0

स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी नेताजी सुभाषचंद्र बोस

शनिवार,जनवरी 19, 2019
ShubhashChandra Bose
0
1
आजादी के महानायक सुभाषचंद्र बोस भारत के स्वतंत्रता संग्राम के अग्रणी तथा सबसे बड़े नेता थे।‘तुम मुझे खून दो, मैं ...
1
2
नेताजी सुभाष चंद्र बोस एक महान सेनापति, वीर सैनिक, राजनीति के अद्भुत खिलाड़ी और अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नेताओं के ...
2
3
सुभाषचंद्र बोस के घर के सामने एक बूढ़ी भिखारिन रहती थी। वे देखते थे कि वह हमेशा भीख मांगती थी और दर्द साफ दिखाई देता ...
3
4
वाणी प्रकाशन के स्टॉल पर विश्व हिन्दी दिवस के अवसर पर हिन्दी का ताना-बाना और वैश्विक परिप्रेक्ष्य पर परिचर्चा आयोजित की ...
4
4
5
विश्व पुस्तक मेले में वाणी प्रकाशन के स्टॉल पर दिनांक आठ जनवरी का दिन महत्त्वपूर्ण विषय : ’21वीं शताब्दी में स्त्री’को ...
5
6
विश्व हिन्दी दिवस को हर वर्ष 10 जनवरी को मनाए जाने की घोषणा तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 2006 में कर इस दिशा ...
6
7
विश्व पुस्तक मेले के अवसर पर वाणी प्रकाशन कई महत्त्वपूर्ण किताबों के साथ पाठकों से रूबरू होगा। वर्ष 2019 में पाठकों के ...
7
8
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और भाषा के माध्यम से न केवल प्रति ...
8
8
9
इंदौर। साहित्य महोत्सव का तीसरा सत्र 'मीटू' जैसे विवादास्पद विषय को लेकर था जिसमें प्रतिभागियों ने माहौल में गर्माहट ...
9
10
इंदौर। साहित्य महोत्सव की सुबह ताजगी लिए हुए थी। पहले सत्र में साहित्य में खुलेपन पर लेखिकाओं ने बात की, पर यह बेहद ...
10
11
धर्म के प्रति अटल बिहारी वाजपेयी की आस्था कम नहीं रही। देशभक्ति को भी उन्होंने अपना धर्म माना। वे हमारे ग्रंथों को ...
11
12
इंदौर। लिटरेचर फेस्टिवल के दूसरे दिन उत्साह और खुशी चरम पर रही। रस्किन बांड स्कूली बच्चों के बीच बच्चे बन गए और ...
12
13
इंदौर साहित्य सम्मेलन के दूसरे दिन एक और खूबसूरत सत्र रहा मेरी कहानी, मेरी जुबानी, जिसमें संजय पटेल की चर्चा हुई रेडियो ...
13
14
इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल का दूसरा दिन अलसुबह से ही चहल-पहल और मीठी चहचहाट से भरा रहा। सुबह बच्चों के प्यारे रस्टी और अंकल ...
14
15
इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल में दूसरे दिन सत्र 'एक बूंद सहसा उछली' यात्रा वृतांत के नाम था...इसे अपूर्व पौराणिक ने मॉडरेट ...
15
16
इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल के पहले दिन टोमोको किकुची के साथ नीलोत्पल मृणाल का सत्र खासा सराहा गया। विश्व शांति और साहित्य ...
16
17
इंदौर। प्रसिद्ध लेखक नरेन्द्र कोहली ने कहा कि भारत जैसा सहिष्णु देश पूरी सृष्टि में कहीं भी नहीं मिलेगा।
17
18
इंदौर। प्रसिद्ध लेखक देवदत्त पटनायक ने इंदौर लिटरेचर फेस्टिवल में कहा कि यदि भूख से मुक्ति पा लोगे तो कुत्ते की तरह ...
18
19
इंदौर, यह शहर है संस्कृति का, कला का, रंगों का, साहित्य का... यहां की आत्मीयता, यहां का खानपान, यहां की बोली सब निराली ...
19