0

दीपिका जी... सुन रही हैं ना...

शुक्रवार,नवंबर 17, 2017
0
1
चौराहों पर लगी ये लाल बत्तियां सिगरेट के डब्बे पर लिखी हुई वैधानिक चेतावनियों से अधिक कुछ भी नहीं। ऐसा प्राय: उन ...
1
2
विषम परिस्थितियों में ताबड़तोड़ थोपे गए निरर्थक समाधान को ही ‘सम-विषम’ कहा जाता है। दिल्लीवाले आम आदमी इसे ऑड़-ईवन, ...
2
3
सोशल मीडिया पर रोज नई-नई खिचड़ी पकती रहती है। अब असल में ही खिचड़ी पकाकर राष्ट्रीय व्यंजन बना दिया गया। पिछले दिनों सोशल ...
3
4
देश में सर्दी, बारिश और गर्मी का अपना मौसम है या यूं कहा जाए कि इन मौसमों से ही आम जनजीवन चलता है। मगर एक ऐसा मौसम भी ...
4
4
5
जब नीचे लिख ही दिया है कि ‘जगह मिलने पर साइड दी जाएगी’ तो ‘हॉर्न प्लीज’ लिखने की क्या जरूरत है? और जब हॉर्न प्लीज लिखा ...
5
6
'भक्त' सौ सुनार की और एक लोहार की साबित हुआ है जबकि 'राष्ट्रद्रोह' दहले पर नहला ही रह गया। मैं बताता हूं कैसे- भक्त, एक ...
6
7
कक्षा नौवीं की गणित में प्रमेय सिद्ध करना सिखाते हैं। जो लोग शौकिया तौर पर हिन्दी पढ़ते हैं, उनके लिए बता दूं कि प्रमेय ...
7
8
सोशल मीडिया की दुनिया से आज बहुत कम लोग अछूते हैं। हम में से अधिकतर लोग व्हॉट्‍सएप पर चैट करते हैं, लेकिन अपने ऑनलाइन ...
8
8
9
जबसे चोटी कटने की घटनाएं सामने आ रही हैं, मेरी श्रीमती में असुरक्षा की भावनाएं बढ़ गई हैं। वे हरदम एक ही बात से भयभीत ...
9
10
झिलाउ, पकाऊ और उबाऊ होने की भी एक सीमा है... मुझे लगता है कि यह भी एक कला है... इसे मेंटेन करना कितना मुश्किल होता होगा ...
10
11
अब तो मोबाईल का जमाना आ गया है, वरना टेलीफोन के जमाने में हमारे जैसों को भी लोगों को नौकरी पर रखने के अधिकार थे।
11
12

नाच न आवे आंगन टेढ़ा

शनिवार,अप्रैल 15, 2017
बचपन में कभी न कभी 'खेलेंगे या खेल बिगाड़ेंगे' का नारा बुलंद किया ही होगा आपने। मैंने भी किया है। मेरी समझ में ...
12
13
एक महाशय सुबह से इसी बात पर नाराज थे कि जिसे देखो, सेल्फी खींचकर डालने पर अड़ा है, पड़ा है, सड़ा है। सेल्फी देख-देखकर ...
13
14

हिन्दी व्यंग्य : ठेकेदारी

शनिवार,अप्रैल 8, 2017
ठेकेदारी एक व्यवसाय है। परंपरागत रूप से जिसका मतलब कुछ न कुछ निर्माण करने वाली संस्था या व्यक्ति या व्यक्ति समूह से है, ...
14
15
गजब ये है कि अपनी मौत की आहट नहीं सुनते, वो सबके सब परेशां हैं, वहां पर क्या हुआ होगा।
15
16

आईए ,कभी गधा बन कर देखिए

मंगलवार,फ़रवरी 28, 2017
राजनीति‍ में अब गधे भी शामिल हो गए। अरे आप गलत समझ रहे हैं, मैं वो नहीं कह रहा हूं जो आप समझ रहे हैं। खैर मर्जी आपकी, ...
16
17
बसंत बहुत फेमस है पुराने समय से, बसंती भी धन्नो सहित 'शोले' के जमाने से फेमस हो गई है। बसंत हर साल आता है, जस्ट आफ्टर ...
17
18
देश की राजधानी में विश्व स्तर के पुस्तक मेले का आयोजन एक बार पुनः मेरी उपस्थिति के बिना आरम्भ हो गया। इस प्रकार के ...
18
19
पतंगों का मौसम है। सारे पतंगबाज पतंगों को उड़ाने, लूटने और अटकाने जैसी आवश्यक क्रियाओं में लिप्त हैं। ये पतंगबाज ...
19