0

गणगौर पर्व का पारंपरिक व्यंजन है गणगौरी गुने, ऐसे बनाएं सरल विधि से...

गुरुवार,मार्च 26, 2020
Gangour Festival
0
1
लौकी और खोया का जायकेदार हलवा बनाने के लिए सबसे पहले एक कड़ाही में घी डालकर किसी हुई लौकी को हल्का भूनकर अलग रख लें। अब कड़ाही में थोड़ा-सा पानी डालें, फिर चीनी डालें।
1
2
इडली बनाने से 1 घंटे पूर्व समा के चावल को भिगोकर रखें। तत्पश्चात उसमें आलू, हरी मिर्च व अदरक डालकर मिक्सी में पीस लें। नमक, दही डालकर घोल को 1-2 घंटे धूप में रख दें।
2
3
गुड़ी पड़वा के दिन हिन्दू नव संवत्सर का आरंभ माना जाता है। इस पावन पर्व पर हम आपके लिए लेकर आए हैं कुछ खास तरह की पारंपरिक रेसिपीज, इन डिशेस से करें मेहमानों का स्वागत और आनंद उठाएं गुड़ी पड़वा के त्योहार का...
3
4
रंगपंचमी के बाद आने वाली चैत्र कृष्ण सप्तमी-अष्टमी के दिन शीतला सप्तमी-अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। इस दिन माता शीतला को पूजन के समय शीतल पदार्थों का भोग लगाया जाता है।
4
4
5
रंगपंचमी का रंगबिरंगा त्योहार हो और खान-पान की बात न हो..., यह भला कैसे संभव है? तो फिर आइए रंगपंचमी के इस रंगीले त्योहार पर हम कुछ खास तरह के व्यंजनों से मेहमानों का स्वागत‍ करें
5
6
रंगों का त्योहार रंग पंचमी भला किसे पसंद नहीं होगा। होली- रंग पंचमी के इस खास मौके पर आप परिवार वालों और मेहमानों के लिए खास व्यंजन बना सकते हैं। तो आइए जानते हैं 10 अलग-अलग तरह की मिठाइयां बनाने के सरल तरीके। रेसिपी और रंगों के इस त्योहार को और ...
6
7
400 मिली. दूध, 15 बादाम (पानी में भीगे हुए), 2 चम्मच खसखस, 2 चम्मच सौंफ, 8 इलायची, 12 चम्मच चीनी, 2 चम्मच काली मिर्च, 2 चम्मच जीरा, 300 मिली.
7
8
सबसे पहले बादाम की गिरी, तरबूज-खरबूज के बीज आदि को अलग-अलग बर्तन में रात भर भिगो कर रखें। दूसरे दिन बादाम का छिल्का उतार कर सिलबट्‍टे पर बारीक पीस लें।
8
8
9
सबसे पहले दो कप पानी लेकर शक्कर गला लें। फिर सभी मेवा सामग्री को मिक्स करके 3-4 घंटे के लिए भिगो कर रखें। त‍त्पश्चात पानी निथारकर मिक्सी में बारीक पीस लें।
9
10
सबसे पहले मैदे में घी का मोयन डालकर पानी की मदद से सख्त आटा गूंथ लें। एक कड़ाही में खोया भून लें। ठंडा छोने पर इसमें कोको पावडर, पिसी शक्कर, बादाम एसेंस एवं चॉकलेट चिप्स मिलाकर
10
11
त्योहारों का समय हो और खान-पान की बात न हो..., यह भला कैसे संभव है? तो फिर आइए होली के इस रंगीले त्योहार पर हम कुछ खास तरह के व्यंजनों से मेहमानों का स्वागत‍ करें और होली को और भी मजेदार बनाएं।
11
12
2 किलो ताजा दही, मेवे की कतरन, जायफल पावडर चुटकी भर, कुछेक लच्छे केसर, इलायची पावडर एक छोटा चम्मच, शक्कर स्वादानुसार,
12
13
किसी भी खास अवसर पर प्रसाद के रूप में भगवान को नैवेद्य / भोग में पंचामृत अवश्‍य चढ़ाना चाहिए। दूध, दही, घी, शहद, शकर को मिलाकर पंचामृत बनाया जाता है।
13
14
साबूदाने की खिचड़ी बनाने से 3-4 घंटे पूर्व साबूदाने को भिगो कर रख दें। लौकी को कद्दूकस करें। एक कड़ाही में घी गरम करके उसमें जीरा, मीठा नीम व हरी मिर्च का छौक लगाएं।
14
15
लिट्टी चोखा बिहार राज्‍य का राष्‍ट्रीय व्यंजन है जिसमें लिट्टी तथा चोखे - दो अलग-अलग व्यंजनों के साथ-साथ खाने को कहते हैं। यह बिहार, झारखंड और उत्तरप्रदेश के विशेषकर ज्‍यादा लोकप्रिय है।
15
16
Steps 1. राजगिरे व सिंघाड़े का आटा छानकर हल्का गुलाबी होने तक सेंक लें। Steps 2. दाने को सेंक कर बारीक पिस लें।
16
17
सबसे पहले 1 कटोरी गाढ़ा पका हुआ मोरधन लें। अब आलू को कद्दूकस कर लें और मोरधन में मिलाकर मैश करें।
17
18
पनीर कटलेट बनाने के लिए सबसे पहले पनीर को किसनी से कद्दूकस करें। हरी मिर्च बारीक काट लें। अब सिंघाड़े का आटा छान लें और पनीर और हरी मिर्च उसमें डाल दें।
18
19
आपने महा शिवरात्रि का व्रत रखा है और फलाहार बनाने जा रहे हैं तो सबसे पहले पनीर में सभी सामग्री मिलाकर 1 घंटे के लिए मेरीनेट कर लें।
19