0

हिन्दी की राहों में बहुत रोड़े हैं...

गुरुवार,सितम्बर 14, 2017
0
1
हिन्दी दिवस, सुना-सुनाया-सा नाम लगता है। अच्छा आज हम हिन्दी पर, हिंग्लिश में बात करेंगे।
1
2
“अगर मेरे पास एक निरंकुश शासक की सत्ता हो, तो मैं विदेशी माध्यम के द्वारा हमारे लड़कों और लड़कियों की पढ़ाई आज ही रोक ...
2
3
क्या आपको शर्म महसूस होती है कि आप अच्छी इंग्लिश नहीं बोल पाते या आपको अपने बच्चे का एडमिशन कराना है एक अच्छे पब्लिक ...
3
4
मैं वह भाषा हूं, जिसमें तुमने बचपन खेला और बढ़े हूं वह भाषा, जिसमें तुमने यौवन, प्रीत के पाठ पढ़े .... पढ़ें हिन्दी ...
4
4
5
आज के युग में एक या अधिक भाषा का बुनियादी ज्ञान महत्वपूर्ण हो गया है। भाषा सांस्कृतिक समूहों के बीच संचार का प्रमुख ...
5
6
हिन्दी दिवस हो और स्कूल कालेज इसका जश्न ना मनाएं, ऐसा कैसे हो सकता है? जश्न का मजा भी वही ले सकता है जिसके पास उसका ...
6
7
हिन्दी को राजभाषा बनाने का आंदोलन महात्मा गांधी, दयानंद सरस्वती द्वारा शुरू किया गया था। लेकिन अंग्रेजी भाषा की ...
7
8
जिन्हें हिन्दी की सेवा करना चाहिए थी, वे अब हिन्दी को ही खत्म करने में लगे हैं। हालांकि निम्नलिखित 10 हिन्दी के दोस्त ...
8
8
9

‘हिन्दी संसार : अपार विस्तार’

बुधवार,सितम्बर 13, 2017
हिन्दी अपने आविर्भाव काल से लेकर अब तक निरंतर जनभाषा रही है। वह सत्ता की नहीं जनता की भाषा है। उसका संरक्षण और ...
9
10
राष्ट्रभाषा की व्यथा। दु:खभरी इसकी गाथा।। क्षेत्रीयता से ग्रस्त है। राजनीति से त्रस्त है।। हिन्दी का होता अपमान। घटता ...
10
11
हम सबकी प्यारी, लगती सबसे न्यारी। कश्मीर से कन्याकुमारी, राष्ट्रभाषा हमारी।
11
12
भाषा जब सहज बहती, संस्कृति, प्रकृति संग चलती। भाषा-सभ्यता की संपदा, सरल रहती अभिव्यक्ति सर्वदा।
12
13
1 हिन्दी को अपना नाम एक परसियन शब्द हिन्दू से मिला, जिसका मतलब है पवित्र नदी की भूमि। यह भी कहा जाता है कि सि़ंधु नदी ...
13
14
हिन्दी शब्द है हमारी आवाज का, हमारे बोलने का, जो कि हिन्दुस्तान में बोली जाती है। आज देश में जितनी भी क्षेत्रीय भाषाएं ...
14
15
मातृभाषा का ज्ञान सांस्कृतिक समन्वय कराएगा, हिन्दी राष्ट्रीय समन्वय कराएगी और अंग्रेजी वैश्विक स्तर पर जोड़ेगी। बात गलत ...
15
16

प्रेरक प्रसंग : हिन्दी और बापू

बुधवार,सितम्बर 13, 2017
गांधीजी ने कहा कि इस पवित्र नगरी में महान विद्यापीठ के प्रांगण में अपने देशवासियों से एक विदेशी भाषा में बोलना शर्म की ...
16
17
हिन्दी के प्रति महात्मा गांधी का प्रेम बड़ा गहरा था। आइए जानते हैं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हिन्दी के प्रति
17
18
हिन्दी हम सबकी भाषा है। जन-जन की भाषा है। हिन्दी के लिए देश-विदेश के बड़े-बड़े विद्वानों ने समय-समय पर अपने विचार ...
18
19
भारतीय संविधान सभा ने 14 सितंबर 1949 को जो सर्वसम्मति से राजभाषा की प्रतिष्ठा प्रदान की, उसमें अहिन्दी भाषा-भाषियों की ...
19