0

ऐसे लोगों का धन जेलखाने, पागलखाने या दवाखाने में हो जाता है बर्बाद

मंगलवार,दिसंबर 18, 2018
0
1
इलायची सलोनी-सी और आकार में छोटी होती है लेकिन यह काम बड़े-बड़े करती है इसलिए इसका प्रयोग केवल स्वाद या सुंगध के लिए ...
1
2
बाहरी व्यक्तियों का संपर्क अनुकूल रहेगा, वहीं यात्राओं के योग बनते रहेंगे। भाग्य की दृष्टि से देखा जाए तो यह साल आपके ...
2
3
दुनिया में ज्यो‍तिष की कई तरह की धारणाएं प्रचलित हैं। तार्किक रूप से आप इनके सही या गलत होने को सिद्ध नहीं कर सकते हैं ...
3
4
पवित्र शास्त्र में ईसा को 'शांति का राजकुमार' नाम से पुकारा गया है। ईसा हमेशा अभिवादन के रूप में कहते थे- 'शांति ...
4
4
5
हाल ही संपन्न हुए पांच राज्यों के चुनावों में कांग्रेस आशातीत सफ़लता प्राप्त कर तीन प्रमुख राज्यों में अपनी सरकार बनाने ...
5
6
'वेबदुनिया' के पाठकों के लिए 'पाक्षिक-पंचाग' श्रंखला में प्रस्तुत है पौष कृष्ण पक्ष का पाक्षिक पंचांग-
6
7
जिन जातकों के जन्म के समय चंद्रमा वृषभ राशि में स्थित होता है, उनकी वृषभ राशि होती है। वृषभ राशि का स्वामी शुक्र है। ...
7
8
मीन राशि : जानिए जनवरी से लेकर दिसंबर 2019 तक का भविष्यफल।
8
8
9
इस राशि के जातक मस्त स्वभाव और दार्शनिक विचार के होते हैं। समाज में आपके विचारों को स्वीकार किया जाता है। आप लोगों की ...
9
10
कुंभ राशि : जानिए जनवरी से लेकर दिसंबर 2019 तक का भविष्यफल।
10
11
इस राशि के जातक उत्तम कद-काठी के इकहरे शरीर वाले व रचनात्मक प्रवृत्ति के होते हैं। आप अपने जीवन को लेकर गहराई से सोचते ...
11
12
बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेंगे। अप्रत्याशित लाभ के योग हैं। लॉटरी व सट्टे से दूर ...
12
13

18 दिसंबर 2018 : आपका जन्मदिन

सोमवार,दिसंबर 17, 2018
अंक ज्योतिष का सबसे आखरी मूलांक है नौ। आपके जन्मदिन की संख्या भी नौ है। यह मूलांक भूमि पुत्र मंगल के अधिकार में रहता ...
13
14
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- दक्षिणायन, मास- अगहन, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1440, मु. मास- रवि उस्सानी, तारीख- ...
14
15
जैसा कि आप जानते हैं कि हिन्दू धर्म, ज्योतिष एवं शास्त्रों के अनुसार खरमास यानि मलमास को निकृष्ट मानकर इस मास में किसी ...
15
16
वेदानुसार यज्ञ पांच प्रकार के होते हैं-1. ब्रह्मयज्ञ, 2. देवयज्ञ, 3. पितृयज्ञ, 4. वैश्वदेव यज्ञ, 5. अतिथि यज्ञ। उक्त ...
16
17
आचार्य वराहमिहिर ने भी पुराण परंपरा का आश्रय ले आज से 1500 वर्ष पूर्व अपनी वृहतसंहिता में रत्नाध्याय का वर्णन करते हुए ...
17
18
हमारे सनातन धर्म में प्रत्येक कार्य के लिए एक अभीष्ट मुहूर्त निर्धारित है, वहीं कुछ अवधि ऐसी भी होती है जब शुभ कार्य के ...
18
19
इन 3 लक्षणों से आप जान सकते हैं, कि राहु आपको शुभ परिणाम दे रहा है या अशुभ परिणाम। अगर राहु के अशुभ परिणाम आपको मिल रहे ...
19