0

शिव के साथ नंदी की पूजा जरूरी है, जानिए कान में मनोकामना बोलने के 6 नियम

शनिवार,मई 21, 2022
0
1
भारतीय परंपरा में कोई भी ऐसा धार्मिक कार्य नहीं होगा जिसमें जल कलश स्थापित न किया जाता हो। इसी से जल की महत्ता सिद्ध होती है। नदियों को हमारे यहां मां का दर्जा दिया गया है। पुराणों में देवी देवता से लेकर राजा-महाराजा ऋषि मुनि द्वारा सुंदर सरोवर, ...
1
2
Rule of drinking water according to season: भोजन से ज्यादा महत्वपूर्ण है पानी और उसके पात्र का चयन करना। पानी से भी ज्यादा महत्वपूर्ण है हवा। भोजन, पानी और हवा अगर गुणवत्तापूर्ण नहीं हैं तो रोग उत्पन्न होते हैं। पानी से हजारों तरह के रोग होते हैं और ...
2
3
हमने अक्सर मंदिरों में आटे के दीये जलते हुए देखे हैं, लेकिन हम नहीं जानते कि ऐसा क्यों किया जाता है? आइए जानते हैं शास्त्रसम्मत कुछ बातें...
3
4
Fact of Gyanvapi masjid: क्या काशी विश्वनाथ मंदिर की मुख्‍य जगह पर बनी है ज्ञानवापी मस्जिद? यह उस जगह बनी है जहां पर पहले कभी शिवलिंग हुआ करता था? क्या यह सभी बातें गलत है और यह सच है कि ज्ञानवापी मस्जिद मंदिर तोड़कर नहीं बनाई गई? फिर क्यों यह 5 ...
4
4
5
ज्येष्ठ का महीना तेज गर्मी का होता है। इस माह में सूर्य की प्रचंड धूप तन-मन को झुलसा देती है। हमारे तीज त्योहार के लिए उपलब्ध पुस्तकों में यह जिक्र मिलता है कि ऋतु और मौसम के अनुसार ही दान, पुण्य करना चाहिए। आइए जानते हैं ज्येष्ठ मास में दान के लिए ...
5
6
17 मई 2022 से हिन्दू कैलेंडर का तीसरा माह ज्येष्ठ मास प्रारंभ हो चुका है, जो 14 जून तक रहेगा। इस माह में गंगा दशहरा, निर्जला एकादशी और वृट सावित्री का व्रत रखा जाता है और भगवान त्रिविक्रम की पूजा करने का महत्व होता है। आओ जानते हैं कि ज्येष्ठ मास ...
6
7
ब्रजमंडल में मथुरा, गोकुल, नंदगांव, वृंदावन, बरसाना, गोवर्धन आदि क्षेत्र आते हैं। मथुरा जहां श्रीकृष्‍ण की जन्मभूमि है। वहीं गोकुल उनकी बाललीला की भूमि है। श्रीकृष्‍ण जब थोड़े बड़े हुए तो वृंदावन उनका प्रमुख लीला स्थली बन गया। उन्होंने यहां रास रचा ...
7
8
संकष्टी चतुर्थी अथवा बुधवार के दिन भगवान श्री गणेश के मंत्रों (Lord ganesha mantra) का जाप करने से जीवन में सफलता और संपन्नता प्राप्त होती है। श्री गणेश धन, बुद्धि के दाता तथा विघ्न हरने और चिंता दूर करके खुशियां देने वाले देवता हैं।
8
8
9
संकष्टी गणेश चतुर्थी व्रत करने से घर-परिवार में आ रही विपदा दूर होती है, कई दिनों से रुके मांगलिक कार्य संपन्न होते है तथा भगवान श्री गणेश असीम सुखों की प्राप्ति कराते हैं।
9
10
एक घर में कम से कम पांच देवी देवताओं की पूजा होनी ही चाहिए-गणेश,शिव,विष्णु,सूर्य,दुर्गा। किसी भी देव या देवी के पूजन के प्रति संकल्प,एकाग्रता,श्रद्धा होना बहुत ही आवश्यक है। प्रस्तुत है कुछ आवश्यक महत्वपूर्ण जानकारियां...
