बुधवार, 17 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. is aacharya pramod krishnam on the way of milind deora
Last Updated : सोमवार, 15 जनवरी 2024 (10:59 IST)

क्या मिलिंद देवड़ा की राह पर हैं आचार्य प्रमोद कृष्णम, कांग्रेस को लेकर दिया बड़ा बयान

aacharya pramod krishnam
Milind Deora news in Hindi : पूर्व महाराष्‍ट्र कांग्रेस प्रमुख मिलिंद देवड़ा ने रविवार को कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा से पहले देवड़ा के अचानक इस्तीफे के फैसले से सभी हैरान रह गए। इस बीच कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने भी चौंकने वाला बयान दिया है।
 
मिलिंद देवड़ा के कांग्रेस से इस्तीफे पर कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा कि कांग्रेस में कुछ ऐसे लोगों का कब्जा हो गया है जो न तो सच सुनना चाहते हैं, न सनातन, राम की बात सुनना चाहते हैं।
 
उन्होंने कहा कि जो श्री राम और सच की बात, जमीनी हकीकत को बताने की कोशिश करेगा उसे कांग्रेस छोड़नी पड़ रही है। भगवान राम के मंदिर के निमंत्रण को जिस तरह ठुकराने का काम किया गया है, मुझे लगता है कि उनका प्रकोप शुरू हो गया है।
 
आचार्य कृष्णम के बयान से लग रहा है कि वे भी देवड़ा की तरह जल्द ही कांग्रेस छोड़ सकते हैं।
 
उल्लेखनीय है कि 22 जनवरी को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा समारोह में कांग्रेस अध्‍यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे, सोनिया गांधी, अधीर रंजन चौधरी समेत कई नेताओं को आमंत्रित किया गया है। इन नेताओं ने कार्यक्रम में शामिल नहीं होने का फैसला किया है। पार्टी का कहना है कि यह धार्मिक नहीं बल्कि राजनीतिक आयोजन है।
 
आचार्य प्रमोद कृष्णम ने फैसले पर नाराजगी जताते हुए कहा था कि राम मंदिर और भगवान राम सबके हैं। राम मंदिर को भाजपा का समझ लेना दुर्भाग्यपूर्ण हैं, राम मंदिर को बीजेपी का मानना गलत हैं। उन्होंने कहा था कि मुझे पूरा भरोसा है कि कांग्रेस हिन्दू विरोधी पार्टी नहीं है, कांग्रेस राम विरोधी पार्टी नहीं हैं, ये कुछ लोग है जिन्होंने ये फैसला कराने में अहम भूमिका निभाई है, ये गंभीर विषय है, आज मेरा दिल टूट गया है।
 
उन्होंने कहा था कि इस फैसले से करोड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं का दिल टूटा हैं, उन कार्यकर्ताओं का, उन नेताओं का जिनकी भगवान राम में आस्था है। कांग्रेस वो पार्टी है जिसके नेता राजीव गांधी ने ही इस राम मंदिर का शिलान्यास, इस मंदिर के ताले खुलवाने का काम किया था।