0

क्यों जरूरी है मूल नक्षत्र की शांति, पढ़ें यह जरूरी जानकारी

गुरुवार,जून 14, 2018
0
1
ज्योतिषियों के अनुसार यह 5 तारों का समूह है, जो धरती से किसी भूसा गाड़ी की तरह दिखाई देता है। भूसा गाड़ी जैसी आकृति का ...
1
2
रोहिणी नक्षत्र आकाश मंडल में चौथा नक्षत्र है। राशि स्वामी जहां शुक्र है, वहीं नक्षत्र स्वामी चंद्रमा है। इस राशि वालों ...
2
3
रोहिणी जातक सुंदर, शुभ्र, पति प्रेम, संपादन करने वाले, तेजस्वी, संवेदनशील, संवेदनाओं से जीते जा सकने वाले, सम्मोहक तथा ...
3
4
जीवन में कभी-कभी हमारा कोई कीमती सामान या दैनिक उपयोग की वस्तु अचानक खो जाती है। अपनी प्रिय वस्तु के अचानक खो जाने के ...
4
4
5
हमारे ज्योतिष शास्त्र में नक्षत्र के अनुसार रोगों का वर्णन किया गया है। व्यक्ति की कुंडली में नक्षत्र अनुसार रोगों का ...
5
6
विवाह का दिन तय करते समय नक्षत्र एक अहम कारक होता है। विवाह के दिन कौन सा नक्षत्र होगा ... कहीं अशुभ तो नहीं...
6
7
अगर आपको शुभ कार्य करना है तो शुभ और कोमल नक्षत्र में कार्य शुरू करना चाहिए। इसी प्रकार क्रूर कार्य के लिए कठोर और ...
7
8
हिन्दू धर्म के अनुसार नक्षत्र, महीनों के जो नाम रखे गए हैं उनसे मौसम की ऋतुएं जुड़ीं है। इनका ज्योतिषीय आधार भी है। ...
8
8
9
पुष्य नक्षत्र के देवता बृहस्पति देव माने गए हैं और शनि को इस नक्षत्र का दिशा प्रतिनिधि‍ माना जाता है। चूंकि बृहस्पति ...
9
10
अश्विनी नक्षत्र में जन्मे लोग अगर यातायात से जुड़ा कोई कार्य करेंगे तो उन्हें सफलता मिलेगी। इसके अलावा खेल, दवाइयां, ...
10
11
फलित और मुहूर्त ज्योतिष की दुनिया बहुत ही निराली है। बहुत से भयदायक योगों का प्रचलन हुआ। इनमें विशेष रूप से शनि की ...
11
12
गोचरवश परिवर्तित होता नक्षत्र मान। चन्द्रमा पथ सत्ताईस नक्षत्र भ्रमण रथ।
12
13
शुक्र ग्रह पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र से परिभ्रमण करते हुए 26 /4 /2017 को मेष राशि के उत्तरा भाद्रपद नक्षत्र में रात्रि ...
13
14
ज्योतिष में पंचक को शुभ नक्षत्र नहीं माना जाता है। इसे अशुभ और हानिकारक नक्षत्रों का योग माना जाता है। नक्षत्रों के मेल ...
14
15
आकाश मंडल में आर्द्रा छठवां नक्षत्र है। यह राहु का नक्षत्र है व मिथुन राशि में आता है। यह कई तारों का समूह न होकर केवल ...
15
16
कार्तिक अमावस्या के पूर्व आने वाले पुष्य नक्षत्र को शुभतम माना गया है। जब यह नक्षत्र सोमवार, गुरुवार या रविवार को आता ...
16
17
ज्योतिष शास्त्र में समस्त आकाश मंडल को 27 भागों में विभक्त कर प्रत्येक भाग का नाम एक-एक नक्षत्र रखा गया है। सूक्ष्मता ...
17
18
'धनिष्ठा' का अर्थ होता है 'सबसे धनवान'। वैदिक ज्योतिष की गणनाओं के लिए महत्वपूर्ण माने जाने वाले 27 नक्षत्रों में से ...
18
19
'श्रवण' का अर्थ होता है 'सुनना' और जो सुना गया है। उत्तराषाढ़ा और धनिष्ठा के बीच में श्रवण नक्षत्र होता है। नक्षत्र ...
19