सुबह की शुरुआत चाय और वेबदुनिया से ही होती है

सोमवार,सितम्बर 25, 2017
बात आज की नहीं न जाने कितने दशक पुरानी है, दुश्मन चीन की फितरत में तो भरी हुई बेईमानी है। कहते थे बरसों पहले तुम हैं ...
लबों पर आ गए अल्फ़ाज़ दरिया की मौजें देखकर ख़याल थे विशाल समंदर की गहराइयों की तरह ऐसा लगा कि पहुंच गए हम अगले जनम तक और ...

नियति की नाटकी प्रवृति !

शनिवार,जुलाई 8, 2017
नियति की नाटकी प्रवृति, निवृत्ति से ही तो आई है, प्रकृति वह ही बनाई है, प्रगति जग वही लाई है !

छोड़ कर जगत के बंधन !

गुरुवार,जुलाई 6, 2017
छोड़ कर जगत के बंधन, परम गति ले के चल देंगे, एक दिन धरा से फुरके, महत आयाम छू लेंगे !
Widgets Magazine
खिले कंवल से, लदे ताल पर, मंडराता मधुकर, मधु का लोभी। गुंजित पुरवाई, बहती प्रति क्षण, चपल लहर, हंस, संग-संग हो ली।
न उलझ जाऊं इस जहां के आडंबरों में, जब हो कभी मन की चंचलता, न कर बैठूं कोई अपराध जब मन की हो अधीरता। न जाऊं आड़े-टेढ़े ...
उमड़-घुमड़कर बरसे, तृप्त हुई, हरी-भरी, शुष्क धरा। बागों में खिले कंवल-दल, कलियों ने ली मीठी अंगड़ाई। फैला बादल दल, गगन ...
वह बरसाती रात शहर की, वह चौड़ी सड़कें गीली, बिजली की रोशनी बिखरती थी जिन पर सोनापीली। दूर सुनाई देती थी वह सरपट टापों ...
Widgets Magazine
एक अनजान राह पर चल पड़े मुसाफिर, चलना था, बस चलना ही था इस राह पर। आगे क्या होने वाला है, ये पता नहीं था, अपने सब हैं, ...
क्या तुम्हें एहसास है अनगिनत उन आंसुओं का? क्या तुम्हें एहसास है सड़ते हुए नरकंकालों का? क्या तुम्हें आती नहीं आवाज, ...
अगर आप योग दिवस के अवसर पर भी सिर्फ इसलिए योग नहीं कर रहे कि पता नहीं इससे कोई फायदा होगा या नहीं, तो अब आपकी शंका का ...
मेरा भी एक घर था मेरे मन का बसेरा, मेरे अंदर का सागर मेरा उन्माद, जो हरकत लेता और बदले में देता वजहें, मैं हंस पड़ती ...
सत रंग चूनर नव रंग पाग मधुर मिलन त्योहार गगन में। मेघ सजल बिजली में आग...सत रंग चूनर नव रंग पाग। पावस ऋतु नारी, नर ...
वह कौन सा गीत गाऊं, कौन से शब्द दोहराऊं, जिसमें मैं अपने पापा का वर्णन सुनाऊं! मुझे ऐसा लगे हर सुबह का सूरज आप हैं, ...
मैं अधजागा, अधसोया क्यों हूं? मैं अब भी भूखा-प्यासा क्यों हूं? क्या भारत मेरा देश नहीं है? क्या मैं भारत का लाल नहीं ...
कुहासे से ढंक गया सूरज, आज दिन, ख्वाबों में गुजरेगा। तन्हाइयों में बातें होंगी, शाखें सुनेंगी, नगमे, गम के, गुलों के ...
अपना लैपटॉप खोलती हूं फिर बंद कर देती हूं, खोलकर फिर गलत पासवर्ड डाल देती हूं, इनकरेक्ट मैसेज को पढ़ फिर ओके करती हूं, ...
जिस दिन से चला था मैं, वृंदावन की सघन घनी, कुंज-गलियों से, राधे, सुनो तुम मेरी मुरलिया, फिर ना बजी, किसी ने तान वंशी की ...
तुम्हारे आंगन में पेड़ होंगे तो उन पर गौरेया घोंसला बनाएंगी...झूले डालने को शाखाएं बची रहेंगी...फल बचे रहेंगे...और ...