0

आपने ये 10 नियम अपना लिए तो शर्तिया आपको कभी गंभीर रोग नहीं होगा

बुधवार,नवंबर 25, 2020
0
1
कोरोना वायरस सचमुच घातक है, लेकिन इससे संक्रमित हजारों लोग ठीक भी हो गए हैं। यदि आपने लोगों से मिलना-जुलना और भीड़ वाले क्षेत्र में जाना छोड़ दिया है तो सबसे बड़ा बचाव यही है। इसके अलावा भारतीय संस्कृति, परंपरा और आयुर्वेद में ऐसे कई उपाय और नुस्खे ...
1
2
कोविड 19 अर्थात कोरोनावायरस के काल में इम्यूनिटी पावर बढ़ाने के बारे में सभी सोचने लगे हैं। इसके लिए कुछ लोग प्रतिदिन एक्सरसाइज या एक घंटा घुमने की सलाह देते हैं तो कुछ लोग विटामिन सी के अलावा अन्य तरह की आयुर्वेदिक दवाई लेने की सलाह देते हैं। इसी ...
2
3
कोरोनाकाल का संकटपूर्ण समय ऐसा है कि यदि आप इस काल में योग और यौगिक आहार के संबंध में नहीं जानते हैं तो जान लें, क्योंकि अन्न ही अमृत है और अन्न ही जहर है। जब तक कोरोनावायरस का काल चल रहा है तब तक खुद को और परिवार को बचाकर रखना जरूरी है। इसकी ...
3
4
कोरोना वायरस के काल में इम्युनिटी पावर कैसे बढ़ाएं यह सभी जानना चाहते हैं साथ ही आप सेहतमंद कैसे बने रहे हैं यह भी जरूरी है। परंतु यह बात समझना जरूरी है कि भोजन से ही रोग उत्पन्न होते हैं और उसी से समाप्त। मतलब यह कि भोजन ही आपकी इम्युनिटी बढ़ाने ...
4
4
5
कुछ वर्ष पूर्व आर्काइव्स ऑफ इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित शोध के परिणाम के अनुसार लंबी उम्र के लिए हमारे जीन सिर्फ 30 प्रतिशत तक जिम्मेदार होते हैं बाकी का काम तो जीवन शैली करती है। कोरोनाकाल में हमारी लाइफ स्टाइल पूरी तरह से बदल गई है।
5
6
पशुओं में रोग या बीमारी कभी गंभीर नहीं होती क्योंकि उनका शरीर वह नुस्खा जानता है जिससे रोग ठीक होता है, परंतु मनुष्य के पास बुद्धि होने के कारण वह अपने शरीर की पुकार कभी नहीं सुनता है वह हमेशा अपने मन की करता है। तो आओ जानते हैं कि किस तरह आप बगैर ...
6
7
* कुछ लोग चेहरे के भावों को पढ़कर दूसरों के मन की बात जान लेते हैं अर्थात वे मनोभाव को जानने में माहिर होते हैं, लेकिन आपके मन में क्या चल रहा है इसे शब्दश: जानकर बता देना उनके बस की बात नहीं होती। हम आपको ऐसी ट्रिक बताने जा रहे हैं जिससे कि आप ...
7
8
कोराना से जंग में मन की शक्ति का होना बहुत जरूरी है। ऐसे कई लोग हैं जो कोराना मरिज से मिले और फिर भी उन्हें कोरोना नहीं हुआ। ऐसे भी कई लोग हैं जिन्हें कोरोना हो गया और वे 4 दिन में या 7 दिन में ठीक हो गए। यह सब मन का खेल है परंतु आप सोचेगे ऐसा कैसे ...
8
8
9
कहते हैं कि शरीर मजबूत तो मन और मस्तिष्क भी मजबूत रहेगा लेकिन यह धारणा गलत है। मजबूत शरीर वाले में मानसिक रूप से रोगी रहते हैं। अखाड़े या जिम में की जाने वाली कसरत से शरीर मजबूत जरूर होता है लेकिन मन और मस्तिष्क वैसा ही रहता है। योग आपने मन और ...
