0

हनुमान बाहुक का पवित्र पाठ हनुमान जयंती पर पढ़ लिया तो कोई बाधा नहीं कर सकेगी परेशान

शुक्रवार,अप्रैल 19, 2019
Shri Hanuman Bahuk
0
1
श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि। बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।। बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं ...
1
2
आरती कीजै हनुमान लला की। दुष्ट दलन रघुनाथ कला की।। जाके बल से गिरिवर कांपे। रोग दोष जाके निकट न झांके।।
2
3
यहां पढ़ें जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी की आरती।
3
4
रंग लाग्यो महावीर, थारो रंग लाग्यो। थारी भक्ति करवाने म्हारो भाव जाग्यो ॥ रंग लाग्यो…॥
4
4
5
जय महावीर दया के सागर, जय श्री सन्मति ज्ञान उजागर। शांत छवि मूरत अति प्यारी, वेष दिगम्बर के तुम धारी। कोटि भानु से अति ...
5
6
मकर संक्रांति के अवसर पर यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है श्री सूर्य भगवान की आरती...
6
7
जीवन के भवसागर से पार पाने के लिए हर मनुष्य को प्रतिदिन राम चालीसा और हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करना चाहिए। अगर आप ...
7
8
श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम्। नवकंज लोचन कंज मुखकर, कंज पद कन्जारुणम्।।
8
8
9
अमावस्या हो या पूर्णिमा अथवा श्राद्ध पक्ष के दिनों में संध्या के समय तेल का दीपक जलाकर पितृ-सूक्तम् का पाठ करने से ...
9
10
पितृ कवच का पवित्र पाठ- कृणुष्व पाजः प्रसितिम् न पृथ्वीम् याही राजेव अमवान् इभेन। तृष्वीम् अनु प्रसितिम् द्रूणानो अस्ता ...
10
11
जय अंबे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति। तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥ मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को। ...
11
12
नवरात्रि के पावन पर्व पर यहां सभी पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं पवित्र श्री दुर्गा चालीसा। 9 दिन इसके नित्य पाठ से मां ...
12
13
एकादशी के दिन की पावन आरती- इस आरती में सभी एकादशियों के नाम शामिल है। ॐ जय एकादशी, जय एकादशी, जय एकादशी माता।
13
14
वन्देऽहं शीतलां-देवीं, रासभस्थां दिगम्बराम् । मार्जनी-कलशोपेतां, शूर्पालङ्कृत-मस्तकाम् ।।१ वन्देऽहं शीतलां-देवीं, ...
14
15
मां शीतला एक प्रसिद्ध हिन्दू देवी हैं। इस देवी की महिमा प्राचीनकाल से ही बहुत अधिक है। ये देवी हाथों में कलश, सूप, ...
15
16
शीतला माता जी की आरती- जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता, आदि ज्योति महारानी सब फल की दाता। जय शीतला माता...
16
17
भगवान सूर्य का एक ऐसा कल्याणमय स्तोत्र, जो सब स्तुतियों का सारभूत है। जो भगवान भास्कर के पवित्र, शुभ एवं गोपनीय नाम
17
18
जय गंगाधर हर शिव, जय गिरिजाधीश त्वं मां पालन नित्यं कृपया जगदीश... हर हर महादेव
18
19
शिवजी की आरती- ॐ जय गंगाधर जय हर जय गिरिजाधीशा। त्वं मां पालय नित्यं कृपया जगदीशा॥ हर...॥
19