0

कैसे पहचानें अपने भाग्य के सितारे को, जानिए...

मंगलवार,दिसंबर 5, 2017
0
1
जन्म कुंडली में विराजमान ग्रहों के चक्कर से कोई नहीं बच सकता। रावण जैसा राजा नीति कुशल, विद्वान, बलशाली और सभी ग्रहों ...
1
2
क्या आप जानते हैं कि शादी के माह का भी असर पड़ता है शादी पर,पति-पत्नी के रिश्तों पर और उनकी जिंदगी पर। आइए जानते हैं... ...
2
3
शनि प्रधान व्यक्ति के पास सबकुछ हो सकता है, जैसे संपूर्ण परिवार, माता-पिता, पत्नी, बेटे-बेटी जो लोगों को दिखाई देते ...
3
4
ज्योतिष शास्त्र में पापकर्तरी योग को बहुत ही हानिकारक माना गया है। आइए जानते हैं कि जन्मपत्रिका में किन ग्रहस्थितियों ...
4
4
5
कुछ व्यक्तियों के जीवन में छोटी-छोटी बातों पर शत्रुता हो जाती है। आइए जानते हैं कि जन्मपत्रिका में वे कौन सी ...
5
6
ज्योतिष शास्त्र में होरा का बहुत महत्त्व होता है। होरा से जातक की धन-संपत्ति के बारे में विचार किया जाता है। एक होरा का ...
6
7
जन्मकुंडली के ग्रह की स्थिति और भाव विशेष से व्यक्ति जान सकता है कि उसे धन कब, कैसे और किस मार्ग से प्राप्त होगा। आइए ...
7
8
कभी-कभी जन्मपत्रिका में ऐसे ग्रहयोगों का सृजन हो जाता है जिनके फ़लस्वरूप पति-पत्नी संतान सुख से वंचित हो जाते हैं। आइए ...
8
8
9
आइए जानते हैं कि जन्मपत्रिका में वे कौन से ऐसी ग्रहस्थितियां होती हैं जब व्यक्ति को पारिवारिक सुख प्राप्त नहीं होता।
9
10
कुछ व्यक्ति बड़े साहसी व पराक्रमी होते हैं। ऐसे लोग जोखिम लेने में तनिक भी नहीं देर नहीं करते इसके विपरीत कुछ लोग बड़े ही ...
10
11
आज गायन के क्षेत्र में नई-नई प्रतिभाओं को अपना हुनर दिखाने का मौका मिल रहा है। यदि हम पहले से जान लें कि गायन के ...
11
12
व्यक्ति की जन्मपत्रिका में कुछ ऐसी ग्रहस्थितियां निर्मित हो जाती हैं जिसके फलस्वरूप वह दाम्पत्य सुख से वंचित हो जाता ...
12
13
किसी भी स्त्री या पुरुष के प्रेम के बारे में पता लगाने के लिए उस जातक के मुख्य रूप से शुक्र पर्वत, हृदय रेखा, विवाह ...
13
14
अक्सर माता-पिता की शिकायत होती है कि उनके बच्चों का मन पढ़ाई में नहीं लगता। उनके बच्चों में एकाग्रता की कमी है। आइए ...
14
15
हृदयरोग इन दिनों एक विकराल सेहत समस्या बनकर उभरा है। आपकी कुंडली में होते हैं कुछ विशेष योग, तब होता है हृदयरोग। जानिए ...
15
16
ज्योतिष शास्त्र की मान्यता के अनुसार मेष राशि- सिर, वृष- मुख, मिथुन- भुजा, कर्क- हृदय, सिंह- पेट, कन्या- कमर, तुला- ...
16
17
लाल किताब के अनुसार आइए अपनी कुंडली खुद बनाएं
17
18
किसी भी व्यक्ति की कुंडली में पांचवें भाव से प्रणय संबंधों का पता चलता है जबकि सातवां भाव विवाह से संबंधित है। शुक्र ...
18
19
सामान्यतः किसी भी जातक की जन्मपत्रिका में लग्न, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम और द्वादश भाव में से किसी भी एक भाव में मंगल का ...
19