0

नाम के अनुरूप जानिए 12 राशियों का परिचय एवं महत्व

बुधवार,नवंबर 22, 2017
0
1
कानूनी बाधा दूर होगी। तंत्र‍-मंत्र में रुचि रहेगी। चिंता तथा तनाव रहेंगे।धनार्जन होगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।
1
2

22 नवंबर 2017 : आपका जन्मदिन

मंगलवार,नवंबर 21, 2017
दिनांक 22 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 4 होगा। इस अंक से प्रभावित व्यक्ति जिद्दी, कुशाग्र बुद्धि वाले, साहसी होते हैं। ...
2
3
शुभ विक्रम संवत- 2074, अयन- दक्षिणायन, मास- अगहन, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- रबी अल-अव्वल, तारीख- ...
3
4
तलघर का होना अच्छा और बुरा इस बात पर निर्भर करता है कि वह किसी दिशा और जगह पर है। दूसरी बात यह कि वह किस प्रकार और किस ...
4
4
5
मार्गशीर्ष मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी को भगवान श्रीराम तथा जनकपुत्री जानकी (सीता) का विवाह हुआ था। तभी से इस पंचमी को ...
5
6
प्राचीनकाल से ही यूनानी, रोमन और अरबी लोग भारत में ज्ञान, दर्शन और अध्यात्म की तलाश में आते रहे हैं।भारत में हिन्दूकुश ...
6
7
चेहरा हमारे व्यक्तित्व और स्वभाव का प्रतिनिधित्व करता है। मन के भीतर जो भाव चलते हैं वही चेहरे पर प्रतिबिंबित होते हैं। ...
7
8
श्री गणेश चतुर्थी व्रत की पौराणिक कथा के अनुसार एक बार भगवान शिव तथा माता पार्वती नर्मदा नदी के किनारे बैठे थे। वहां ...
8
8
9
हर माह के शुक्ल पक्ष में आने वाली चतुर्थी को विनायकी चतुर्थी व्रत कहते हैं। पुराणों के अनुसार शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को ...
9
10
हिन्दू तथा ज्योतिष शास्त्र के अनुसार दिशाएं 8 होती है। इनके अलावा 2 दिशाएं आकाश और पाताल को मानी‍ गई है। ये दिशाएं ...
10
11
छींक को प्राय: अशुभ माना जाता है, लेकिन ज्योतिष तथा पौराणिक शास्त्रों के अनुसार छींक बहुत शुभ मानी जाती है। शुभ कार्य ...
11
12
एक छोटी-सी भूल सदियों की सजा बन जाती है, इसलिए हमें जीवन को सही और व्यवस्थित तरीके से जीना चाहिए। जिन मां-बाप ने हमें ...
12
13
पूजा-पाठ में मन लगेगा। कोर्ट व कचहरी में अनुकूलता रहेगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। शत्रु परास्त होंगे। घर की चिंता रहेगी।
13
14

21 नवंबर 2017 : आपका जन्मदिन

सोमवार,नवंबर 20, 2017
अंक ज्योतिष के अनुसार आपका मूलांक तीन आता है। यह बृहस्पति का प्रतिनिधि अंक है। ऐसे व्यक्ति निष्कपट, दयालु एवं उच्च ...
14
15

21 नवंबर 2017 के शुभ मुहूर्त

सोमवार,नवंबर 20, 2017
शुभ विक्रम संवत- 2074, अयन- दक्षिणायन, मास- अगहन, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. मास- रबी अल-अव्वल, तारीख- ...
15
16
तंत्र में देवी, यक्षिणी, पिशाचिनी, योगिनी आदि अनेक दिव्य शक्तियों की साधना का जिक्र मिलता है। साधना के दो मार्ग है एक ...
16
17
वर्तमान में हर मनुष्य तनावभरी जिंदगी जी रहा है, क्योंकि बहुआयामी होने के कारण मनुष्य अत्यंत व्यस्त हो चुका है। इस ...
17
18
हालांकि इतिहास के अधूरे सच को बताने से विवाद की स्थित उत्पन्न होती है। एक समय था जबकि राजपूतों, मराठाओं और सिखों ने ...
18
19
यश्‍चित करने के महत्व को स्मृति और पुराणों में विस्तार से समझाया गया है। गुरु और शिष्य परंपरा में गुरु अपने शिष्य को ...
19