0

विवेक शानभाग के उपन्यास ‘घाचर-घोचर’का लोकार्पण

गुरुवार,अक्टूबर 4, 2018
ghaghar ghochar
0
1
100 से अधिक कविताओं और गीतों के इस संग्रह का नाम है- 'दिल ही तो है।' संग्रह की कविताएं झकझोरती,हतप्रभ करती हैं, सोचने ...
1
2
जसराज के जन्मते ही पिता पं. मोतीराम ने उन्हें शहद चटाया था। उनके घर में इसे घुट्टी पिलाना कहा जाता है। मां कृष्णा बाई ...
2
3
'आचमन, प्रेम जल से' काव्य संग्रह की रचनाकार ई. अर्चना नायडू हैं। यह इनका द्वितीय काव्य संग्रह है। अनेक पत्र-पत्रिकाओं ...
3
4
किताब के आखि‍र में इस्मत के चुनिंदा ख़तूत और डायरियां भी हैं जो आपके पढ़ने के लुत्फ को बढ़ाएंगी। यहां इस्मत के अफसाने, फन ...
4
4
5
'प्रोस्तोर' एक लघु उपन्यास एमएम चन्द्राजी द्वारा लिखा डायमंड बुक्स से प्रकाशित है। आज बड़े-बड़े उपन्यास लिखे जाने के दौर ...
5
6
लखनऊ के बारे में और अधिक जानने की ललक जगा रही है पूर्व मंत्री व सांसद लालजी टंडन की पुस्तक 'अनकहा लखनऊ'। भारत के उप ...
6
7
देश में राष्ट्रवाद से जुड़ी बहस इन दिनों चरम पर है। राष्ट्रवाद की स्वीकार्यता बढ़ी है। उसके प्रति लोगों की समझ बढ़ी है। ...
7
8
ये पुस्तक दरअसल कोई कहानी नहीं, बल्कि एक संस्मरण है। नवोदय में बिताए उन 7 सालों का एक रिकैप। अगर आप वहां से पढ़े हुए हैं ...
8
8
9
देश की समस्याओं को सुलझाने के लिए वैज्ञानिकों को मन एवं आत्मा के साथ अलग नजरिये से कार्य करने की जरूरत है। यह बात ...
9
10
समाज की 4 बड़ी बुराइयां,4 युवतियां और उनकी 4 अधूरी कहानियां....'चार अधूरी बातें' युवा लेखक अभिलेख द्विवेदी का लघु ...
10
11
रात के अंधेरे में जीवन के गहरे रहस्य छुपे होते हैं। जीवन भी कई बार निराशाओं और अवसाद की काली रात से गुजरता है, लेकिन उस ...
11
12
सौरव की ये बातें हम उनके द्वारा लिखी गई किताब 'ए सेंचुरी इज़ नॉट इनफ' में महसूस कर सकते हैं। दादा ने अपने क्रिकेटीय ...
12
13
ऐतिहासिक रूप से ​नागरिकता की निर्मिती बहिष्करणों की एक श्रृंखला से हुई जिसमें लोगों के एक बड़े तबके को ​नागरिकता के लिए ...
13
14
दीपक रमोला के प्रथम काव्य संग्रह में संकलित कविताएं उनके जीवन की स्वानुभूत अभिव्यक्तियां हैं जिनमें उनका हृदय धड़कता है। ...
14
15
'मोहे रंग दो लाल' तीक्ष्ण व्यंजना बोध, रससिक्त पठनीयता और गहरी सामाजिक चेतना से आबद्ध शोधदृष्टि के कारण सहज ही पाठकों ...
15
16

पुस्तक अंश : मुंबई की लोकल

मंगलवार,फ़रवरी 13, 2018
अकेला घर हुसैन का', 'कटौती' और 'जिबह बेला' के बाद निलय उपाध्याय का चौथा काव्य संकलन है मुंबई की लोकल। निरंतर बाजारू ...
16
17
रसिया, द डांस ऑफ डिजायर में वह सब है जो एक नाजुक मन पढ़ना चाहता है, जो एक सच्चा कलाकार महसूस करता है, जो अपने रिश्तों ...
17
18
विशिष्ट अंदाज में लिखा ये उपन्यास आज की युवा पीढ़ी को प्यार के सही मायने समझाने के साथ ही उनका पथ प्रदर्शक साबित होगा।
18
19
विचार एवं अभिव्यक्ति मनुष्य के नैसर्गिक गुण हैं, जो उसे जन्म से प्राप्त होते हैं। वह इनका उपयोग भी अपने जन्मसिद्ध ...
19