0

मार्मिक कहानी : छोटी मां

शुक्रवार,जून 8, 2018
0
1
’मां, पता है आज मैंने आपके जैसा हलवा बनाना सीख लिया।’ बेटे ने चम्मच भर गरमागरम हलवा मुंह में डालते हुए कहा।
1
2
विमल बहुत परेशान था। उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वो इस परिस्थिति से कैसे निबटे। वो अपनी मां को बहुत चाहता था किंतु ...
2
3
एक दिन हरे और भगवे रंग में विवाद छिड़ गया। हरा रंग गुर्राकर बोला-
3
4
वृद्धाश्रम के दरवाजे से बाहर निकलते ही उसे किसी कमी का अहसास हुआ, उसने दोनों हाथों से अपने चेहरे को टटोला और फिर पीछे ...
4
4
5
तोता और मैना अपनी मधुर प्रेमवार्ता में तल्लीन थे। मैना मान भरे स्वर में बोली-"देखो,शादी के बाद मुझे एक बड़ाssssssssss सा ...
5
6
पृथ्वी पर जब जीवन-क्रम आरम्भ हुआ,तब उसका समीकरण था-प्रकृति+मनुष्य=जीवन।
6
7
आखिर बहू ने शांत स्वर में कह ही दिया-"मां ,मैं बुखार में तप रही हूं। चक्कर आ रहे हैं। मीनाक्षी दीदी कोई मेहमान तो नहीं। ...
7
8
मुख्य मार्ग पर काफी भीड़ जमा थी। शायद कोई दुर्घटना हो गई थी। सामने से इस ओर ही आ रही कार में बैठे पिता-पुत्री ने यह ...
8
8
9

लघुकथा : धर्मात्मा?

शुक्रवार,अप्रैल 27, 2018
वे नगरसेठों में गिने जाते थे। दान-पुण्य करने में नगर के शीर्षस्थ व्यक्ति। एक दिन वे अपनी नई चमचमाती कार में बैठकर मंदिर ...
9
10
एक राजनेता की किसी समारोह के दौरान चप्पलें गुम हो जाने की वजह से समारोह-स्थल से अपनी कार तक के मात्र दस कदम के फासले को ...
10
11

लघुकथा : इंटरव्यू

शुक्रवार,अप्रैल 20, 2018
इंटरव्यू वाले दिन उसने पड़ोस के धोबी से अनुनय-विनय कर एक अच्छा शर्ट मांगकर पहना और जूते दोस्त से उधार लिए।
11
12

लघुकथा : धरती मां

शुक्रवार,अप्रैल 20, 2018
एक दिन सौरमंडल के ग्रहों की सभा जुटी। सभी को अपनी-अपनी विशिष्टताओं का गुमान था।
12
13

लघुकथा : ठंडक

रविवार,अप्रैल 15, 2018
वह पिछले दिनों बीमार थी। ऑफिस आई तो साथ की सहकर्मी सहनुभूति जताने लगी... अरे, कितनी कमजोर हो गई आप?
13
14
राष्ट्र पर 'राजनीति' का एकछत्र राज चल रहा था। उसके राज में 'तंत्र' सतत् प्रगतिशील और 'लोक' निरंतर पतनशील था।फिर भी ...
14
15

लघुकथा : सम्मान और सामान

शनिवार,अप्रैल 14, 2018
एक दिन एक बहु उनके पैर पूरी तरह से झुककर नहीं पड़ सकी तो झल्ला पड़े,'पढ़ी लिखी हो?' ऐसे पड़ते हैं पैर...?
15
16
अब मैं कभी सहेलियों के साथ नहीं खेल पाऊंगी, कभी दौड़कर खाने की चीज लेने नहीं जा पाऊंगी, कभी पाठ नहीं पढूंगी और इबारत भी ...
16
17
एक दिन कल्पना ने अपने सुन्दर पंखों को फड़फड़ाकर यथार्थ की ओर उपेक्षा भरी दृष्टि डालते हुए कहा-"तुम कितने असुंदर हो-सिर ...
17
18
एक दिन लंबी कथा ने अपने वर्चस्व के एकाधिकार पर लघुकथा का खासा डाका पड़ते देख उसे 'कौन श्रेष्ठ' की प्रतिस्पर्धा का ...
18
19
एक समय की बात है एक गाँव में एक ब्राह्मण रहता था। एक बार किसी परिवर ने उसे अपने यहा ब्राह्मण भोज पर बुलाया और दान में ...
19