जन्नत पुकारती है...

सोमवार,नवंबर 11, 2013
उसको रुखसत तो किया था, मुझे मालूम न था, सारा घर ले गया, घर छोड़ के जानेवाला - निदा फ़ाज़ली

जान लेने का हक़ नहीं वरना

मंगलवार,जून 16, 2009
फ़ैसले सच के हक़ में होते हैं मैं अभी तक इसी गुमान में था---- अशफ़ाक़ अंजुम
न समझने की ये बातें हैं न समझाने की , ज़िंदगी उचटी हुई नींद है दीवाने की - फिराक़
Widgets Magazine

ज़िंदगी मैं भी मुसाफ़िर हूँ...

शुक्रवार,मार्च 13, 2009
तुम्हारे साथ ये मौसम फ़रिश्तों जैसा है , तुम्हारे बाद ये मौसम बहुत सतायेगा - बशीर बद्र

अशआर : (मजरूह सुलतानपुरी)

शुक्रवार,जनवरी 2, 2009
जला के मिशअले-जाँ हम जुनूँ सिफ़ात चले जो घर को आग लगाए हमारे सात चले

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया

शुक्रवार,दिसंबर 26, 2008
होगा कोई ऐसा भी जो ग़ालिब को न जाने शाइर तो वो अच्छा है प बदनाम बहुत है

ग़ज़ल में तसव्वुफ़ (भक्ति भाव)

गुरुवार,दिसंबर 18, 2008
जब यार देखा नयन भर दिल की गई चिंता उतर ऐसा नहीं कोई अजब राखे उसे समझाए कर
Widgets Magazine
हर एक रास्ता मंज़िल है चल सको तो चलो बने बनाए हैं सांचे जो ढल सको तो चलो

मैं अक्सर चाँद पर जाता हूँ

बुधवार,दिसंबर 10, 2008
तुम हो क्या ये तुम्हें मालूम नहीं है शायद, तुम बदलते हो तो मौसम भी बदल जाते हैं...

जोया के अशआर

सोमवार,दिसंबर 1, 2008
ज़िन्दगी लगती है इक प्यारी ग़ज़ल सी लेकिन, इस का हर शे'र बड़ा दर्द भरा होता है।

दिल से पहुँची तो हैं

बुधवार,नवंबर 26, 2008
सब ग़लत कहते थे लुत्फ़-ए-यार को वजहे-सुकूँ दर्द-ए-दिल उसने तो हसरत और दूना कर दिया-------हसरत मोहानी

आप बन्दा नवाज़ क्या जानें

शुक्रवार,नवंबर 21, 2008
मेरे दिल को किया बेख़ुद तेरी अंखयाँ ने आख़िर कूँ के जूँ बेहोश करती है शराब आहिस्ता आहिस्ता ----------वली
इतना न अपनी क़िस्मत-ए-रोशन पे नाज़ कर चढ़ता है आफ़ताब तो ढलता ज़रूर है आया था अपने गाँव से दामन में लेके फूल जाता ...

मुफ़लिसी सब बहार खोती है

शनिवार,नवंबर 15, 2008
ज़िन्दगी है या कोई तूफ़ान है, हम तो इस जीने के हाथों मर चले।------

ख़ुदा है वो भी

बुधवार,नवंबर 12, 2008
लोग ख़ुश हैं उसे दे-दे- के इबादत का फ़रेब वो मगर ख़ूब समझता है ख़ुदा है वो भी -------ग़नी एजाज़
हम सायादार पेड़ ज़माने के काम आए जब सूखने लगे तो जलाने के काम आए
दोस्तों ने भी तमन्नाओं को पामाल किया दुश्मनों पर ही न इलज़ाम लगाया जाए
तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं ------फ़ैज़