0

कैसे मिले महावीर स्वामी को उनके अन्य नाम, पढ़ें अनूठी कथाएं...

बुधवार,मार्च 28, 2018
0
1
जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर के जन्मदिवस को आज महावीर जयंती के नाम से जाना जाता है। जैन समाज द्वारा पूरे ...
1
2
भगवान महावीर स्वामी आदमी को उपदेश और दृष्टि देते हैं कि धर्म का सही अर्थ समझो। धर्म तुम्हें सुख, शांति, समृद्धि, समाधि, ...
2
3
महावीर स्वामी कहते हैं ब्रह्मचर्य उत्तम तपस्या, नियम, ज्ञान, दर्शन, चारित्र, संयम और विनय की जड़ है।
3
4
महावीर स्वामी कहते हैं- हे पुरुष, तू आत्मा के साथ ही युद्ध कर। बाहरी शत्रुओं के साथ किसलिए लड़ता है? आत्मा द्वारा ही ...
4
4
5
महाराजा सिद्धार्थ ने महारानी त्रिशला द्वारा देखे गए सपनों की जानकारी जब स्वप्नवेत्ताओं को दी तो स्वप्नवेत्ता बोले- ...
5
6
महावीर कहते हैं कि धर्म सबसे उत्तम मंगल है। अहिंसा, संयम और तप ही धर्म है। महावीरजी कहते हैं- 'जो धर्मात्मा है, जिसके ...
6
7
संपूर्ण भारत में जैन धर्म के पवित्र स्थानों में से एक मंदिर राजस्थान में 'श्री महावीरजी' नाम से प्रसिद्ध है। यह मंदिर ...
7
8
पुष्कलावती नामक देश के एक घने वन में भीलों की एक बस्ती थी। उनके सरदार का नाम पुरूरवा था। उसकी पत्नी का नाम कालिका था। ...
8
8
9
जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का जीवन ही उनका संदेश है। उनके सत्य, अहिंसा, अपरिग्रह, ब्रह्मचर्य और ...
9
10
महावीर स्वामी का प्रमुख संदेश था, 'जिओ और जीने दो'। उन्होंने जैनियों के तीन प्रमुख लक्षण बतलाए है, जो निम्न हैं...
10
11
महावीर को तप करते हुए 12 वर्ष व्यतीत हो गए। एक बार गहरी तप-साधना के बाद महावीर थककर चूर हो गए थे। थकान के कारण रात्रि ...
11
12

महावीर स्वामी के 8 अनमोल वचन

शुक्रवार,अप्रैल 7, 2017
भगवान महावीर स्वामी का जीवन त्याग और तपस्या से ओतप्रोत है। वे जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर हैं। पूरी दुनिया को उन्होंने ...
12
13
वर्द्धमान, सन्मति, वीर, अतिवीर और महावीर ये जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर के नाम हैं। उनके पिता सिद्धार्थ तथा माता का नाम ...
13
14

भगवान महावीर के 34 भव जानिए...

गुरुवार,अप्रैल 6, 2017
भगवान महावीर स्वामी के चौंतीस भव (जन्म) इस प्रकार हैं।
14
15
चैत्र शुक्ल त्रयोदशी को भगवान महावीर का जन्म कल्याण है। उनके सिद्धांत बताते हैं कि वर्तमान के वर्तन (व्यवहार) को किस ...
15
16
यदीये चैतन्ये मुकुर इव भावाश्चिदचितः समं भान्ति ध्रौव्य व्यय-जनि-लसन्तोऽन्तरहिताः। जगत्साक्षी मार्ग-प्रकटन परो भानुरिव ...
16
17
बहुत से इतिहासकारों एवं विद्वानों ने भगवान महावीर को जैन धर्म का संस्थापक माना है। भगवान महावीर जैन धर्म के प्रवर्तक ...
17
18
24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का चरण चिह्न सिंह (वनराज) है। सिंह अपने बल पर जंगल का राजा होता है, अपने क्षेत्र में ...
18
19
चैत्र शुक्ल त्रयोदशी को भगवान महावीर का जन्म कल्याणक है। उनके सिद्धांत बताते हैं कि वर्तमान के वर्तन (व्यवहार) को किस ...
19