0

पावन अमरनाथ यात्रा की शिव-पार्वती कथा

गुरुवार,दिसंबर 14, 2017
0
1
प्रस्तुत है कुछ ऐसे विशेष मंत्र हैं जिनका श्रावण मास में प्रतिदिन रुद्राक्ष की माला से जप करने से सुख, अपार धन संपदा, ...
1
2
शिव स्वरोदय सभी को जानना चाहिए,विशेषरूप से शिव से लगाव रखने वाले साधकों को इस विधा का परिचय होना ही चाहिए।
2
3
मान्यता है कि श्रावण मास में कृष्ण जी प्रसन्न अवस्था में रहते हैं और मनचाहे वर देते हैं। जानिए राशि के अनुसार कैसे करें ...
3
4
एक बार की बात हैं सावन के महीने में अनेक ऋषि क्षिप्रा नदी में स्नान कर उज्जैन के महाकाल शिव की अर्चना करने हेतु एकत्र ...
4
4
5
क्या आप जानते हैं कावड़ यात्रा का इतिहास, सबसे पहले कावड़िया कौन थे। इसे लेकर अलग- अलग क्षेत्रों में अलग-अलग मान्यता है ...
5
6
श्रावण मास की आने वाली हरियाली अमावस्या का विशेष महत्व है। इस अवसर पर शिव पूजन का बहुत ही महत्व है। इस दिन मंदिरों में ...
6
7
श्रावण मास के 2 सोमवार बीत चुके हैं। लेकिन अगर आप प्रति सोमवार के महादेव के अनुसार अभी तक पूजन ना कर सके हैं तो कोई बात ...
7
8
श्रावण मास में आप अपनी व्यस्तता की वजह से मनचाही पूजा नहीं कर पा रहे हैं तो परेशान ना हो। जब भी समय मिले यह 3 सरल उपाय ...
8
8
9
श्रावण मास में सबसे ज्यादा बेलप‍त्र यानी बिल्वपत्र का महत्व बढ़ जाता है। क्या आप जानते हैं बेलपत्र के उत्पन्न होने की ...
9
10
दुनिया भर में नासिक को कुंभ के मेले की पहचाना जाता है। लेकिन यहां पर एक शिव मंदिर ऐसा है। जिसमें शिव के प्रिय वाहन नंदी ...
10
11
श्रावण मास वर्षा ऋतु का महीना है। इसी माह में श्रावण सोमवार, मंगला गौरी व्रत, हरियाली अमावस्या, हरियाली तीज, नागपंचमी, ...
11
12
मंत्र जाप और पूजा में विधानों का महत्व है। जब मंत्र जाप या पूजा करते हैं तो उससे पहले विधान होता है भूमि शुद्धिकरण का। ...
12
13
ज्योतिर्लिंग उत्पत्ति के संबंध में अनेकों मान्यताएं प्रचलित है। विक्रम संवत के कुछ सहस्राब्‍दी पूर्व उल्कापात का अधिक ...
13
14
मैं अपने मन में ऐसी भावना करता हूं कि हे पशुपति देव! संपूर्ण रत्नों से निर्मित इस सिंहासन पर आप विराजमान होइए। हिमालय ...
14
15
श्रावण महीने में भगवान शिव को प्रसन्न करने व अपनी मनोकामनाएं पूरी करने के लिए निम्नानुसार शिव पूजन किया जाए तो ...
15
16
सावन मास को सर्वोत्तम मास कहा जाता है। यह 5 पौराणिक तथ्य बताते हैं कि क्यों सावन है सबसे खास...
16
17
सावन मास को मासोत्तम मास कहा जाता है। यह माह अपने हर एक दिन में एक नया सवेरा दिखाता है। इसके साथ जुड़े समस्त दिन ...
17
18
आज जो राजा महाकालेश्वर की सवारी का भव्य स्वरूप है उसका संपूर्ण श्रेय श्री बुच साहब को जाता है। यह बात बहुत कम लोगों को ...
18
19
देवताओं की प्रार्थना पर, भगवान शिव विषपान के लिए तैयार हो गए। उन्होंने भयंकर विष को हथेलियों में भरा और भगवान विष्णु का ...
19