9
10
योग और योगासन में बहुत क्षमता है। कोई रोग ना हो इसलिए योग करें। रोग यदि गंभीर नहीं हुआ है तो भी योग कारगर सिद्ध हो सकता है, परंतु यहां प्रस्तुत है उन लोगों के लिए मात्र दो उपाय जिन्हें रात में नींद नहीं आती है।
10
11
योग में बहुत सारी क्रियाओं का उल्लेख मिलता है। आसन, प्राणायाम के बाद क्रियाओं को भी करना सीखना चाहिए। क्रियाएं करना बहुत कठिन माना जाता है, लेकिन क्रियाओं से तुरंत ही लाभ मिलता है। योग में प्रमुखत: छह क्रियाएं होती है:-
11
12
योग में यह क्षमता है कि वह आपको कोरोना वायरस से बचाकर रखे और यदि हो भी जाए तो वह आपको इससे बचकर निकाल ले। अब यह सिद्ध हो चुका है कि योग और प्राणायाम करने से इस महामारी से बचा जा सकता है। परंतु हम यहां तीन चीजें और जोड़ना चाहेंगे शौच, आचमन और योग ...
12
13
अवसाद अर्थात डिप्रेशन। जीवन में अफसलता या अन्य किसी कारण से व्यक्ति अवसाद का शिकार हो जाता है। इसके चलते भय, हताशा, निराशा, चिड़चिड़ापन और अनावश्यक तनाव बना रहता है। यदि समय पर इसे समझा नहीं गया तो यह कई पर अपने चरम स्तर पर पहुंचकर हत्या या खुदकुशी ...
13
14
शायद ही आपको पता हो कि पेट संबंधी समस्या में कुछ ऐसी एक्सरसाइज भी है, जो पाचन संबंधी कई समस्याओं को दूर कर सकती हैं।
14
15
घर में रहने से हाथ पैर अकड़ जाते हैं। पहले भागदौड़ की लाइफ थी तो समय नहीं मिलता था अब घर से ही ऑफिस वर्क कर रहे हैं तो भी समय कम ही है। ऐसे में ऑफिस कार्य करते हुए बीच बीच में खुद को सेहतमंद और चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने के लिए रिफ्रेश योगा का सहरा
15
16
अनियमित और मसालेदार भोजन के अलावा आरामपूर्ण जीवनशैली के चलते तोंद एक वैश्विक समस्या बन गई है जिसके चलते डायबिटीज, हार्टअटैक, किडनी, मूत्राशय, रीढ़ की हड्डी, कमर दर्द जैसे आदि कई रोगों का खतरा बढ़ जाता है। कुछ भी नहीं है फिर भी तोंद के चलते व्यक्ति ...
16
17
योग शब्द के दो अर्थ हैं और दोनों ही महत्वपूर्ण हैं। पहला है- जोड़ और दूसरा है समाधि। जब तक हम स्वयं से नहीं जुड़ते, समाधि तक पहुंचना कठिन होगा। इस सांसार में दो मार्ग है सांसारिक रहकर श्रेष्ठ जीवन जिना और दूसरा संन्यासी बनकर मोक्ष की ओर गमन करना। ...
17
18
जीवन में हास्य नहीं है तो जीवन निरस और व्यर्थ लगता है। हंसने से कई तरह के शारीरिक और मानसिक रोग दूर होते हैं। सेहत के लिए जीवन में हास्य और मनोरंजन होना जरूरी है। जानवर हंसते हैं या नहीं लेकिन आदमी मैं ही यह क्षमता है कि वह खुलकर हंस सकता है। जीवन ...
18
19
आयुर्वेद शास्त्र के अनुसार मनुष्य की आयु लगभग 120 वर्ष बताई गई है लेकिन वह अपने योगबल से लगभग 150 वर्षों से ज्यादा जी सकता है। कहते हैं कि प्राचीन मानव की सामान्य उम्र 300 से 400 वर्ष हुआ करती थी, क्योंकि तब धरती का वातावरण व्यक्ति को उक्त काल तक ...
19