0

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...

सोमवार,जून 18, 2018
0
1
चातुर्मास : जैन धर्म में इसे सामूहिक वर्षायोग तथा चातुर्मास के रूप में जाना जाता है। मान्यता है कि बारिश के मौसम के ...
1
2
*पर्युषण का अर्थ है परि यानी चारों ओर से, उषण यानी धर्म की आराधना। श्वेतांबर और दिगंबर समाज के पर्युषण पर्व भाद्रपद मास ...
2
3
जैन धर्म को यूं तो 10 पॉइंट में नहीं समेटा जा सकता लेकिन मोटे तौर पर आप इन 10 पॉइंट में ही बहुत कुछ जान सकते हैं। इनके ...
3
4
जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान आदिनाथ को एक वर्ष तक भूखे रहना पड़ा। इसके बाद वे अपने पौत्र श्रेयांश के राज्य ...
4
4
5
जैन धर्म में अक्षय तृतीया का विशेष महत्व है। इसी दिन जैन धर्म के पहले तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव का प्रथम आहार हुआ था, उस ...
5
6
जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का जीवन ही उनका संदेश है। उनके सत्य, अहिंसा, अपरिग्रह, ब्रह्मचर्य और ...
6
7
महावीर स्वामी कहते हैं कि इस धरती पर जितने भी प्राणी हैं, वे सब अपने-अपने संचित कर्मों के कारण ही संसार में चक्कर लगाया ...
7
8
महावीर स्वामी कहते हैं- हे पुरुष, तू आत्मा के साथ ही युद्ध कर। बाहरी शत्रुओं के साथ किसलिए लड़ता है? आत्मा द्वारा ही ...
8
8
9
प्राचीन तीर्थस्थल श्रवणबेलगोला में 12 साल गुजरने के बाद पुन: महामस्तकाभिषेक शुरू हो गया है। कर्नाटक राज्य के हासन जिले ...
9
10
भारत के सात भारत के सात आश्चर्यों में शामिल श्रवणबेलगोला। यह प्राचीन तीर्थस्थल कर्नाटक राज्य के हासन जिले में स्थित है। ...
10
11
जैन धर्म दुनिया का सबसे प्राचीन धर्म है। राजा जनक भी जिन परंपरा से ही थे और उनके गुरु अष्टावक्र भी जिन परंपरा से थे। ...
11
12
जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर ऋषभनाथ के दो पुत्र हुए भरत और बाहुबली। भरत के नाम पर ही इस देश का नाम भारत रखा गया था। ...
12
13
भगवान बाहुबली की आरती- चंदा तू ला रे चंदनिया, सूरज तू ला रे किरणां… तारा सू जड़ी रे थारी आरती रे बाबा नैना संवारूं…थारी ...
13
14
जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव और हिंदुओं के प्रथम देव भगवान शंकर में अद्भुत समानता है। आओ हम यहां जानते हैं ...
14
15
महान और प्राचीन धर्म जैन धर्म में 63 शलाका पुरुषों के अलावा भी अन्य कई पुण्य पुरुष हुए हैं। हालांकि यदि हम कैवल्य ज्ञान ...
15
16
जैन धर्म में 24 तीर्थंकर हुए हैं। तीर्थंकर का अर्थ है- जो तारे, तारने वाला। तीर्थंकर को अरिहंत कहा जाता है। मूलत: यह ...
16
17
जिसके भाग्य में जो लिखा है, उसे वही मिलेगा और परेशान होने से कुछ अतिरिक्त प्राप्त नहीं होने वाला। सर्वोच्च सत्ता ईश्वर ...
17
18
जैन शब्द जिन शब्द से बना है। जिन बना है 'जि' धातु से जिसका अर्थ है जीतना। जिन अर्थात जीतने वाला। जिसने स्वयं को जीत ...
18
19
मां पद्मावती का यह स्तोत्र संकटमोचन तथा प्रत्यक्ष प्रभावी है। इस स्तोत्र का नित्य 40 दिन तक पाठ करने से जीवन के सभी ...
19