0

Motivational Story : घमंड में सांप के पांव बना दिए

गुरुवार,जनवरी 28, 2021
0
1
क्यों शहीद हुए? तुम्हारे ही देश में-जहां देखा था तुमने रामराज्य का स्वप्न,
1
2
इनमें से कोई भी इस हिंसा के लिए स्वयं को दोषी मानने को तैयार नहीं है। अभी भी दिल्ली पुलिस और सरकार को निशाना बनाया जा रहा है। ज्यादा से ज्यादा ये पंजाब के एक अभिनेता और एक दूसरे दूसरे नेता को इसके लिए दोषी ठहरा रहे हैं। वास्तव में यह सब अपनी ...
2
3
वह अटल खड़ा है उत्तर में, शिखरों पर उसके, हिम किरीट। साक्षी, विनाश निर्माणों का, उसने सब देखी, हार-जीत।
3
4
हमारी सोच का हमारे भविष्य पर गहरा असर पड़ता है। नकारात्मक सोचेंगे तो बुरा और सकारात्मक सोचेंगे तो अच्छा भविष्य होगा और मिश्रित सोच होगी तो मिश्रित भविष्य होगा। महाभारत के अनुसार किस तरह एक सोच हमारे भविष्‍य को प्रभावित करती है जानिए।
4
4
5
फुरसत नहीं है अब, करना देश निर्माण है। हर पल देश विकास में, देना मुझे प्रमाण है।
5
6
परमात्मा ने आपके जैसा कोई दूसरा नहीं बनाया है। आप एकदम यूनिक या कहें कि अद्वितीय हो। जो सामर्थ आपमें है वह दूसरों में नहीं। भौतिक विज्ञान भी यही कहता है कि दुनिया में अंगूठा, आंख और जीभ का पैटर्न सभी का अलग अलग है। आपके जैसा दूसरा अंगूठा दुनिया में ...
6
7
उनकी कविता कवि से ज्यादा एक सतत चिन्तित व्यक्ति की कविता है। इसीलिए हमें भी वह वहां जाकर छूती है जहां काव्य के शिल्पकारों की सुमुख रचनाएं नहीं पहुंच पातीं।
7
8
2 महीने से चल रहे किसान आंदोलन को अब कहाँ के लिए किस रूट पर आगे चलना चाहिए? छह महीने के राशन-पानी और चालित चोके-चक्की की तैयारी के साथ राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर पहुँचे किसान अपने धैर्य की पहली सरकारी परीक्षा में ही असफल हो गए हैं, क्या ऐसा मान ...
8
8
9
बापू और हरिलाल दोनों अपनी जगह अच्छे थे, सच्चे थे, सही थे लेकिन परिस्थितियों के दंश ने एक सुयोग्य पुत्र को कंटीली राह पर धकेल दिया। जीवनभर पिता के प्रति पलते आक्रोश ने हरिलाल को पतन की राह पर धकेल दिया। जब सारा विश्व बापू को सम्मान के साथ अंतिम विदाई ...
9
10
इस दिन की शुभता पर भला कैसे प्रश्न चिन्ह खड़े किए जा सकते हैं? लेकिन आज हम गण के तंत्र का तमाशा देखते रह गए हैं .. किसान आंदोलन हिंसा की भेंट चढ़ चुका है...
10
11
'द व्हाइट टाइगर फिल्म आ चुकी है। यह फिल्म लेखक अरविंद अडिगा की किताब पर आधारित है। अरविंद अडिगा एक पत्रकार के रूप में पहचाना जाने वाला नाम था फिर भारतीय साहित्यप्रेमियों के लिए इस नाम ने उम्मीद के विशाल द्वार खोल दिए। अरविंद अडिगा को वर्ष 2008 का ...
11
12
बात यहां से शुरू करते हैं...राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की मंशा को भांपना और उसे अमल में लाने में सारी ताकत झोंक देना मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की खासियत है। अपने बेटी बचाओ अभियान के चलते देशभर में लोकप्रिय हुए शिवराज सिंह चौहान ने अब बेटी ढूंढो का ...
12
13
समिति के प्रचारमंत्री अरविन्द ओझा ने जानकारी देते हुए बताया कि दोनों साहित्यकारों को माह फरवरी 2021 आयोजित सम्मान समारोह में अलंकृत किया जायेगा, जिसमें सम्मान-पत्र के अलावा एक-एक लाख रुपये की सम्मान निधि प्रदान की जाएगी।
13
14
24 जनवरी को बालिका दिवस था। ख़ुशी हुई कि मनाया गया। साथ ही नजर भी उतार लें इनकी क्योंकि आप नहीं जानते कि ये शिकार हैं बुरी नजरों की। जनगणना आंकड़ों के अनुसार बाल लिंगानुपात 1991 के 945 से गिरकर 2001 में 927 हो गया और इसमें फिर 2011 में गिरावट आई और ...
14
15
हर आदमी के जीवन में एक ऐसा मौका आता है जबकि वह हदाश या निराश होकर खुद को हारा हुआ महसूस करता है। ऐसे में उसे मोटिवेशनल कोट्स या मोटिवेशनल स्टोरी फिर से खड़ा होने में मदद करती है। प्रेरक उद्धरण या विचार या मोटिवेशनल कोट्स आपको जीवन में आगे बढ़ने और ...
15
16
निवेदन यही कि बाह्य रूप से नहीं बल्कि आंतरिक रूप से गणतंत्र के अर्थ व महत्व को जज़्ब कीजिए और स्वयं से आरंभ कर इसका शेष समाज में उचित रूप से क्रियान्वयन संभव बनाइए। स्मरण रखिए, अपने तंत्र को सही अर्थों में सफल बनाना आपका कर्तव्य भी है और अधिकार भी।
16
17
अगर आप भी खुद को देशभक्त मानते हैं तो पहले अपने दिल पर हाथ रखकर इन बातों को पढ़ें क्या आप ऐसा करते हैं? अगर हां, तो आप सच्चे देशभक्त हैं....अगर नहीं तो वक्त है सुधर जाइए....
17
18
खासतौर से जानवरों के प्रत‍ि इंसान जिस तरह से दिनोंदिन क्रूर होता जा रहा है यह बहुत ही दिल दुखाने वाला और मन खराब करने वाला है। ज्‍यादा दिल दुखाने वाली बात इसलिए है कि फ‍िलहाल कुछ‍ दिनों से इंसान ने ऐसे जानवरों के प्रति अपनी जाहिलता और क्रूरता जाहिर ...
18
19
एक अनमोल विरासत मुंबई में है जिसे छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संग्रहालय के नाम से आज जाना जाता है।इसका पूर्व नाम प्रिंस ऑफ़ वेल्स म्यूज़ियम था।
19