0

कालाष्टमी कब है, जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व और मंत्र

शुक्रवार,मई 20, 2022
0
1
Significance of Nirjala Ekadashi : प्रतिवर्ष ज्येष्‍ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी का व्रत रखा जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार निर्जला एकादशी का व्रत 10 जून 2022 को रखा जाएगा। पद्मपुराण में निर्जला एकादशी व्रत द्वारा मनोरथ सिद्ध ...
1
2
17 मई से ज्येष्ठ माह प्रारंभ हो गया है जो 14 जून तक रहेगा। इस माह में गर्मी अपने चरम पर होती है। इसी माह में नौतपा प्रारंभ होता है। ज्येष्ठ माह में इसीलिए जल का महत्व बढ़ जाता है। आओ जानते हैं ज्येष्‍ठ माह में जल का महत्व और शुभ पर्व।
2
3
Maa Bhadrakali : ज्येष्ठ माह की एकादशी को भद्रकाली की जयंती मनाई जाती है। माता काली का ही एक रूप है भद्रकाली, जिनकी पूजा दक्षिण भारत में होती है। आओ जानते हैं कब है इनका प्रकटोत्सव, कैसे करें इनकी पूजा और जानिए मंत्र एवं स्तुति।
3
4
भारत में लोग गंगा जल को सबसे ज्यादा पवित्र मानते हैं और बताते हैं कि इसका पानी कभी ख़राब नहीं होता। अब सवाल ये है कि इतने अवांछित पदार्थों के मिल जाने के बाद भी गंगा जल आखिर खराब क्यों नहीं होता?
4
4
5
भारतीय तीज, त्योहार और पर्वों की यह विशेषता है कि वे जिस मौसम या ऋतु में आते हैं उसी के अनुसार संदेश उनमें गुंथे होते हैं। इन दिनों जबकि गर्मी का मौसम चल रहा है और जल यानी पानी को लेकर हाहाकार मचा है, हमारे सांस्कृतिक पर्व अपनी सामाजिक जिम्मेदारी भी ...
5
6
आओ जानते हैं कि गंगाजल की पवित्रता की 10 महत्वपूर्ण बातें।
6
7
प्रत्येक माह में दो चतुर्थी होती है। कृष्‍ण पक्ष में संकष्टी और शुक्ल पक्ष में विनायक चतुर्थी। इस तरह 24 चतुर्थी और प्रत्येक तीन वर्ष बाद अधिमास की मिलाकर 26 चतुर्थी होती है। सभी चतुर्थी की महिमा और महत्व अलग-अलग है। चतुर्थी का व्रत करने से 10 तरह ...
7
8
How to do Surya Puja in Jyeshtha Month: मई से 15 जून 2022 तक ज्येष्ठ माह रहेगा। इस माह में गंगा, विष्णु और सूर्यदेव की पूजा का महत्व बताया गया है। आओ जानते हैं कि क्यों समर्पित है सूर्यदेव को ज्येष्ठ माह और क्या है इस माह का महिमा। कैसे करें सूर्य ...
8
8
9
Ganga Dussehra 2022 : प्रतिवर्ष वैशाख माह में गंगा सप्तमी और ज्येष्‍ठ माह में गंगा दशहरा का पर्व मनाया जाता है। दोनों का ही अलग अलग महत्व है। आओ जानते हैं कि कैसे घर बैठे कर सकते हैं आप गंगाजल के 10 प्रयोग।
9
10
वट सावित्री व्रत करने से पति दीर्घायु और परिवार में सुख शांति आती है। पुराणों के अनुसार वट वृक्ष में ब्रह्मा, विष्णु व महेश तीनों का वास है। इस व्रत में बरगद वृक्ष चारों ओर घूमकर सौभाग्यवती स्त्रियां रक्षा सूत्र बांधकर पति की लंबी आयु की कामना करती ...
10
11
वट सावित्री व्रत 2022 : अमावस्या और पूर्णिमा के दिन मनाया जाने वाला यह व्रत सौभाग्य और संतान प्राप्ति में सहायता देने वाला माना गया है। आइए जानते हैं सुख-समृद्धि और अखंड सौभाग्य देने वाले वट वृक्ष की विशेषताएं -
11
12
25 एकादशी व्रतों में सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण एकादशी होती है- "निर्जला-एकादशी", जिसे "भीमसेनी" एकादशी भी कहा जाता है। निर्जला एकादशी का व्रत ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को होता है। इस वर्ष यह "निर्जला एकादशी" का व्रत 10 जून 2022 को है।
12
13
Apara Ekadashi 2022: वर्ष 2022 में 26 मई, दिन गुरुवार को अपरा या अचला एकादशी मनाई जाएगी। अपरा एकादशी को जलक्रीड़ा एकादशी, भद्रकाली तथा अचला एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।यह एकादशी हर तरह के पापों को मिटाने में सक्षम मानी गई है।
13
14
प्रत्येक माह में दो चतुर्थी होती है। इस तरह 24 चतुर्थी और प्रत्येक तीन वर्ष बाद अधिमास की मिलाकर 26 चतुर्थी होती है। सभी चतुर्थी की महिमा और महत्व अलग-अलग है। आओ जानते हैं चतुर्थी का व्रत करने के 5 लाभ।
14
15
वर्ष 2022 में वट सावित्री व्रत यानी वट सावित्री अमावस्या (Vat Savitri Vrat 2022) 30 मई 2022, दिन सोमवार को रखा जा रहा है। मत मतांतर से इसे 29 को भी रखा जा रहा है। यह व्रत हर साल ज्येष्ठ माह की अमावस्या के दिन रखा जाता है।
15
16
ज्येष्‍ठ माह के कृष्‍ण पक्ष की द्वितीया को नारद जयंती मनाई जाती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार 17 मई 2022, दिन मंगलवार को यह जयंती मनाई जाएगी। आओ जानते हैं महत्व, मंत्र और मुहूर्त।
16
17
भगवान बुद्ध भारत की सांस्कृतिक विरासत की अमूल्य धरोहर है। उनका समग्र जीवन दर्शन मानवीय कल्याण के हितार्थ ज्ञान की खोज के लिए मात्र 29 वर्ष की आयु में परम वैभव के साम्राज्य और सांसारिक सुखों के आकर्षण के परित्याग की पराकाष्ठा है। उनका जन्म 583 ईसा ...
17
18
Chandra Grahan 2022: 16 मई 2022 सोमवार को वैशाख पूर्णिमा के दिन बुद्ध जयंती के साथ ही साल का पहला चंद्रग्रहण है। आओ जानते हैं कि क्या है इस दिन की 10 खास बातें।
18
19
Buddha purnima 2022 : भगवान बुद्ध का जन्म वैशाख माह की पूर्णिमा के दिन हुआ था। इस बार अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 16 मई 2022 को गौतम बुद्ध की जयंती मनाई जाएगी। आओ जानते हैं उनके बारे में 25 रोचक जानकारियां।
19