0

जानिए, श्रीकृष्ण की मृत्यु कब, कहां और कैसे हुई?

गुरुवार,मई 24, 2018
0
1
महर्षि भृगु के प्रपौत्र, वैदिक ॠषि ॠचीक के पौत्र, जमदग्नि के पुत्र, महाभारतकाल के वीर योद्धाओं भीष्म, द्रोणाचार्य और ...
1
2
कहते हैं कि वे कलिकाल के अंत में उपस्थित होंगे। ऐसा माना जाता है कि वे कल्प के अंत तक धरती पर ही तपस्यारत रहेंगे। ...
2
3
अयोध्या के राजा हरिशचंद्र बहुत ही सत्यवादी और धर्मपरायण राजा थे। वे भगवान राम के पूर्वज थे। वे अपने सत्य धर्म का पालन ...
3
4
बहुत से ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य एवं दलित समाज के लोग वशिष्ठ गोत्र लगाते हैं। वे सभी वशिष्ठ कुल के हैं। वशिष्ठ नाम से ...
4
4
5
ऋग्वेद के मंत्रद्रष्टा और गायत्री मंत्र के महान साधक सप्तऋषियों में से एक महर्षि वशिष्ठ के पौत्र महान वेदज्ञ, ...
5
6
मनुष्य की उत्पत्ति का सिद्धांत हर धर्म में अलग-अलग है। मनुष्य की उत्पत्ति कब हुई, कैसे हुई और क्या मनुष्य बंदरों का ...
6
7
बहुत प्राचीनकाल में लोग हिमालय के आसपास ही रहते थे। वेद और महाभारत पढ़ने पर हमें पता चलता है कि आदिकाल में प्रमुख रूप ...
7
8
सनातन या आर्य धर्म को वर्तमान में हिंदू धर्म कहा जाता है। जिस तरह ईसाई धर्म में पोप, इस्लाम में इमाम या खलिफा, बौद्धों ...
8
8
9
हनुमानजी बहुत ही जल्द प्रसन्न होने वाले देवता हैं। उनकी कृपा आप पर निरंतर बनी रहे इसके लिए पहली शर्त यह है कि आप मन, ...
9
10
महा अवतार बाबा कौन है? कहां रहते हैं और क्या सचमुच ही वे 5000 वर्षों से जिंदा हैं? सचमुच महा अवतार बाबा का रहस्य बरकरार ...
10
11
महाराष्ट्र भारतीय संस्कृति और धर्म का प्रमुख केंद्र रहा है और आज भी है। वैसे तो महाराष्ट्र में बहुत संत हुए हैं। यह ...
11
12
भगवान शिव अर्थात पार्वती के पति शंकर जिन्हें महादेव, भोलेनाथ, आदिनाथ आदि कहा जाता है, उनके बारे में यहां प्रस्तुत हैं ...
12
13
पार्वती के पति शंकर जिन्हें महादेव, भोलेनाथ, आदिनाथ और शिव भी कहा है। माना जाता है कि उनकी हर धर्म में किसी न किसी रूप ...
13
14
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में 'पिनाक' धनुष है, जो सत् स्वरूप हैं ...
14
15
सांईं बाबा शिर्डी में आने से पहले कहां थे? शिर्डी में आने के बाद वे शिर्डी छोड़कर चले गए थे और और फिर एक बारात में आने ...
15
16
उपनिषद अनुसार जन्म और मृत्यु के बीच तीन अवस्थाएं होती हैं:- 1.जागृत, 2.स्वप्न और 3.सुषुप्ति। उक्त तीन अवस्थाओं से बाहर ...
16
17
आदि वराह से पहले नील वराह और उनके बाद श्वेत वराह हुए जिनके बारे में कम ही लोग जानते होंगे। तीनों के काल को मिलाकर वराह ...
17
18
भगवान विष्णु के अवतार के बारे में तो सभी जानते हैं लेकिन भगवान शिव के अवतारों के बारे में बहुत कम लोग जानते होंगे और ...
18
19
हिन्दुओं के देवी या देवता 33 है या 33 करोड़ यह बहस का विषय नहीं है। वेद पढ़ों तो सम समझ में आ जाएगा। बहस वे करते हैं ...
19