0

हिन्दी दिवस पर लघुकथा : अपनी हिन्दी कैसे बचाएं?

शुक्रवार,सितम्बर 13, 2019
0
1
देश में पहली बार 14 सितंबर 1953 को हिन्दी दिवस मनाया गया था और उसके बाद से ही हर साल इसे बड़े उत्साह से मनाया जाता है। इस दिन स्‍कूल, कॉलेज, शैक्षणिक संस्‍थाएं आदि जगहों पर विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, अन्य त्योहारों की तरह ही लोग ...
1
2
मैं भारत के 70 प्रतिशत गांवों की अमराइयों में महकती हूं। मैं लोकगीतों की सुरीली तान में गुंजती हूँ। मैं नवसाक्षरों का सुकोमल सहारा हूं। मैं जनसंचार का स्पंदन हूं। मैं कलकल-छलछल करती नदियां की तरह हर आम और खास भारतीय ह्रदय में प्रवाहित होती हूं। मैं ...
2
3
आज सारा विश्व जान चुका है कि भारत में व्यापार करना है तो हमें हिन्दी को अपनाना ही होगा। हिन्दुस्तान का मजदूर तबका हिन्दी में ही व्यवहार करता है कई विदेशी कंपनियों के नाम आपको हिन्दी में लिखे मिल जाएंगे।
3
4
हमारी हिन्दी भाषा सरस सुबोध और रुचिकर भाषा हिन्दी हम सब की मातृभाषा तुलसी सूर रसखान कबीर की भाषा हिन्द के साहित्यकारों की प्रेम भाषा गद्य पद्य और सुलेख की भाषा हिन्दी अपनी सीधी सादी भाषा...
4
4
5
कश्मीर से कन्याकुमारी तक बंग से कच्छ तक गूंजने वाली ध्वनि हूं मैं लय हूं मैं . मैं हूं भाषा, मातृभाषा,राष्ट्र की भाषा सरल देवनागरी लिपि उन्नत व्याकरण मेरा वैज्ञानिक हैं शब्द मेरे वृहत् मेरा शब्दकोश भारत की पहचान का सशक्त माध्यम हूं मैं . १४ ...
5
6
आज हिन्दी की तलब लगी मुझे सुबह-औसारे और चारों तरफ से आने लगी एक प्याला सुहानी सुबह... हां, हिन्दी में सोचने, और बोलने की तलब मांगती है उसके साथ निश्चल अपनापन और गहरी आशिकी... तो चारों ओर फैला अंग्रेजी का बाज़ार पूछता है ...
6
7
क्या इस मुल्क में बिना भाषा के मिलावट के काम नहीं चला सकते? सफेदपोश लोगों का उत्तर है- हिन्दी में सामर्थ्य कहां है? शब्द कहां है? ऐसी हालत में मेरा मानना है कि विज्ञान, तकनीक, विधि, प्रशासन आदि पुस्तकों के संदर्भ में हिन्दी भाषा की क्षमता पर प्रश्न ...
7
8
सिर्फ हिन्दुस्तान या पाकिस्तान ही नहीं, इनके अलावा मॉरीशस, फिजी, गुयाना, त्रिनिदाद, टोबागो और नेपाल में भी हिन्दी भाषा का ज्यादा प्रयोग किया जाता है।
8
8
9
कुछ वर्ष पहले तक विश्व में 80 करोड़ लोग हिन्दी समझते, 50 करोड़ बोलते और 35 करोड़ लिखते थे, लेकिन सोशल मीडिया पर हिन्दी के बढ़ते इस्तेमाल के चलते, अब अंग्रेजी उपयोगकर्ताओं में भी हिन्दी का आकर्षण बढ़ा है और इन आंकड़ों में भी तेजी से वृद्धि हुई है।
9
10
हिन्दी दिवस आजकल हमारे देश में एक औपचारिकता मात्र रह गया है लेकिन आज भी कुछ संस्थानों में हिन्दी पखवाड़ा, हिन्दी सप्ताह और हिन्दी दिवस जोर-शोर से मनाया जाता है। ज्यादातर संस्थानों में प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है। प्रस्तुत है कुछ सरलतम पंक्तियां ...
10
11
भाषा जब सहज बहती, संस्कृति, प्रकृति संग चलती। भाषा-सभ्यता की संपदा, सरल रहती अभिव्यक्ति सर्वदा।
11
12
हिन्दी हमारे दिलों में बसती है। हिन्दी दिवस पर आइए जानते हैं क्या कहते हैं साहित्यकार, राजनेता और अन्य विद्वान...
12
13
प्रति वर्ष 14 सितंबर को हिन्दी दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर कई आयोजन होते हैं। यहां प्रस्तुत हैं कुछ छोटे और प्रभावी नारे जो किसी के लिए भी उपयोगी हो सकते हैं।
13
14
हिन्दी दिवस पर हिन्दी कविता- हिन्दी दिवस, सुना-सुनाया-सा नाम लगता है। अच्छा आज हम हिन्दी पर, हिंग्लिश में बात करेंगे।
14
15
हिन्दी दिवस पर कविता- मैं वह भाषा हूं, जिसमें तुम सपनाते हो, अलसाते हो। मैं वह भाषा हूं, जिसमें तुम अपनी कथा सुनाते हो
15
16
हिन्दी दिवस कविता- क्षेत्रीयता से ग्रस्त है। राजनीति से त्रस्त है।। हिन्दी का होता अपमान। घटता है भारत का मान।।
16
17
हिन्दी दिवस आजकल हमारे देश में एक औपचारिकता मात्र रह गया है लेकिन आज भी कुछ संस्थानों में हिन्दी पखवाड़ा, हिन्दी सप्ताह और हिन्दी दिवस जोर-शोर से मनाया जाता है। ज्यादातर संस्थानों में प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है। प्रस्तुत है कुछ सरलतम पंक्तियां ...
17
18
मैं वह भाषा हूं, जिसमें तुम जीवन साज पे संगत देते मैं वह भाषा हूं, जिसमें तुम, भाव नदी का अमृत पीते मैं वह भाषा हूं, जिसमें तुमने बचपन खेला और बढ़े हूं वह भाषा, जिसमें तुमने यौवन, प्रीत के पाठ पढ़े...
18
19
हिन्दी के प्रति महात्मा गांधी का प्रेम बड़ा गहरा था। वे ज्यादातर हिन्दी भाषा का प्रयोग करने के पक्षधर थे। जानिए हिन्दी के प्रति राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के विचार...
19