यह महाकाव्य पहली बार साइट पर उपलब्ध कराया है। यह प्रयास धर्मार्थ किया गया है। इसका उद्देश्य जन-जन की प्रिय श्रीरामचरितमानस से इंटरनेट के पाठकों को भी जोड़ना है। नीचे इस महाकाव्य के सभी काण्डों की लिंक दी है। आप जिस भी काण्ड का अध्ययन करना चाहते हैं उसकी लिंक पर क्लिक करें।

 

आगे पढें...

रचियता

national news

गोस्वामी तुलसीदासजी

प्रयाग के पास बाँदा जिले में राणापुर नामक एक ग्राम है। वहाँ आत्माराम दुबे नाम के एक प्रतिष्ठित सरयूपारीण ब्राह्मण रहते थे। उनकी धर्मपत्नी का नाम हुलसी था।...

national news

रामकथा के भगीरथ वाल्मीकि

शिवपुराण में कहा गया है कि दयालु मनुष्य, अभिमानशून्य व्यक्ति, परोपकारी और जितेंद्रीय ये चार पवित्र स्तंभ हैं, जो इस पृथ्वी को धारण किए हुए हैं।...