0

जानिए बैसाखी पर्व से संबंधित खास काम की बातें...

शुक्रवार,अप्रैल 13, 2018
0
1
पूरे देश में श्रद्धालु गुरुद्वारों में अरदास के लिए इकट्ठे होते हैं। मुख्य समारोह आनंदपुर साहिब में होता है, जहां पंथ ...
1
2
बैसाखी पंजाब और आसपास के प्रदेशों का सबसे बड़ा त्योहार है। यह रबी की फसल के पकने की खुशी का प्रतीक है।
2
3
बैसाखी पर्व को सिख समुदाय नए साल के रूप में मनाते हैं। वर्ष 2018 में शनिवार, 14 अप्रैल को बैसाखी का पर्व मनाया जा रहा ...
3
4
गुरु अर्जन देव का जन्म सिख धर्म के चौथे गुरु, गुरु रामदासजी व माता भानीजी के घर वैशाख वदी सप्तमी (7) को गोइंदवाल ...
4
4
5
सिक्खों के नौवें गुरु, गुरु तेगबहादुर सिंह का जन्म पंजाब के अमृतसर में हुआ था। उनके पिता का नाम गुरु हरगोबिंद सिंह था। ...
5
6
लोहड़ी को दुल्ला भट्टी की एक कहानी से भी जोड़ा जाता है। लोहड़ी के सभी गाने दुल्ला भट्टी से ही जुड़े हैं तथा यह भी कह ...
6
7
लोहड़‍ी पर्व पर 13 जनवरी को पंजाबी समुदाय में परिवार के सदस्यों के साथ लोहड़ी पूजन की सामग्री जुटाकर शाम होते ही विशेष ...
7
8
बिहार राज्य की राजधानी पटना में गुरु गोविंद सिंह जी का जन्म 1666 ई. को हुआ था। सिख धर्म के नौवें गुरु तेगबहादुर साहब की ...
8
8
9
गुरु गोविंद सिंहजी आध्यात्मिक गुरु थे जिन्होंने मानवता को शांति, प्रेम, एकता, समानता एवं समृद्धि का रास्ता दिखाया। ...
9
10
परोपकारी गुरु गोविंदसिंहजी में सबसे बड़ी बात गुरु यह थी कि वे अपने आपको औरों जैसा सामान्य व्यक्ति ही मानते थे। गुरु ...
10
11
आज सिखों के नौवें गुरु तेगबहादुर जी का शहीदी पर्व है। गुरु तेगबहादुर जी का जन्म पंजाब के अमृतसर में हुआ था। उनके बचपन ...
11
12
गुरुनानक देवजी का अवतरण संवत्‌ 1526 में कार्तिक पूर्णिमा को माता तृप्ता देवीजी और पिता कालू खत्रीजी के घर श्री ननकाना ...
12
13
एक समय की बात है। गुरु नानक बगदाद गए हुए थे। वहां का शासक बड़ा ही अत्याचारी था। वह जनता को कष्ट तो देता ही था, उनकी ...
13
14
श्री गुरु रामदास साहेबजी का जन्म कार्तिक वदी 2 को पिता हरदासजी के घर माता दयाजी की कोख से लाहौर (अब पाकिस्तान में) की ...
14
15
गुरु हरगोविंद सिंह सिखों के 6ठे गुरु थे। उनका जन्म बडाली (अमृतसर, भारत) में हुआ था। वे सिखों के 5वें गुरु अर्जुनसिंह के ...
15
16
गुरु अर्जन देव एक शिरोमणि, सर्वधर्म समभाव के प्रखर पैरोकार होने के साथ-साथ मानवीय आदर्शों को कायम रखने के लिए आत्म ...
16
17
विश्व इतिहास में धर्म एवं मानवीय मूल्यों, आदर्शों एवं सिद्धांत की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति देने वालों में गुरु तेग ...
17
18
यह ऐतिहासिक क्रांतिकारी दिन था जिस दिन गुरुजी ने धर्म एवं मानवीय मूल्यों की रक्षा, राष्ट्र की विराट धर्मनिरपेक्ष ...
18
19
सिख धर्म के विशेषज्ञों के अनुसार पंथ के प्रथम गुरु, गुरु नानकदेवजी ने वैशाख माह की आध्यात्मिक साधना की दृष्टि से काफी ...
19