10
11
चतुर्थी तिथि (Chaturthi Tithi) भगवान श्री गणेश (Lord Shree Ganesh) को अतिप्रिय है। इस दिन विघ्नहर्ता के पूजन से जीवन के सारे संकटों का नाश हो जाता है।
11
12
Gyanvapi kua : शिव मंदिरों के पास आपको अक्सर कुआं, कुंड या कूप मिल जाएंगे, क्योंकि शौच, शुद्धि और आचमन ने साथ ही शिवजी पर जल अर्पित करने के लिए इसकी जरूरत होती है। बताया जा रहा है कि काशी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में ऐसा ही एक कुआं हैं। ...
12
13
Mosque temple dispute : कहते हैं कि 7वीं सदी सदी के बाद तुर्क और अरब के लुटेरों ने भारत पर कई आक्रमण किए थे। इस दौरान उन्होंने मंदिरों को लूटा और तोड़ा साथ ही कई लोगों का धर्मान्तरण भी किया गया। मान्यता है कि यहां उन्होंने कई महत्वपूर्ण स्थानों पर ...
13
14
उज्जैन। महाकाल की नगरी उज्जैन में दानीगेट में शिप्रा तट पर एक मस्जिद है जिसे बिना नींव की मस्जिद कहा जाता है। इसके बारे में किंवदंती है कि इसे सैकड़ों साल पहले जिन्नातों ने अपने लिए बनाया था। लेकिन महामंडलेश्वर अतुलेशानंद का दावा है कि यह परमारकाल ...
14
15
Nandi's curse on Ravana : नंदी देव को भगवान शिव का गण माना जाता है। वे सदा शिवजी की सेवा में रहते हैं। पौराणिक मान्यता के अनुसार शिवजी की घोर तपस्या के बाद शिलाद ऋषि ने नंदी को पुत्र रूप में पाया था। शिलाद ऋषि ने अपने पुत्र नंदी को संपूर्ण वेदों का ...
15
16
उत्तरप्रदेश के वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद के वजूखाने में विशाल शिवलिंग के मिलने का दावा किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार पुरातत्व विभाग सबसे पहले शिवलिंग और मस्जिद के बाहर ज्ञानवापी मंडप के पास प्रतिष्ठित विशाल नंदी की दूरी नापने की तैयारी कर रहा ...
16
17
बुधवार और चतुर्थी तिथि गणेशजी के दिन है। इस दिन इनकी विशेष पूजा करना चाहिए। पूजा करने के दौरान गणेशजी को विशेष वस्तुएं अर्पित की जाती है जो कि उनके पसंद की होती है। इन वस्तुओं को अर्पित करने से गणपतिजी प्रसन्न हो जाते हैं। इन्हीं वस्तुओं से एक है ...
17
18
Jyeshta month 2022: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार फाल्गुन माह अंतिम माह होता है इसके बाद चैत्र माह वैशाख और फिर ज्येष्ठ। इस बार ज्येष्ठ का प्रारंभ अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 17 मई 2022 से ज्येष्ठ माह प्रारंभ हो गया है। आओ जानते हैं इस माह की 10 बड़ी ...
18
19
Mandir Masjid vivad : कंबोडिया के अंकोरवाट मंदिर को हम देखते हैं तो पता चलता है कि भारत गुप्तकाल में किस भव्यता के साथ खड़ा था। 7वीं सदी के पूर्व भारतीय लोग शांत और सुरक्षित जीवन जी रहे थे। युद्ध थे लेकिन युद्ध का स्वरूप अलग था। लेकिन सम्राट ...
19