0

बच्चे का मुंडन संस्कार क्यों करवाया जाता है

शुक्रवार,नवंबर 15, 2019
0
1
भगवान की मूर्ति और मंदिर की परिक्रमा हमेशा दाहिने हाथ की ओर से शुरू करनी चाहिए, क्योंकि प्रतिमाओं में मौजूद सकारात्मक ऊर्जा उत्तर से दक्षिण की ओर प्रवाहित होती है। बाएं हाथ की ओर से परिक्रमा करने पर इस सकारात्मक ऊर्जा से हमारे शरीर का टकराव होता है, ...
1
2
घर में सुख-शांति के लिए मिट्टी का लाल रंग का बंदर, जिसके हाथ खुले हो़, घर में सूर्य तरफ पीठ करके रखें, ऐसा रविवार को करें।
2
3
किसी एक घटना के कारण आपकी धार्मिक भावना और मजबूत होगी। आपके सितारे आप के पक्ष में हैं, कार्यक्षेत्र
3
4
स्कंदपुराण के काशी- खंड के 31वें अध्याय में उनके प्राकट्य की कथा है। गर्व से उन्मत ब्रह्माजी के पांचवें मस्तक को अपने बाएं हाथ के नखाग्र से काट देने पर जब भैरव ब्रह्म हत्या के भागी हो गए, तबसे भगवान शिव की प्रिय पुरी 'काशी' में आकर दोष मुक्त हुए।
4
4
5
. शनिवार के दिन कड़वे तेल में पापड़, पकौड़े, पुए जैसे विविध पकवान तलें और रविवार को गरीब बस्ती में जाकर बांट दें।
5
6
कब्ज यानी कि पेट का साफ न होना या कह लें कि शौच ठीक तरह से न हो पाना। ज्यादातर लोगों को कभी न कभी कब्ज की समस्या का सामना करना पड़ा होगा। कब्ज जिसे अंग्रेजी में कॉन्स्टिपेशन कहा जाता है, होने पर कई दिनों तक लगातार पेट साफ नहीं रहता, इस वजह से पूरा ...
6
7
रोजाना चाय और कई तरह की मसालेदार सब्जियों में डाला जाने वाला अदरक आपकी सेहत को बेहतरीन फायदे देता हैं। अदरक को केवल चाय और खाना पकाने में ही नहीं इस्तेमाल किया जाता। इसके कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे भी है जिन्हें आजमाने से आपकी कई अन्य परेशान करने वाली ...
7
8
आजकल की भागदौड़भरी जिंदगी में खुद की सेहत का ख्याल रख पाना असंभव-सा लगने लगता है और इसी का असर दिखता है हमारे स्वास्थ पर, क्योंकि बिगड़ती जीवनशैली व खानपान में बदलाव आदि इन्हीं वजहों से छोटी उम्र में ही कई बीमारियां हमें घेर लेती हैं......
8
8
9
बुधवार, 13 नवंबर 2019 से नया हिन्दी माह अगहन शुरू हो गया है़, जोकि 12 दिसंबर, गुरुवार तक जारी रहेगा। इसका अन्य नाम मार्गशीर्ष मास भी कहते हैं।
9
10
भारतीय इतिहास में बिरसा मुंडा एक ऐसे नायक थे जिन्होंने भारत के झारखंड में अपने क्रांतिकारी चिंतन से उन्नीसवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में आदिवासी समाज की दशा और दिशा बदलकर
10
11
मंगल 10 नवंबर को कन्या राशि से तुला राशि में प्रवेश कर गए हैं, यहां पर मंगल 25 दिसंबर तक रहेंगे। मंगल का तुला राशि में प्रवेश का सभी 12 राशियों पर प्रभाव कैसा रहेगा, आइए जानते हैं...
11
12
ज ब सूर्य वृश्चिक राशि में आते हैं तो इसे सूर्य वृश्चिक संक्रांति कहा जाता है। इस बार 17 नवंबर को सूर्य वृश्चिक राशि में आ रहे हैं। इस दिन भगवान सूर्य की उपासना की जाती है। साथ ही सूर्योदय के समय उन्हें अर्घ्य दिया जाता है। विष्णु भगवान की पूजा करना ...
12
13
प्रदूषण एक ऐसा अभिशाप हैं जो विज्ञान की कोख में से जन्मा हैं और जिसे सहने के लिए अधिकांश जनता मजबूर हैं।
13
14
भैरव के मंत्रों का प्रयोग कर व्यापार-व्यवसाय, शत्रु पक्ष से आने वाली परेशानियां, विघ्न, बाधाएं, कोर्ट कचहरी तथा निराशा आदि से मुक्ति पाई जा सकती है। इस बार काल भैरव अष्टमी 19 नवंबर 2019 को है। आइए जानते हैं भैरव के 5 अचूक मंत्र ...
14
15
एकमात्र भैरव की आराधना से ही शनि का प्रकोप शांत होता है। आराधना का दिन रविवार और मंगलवार नियुक्त है। जुआ, सट्टा, शराब, ब्याजखोरी, अनैतिक कृत्य आदि आदतों से दूर रहें। दांत और आंत साफ रखें। पवित्र होकर ही सात्विक आराधना करें। अपवि‍त्रता वर्जित है।
15
16
बृहस्पति यानी गुरु ने 5 नवंबर 2019 को स्वराशि धनु में गोचर किया है और 29 मार्च 2020 तक इसी राशि में रहेंगे। गुरु के राशि परिवर्तन का असर सभी राशियों पर असर होगा।
16
17
हमारे सनातन धर्म में तिथियों का बहुत महत्व है। जैसा कि पाठकों को विदित है कि एक हिन्दू मास में दो पक्ष होते हैं एवं प्रत्येक पक्ष में 15 तिथियां होती हैं जिन्हें
17
18
15 नवंबर 2019, शुक्रवार को संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत है। यह व्रत हर तरह की सफलता देने वाला माना गया है। चतुर्थी तिथि का शास्त्रों में बड़ा महत्व बताया गया है।
18
19
भारत में प्रतिवर्ष 14 नवंबर को प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है।
19