0

दिवाली पर जलाएं सिर्फ 3 तरह के दीपक, संकट हो जाएगा समाप्त

मंगलवार,अक्टूबर 15, 2019
0
1
दिवाली की छुट्टियां हर कार्यालय और स्कूल में अलग-अलग तरह से मिलती है। कुछ अतिरिक्त छुट्टियां लेकर दिवाली पर कुछ नया प्लान किया जा सकता है। कई बार ऐसा होता है कि दीपावली की छुट्टियां घर की साज सज्जा, आराम करने या योजना बनाने में ही गुजर जाती है। ऐसे ...
1
2
भगवान श्रीराम अपना 14 वर्ष का वनवास पूरा करने के बाद पुन: लौट आए थे। कहते हैं कि वे सीधे अयोध्या न जाते हुए पहले नंदीग्राम भगवान श्रीराम अपना 14 वर्ष का वनवास पूरा करने के बाद पुन: लौट आए थे। कहते हैं कि वे सीधे अयोध्या न जाते हुए पहले नंदीग्राम ...
2
3
हिन्दू कैलेंडर के अनुसार कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस का त्योहार मनाया जाता है। यह पांच दिन चलने वाले दीपावली उत्सव का पहला दिन होता है। धनतेरस से ही तीन दिन तक चलने वाला गोत्रिरात्र व्रत भी शुरू होता है। आओ जानते हैं इस किए जाने वाले 3 ...
3
4
दीपावली के 5 दिनी उत्सव में माता कालिका की पूजा दो बार होती है। एक नरक चतुर्दशी पर जिसे काली चौदस कहते हैं और दूसरी दिवाली की रात को। काली पूजा खास उद्देश्य से की जाती है।
4
4
5
दिपावली के पांच दिनी उत्सव में नरक चतुर्दशी धन तेरस के बाद मनाई जाती है। इसे रूप चौदस भी कहते हैं। मान्यता के अनुसार इस दिन सूर्योदय से पहले उठकर उबटन, तेल आदि लगाकर स्नान करना चाहिए एवं शाम के समय यम का दीपक लगाना चाहिए। नरक चौदस के दिन 6 देवों की ...
5
6
लक्ष्मी पूजा में खील-बताशे अवश्य रखे जाते हैं। क्या आप जानते हैं कि माता लक्ष्मी की पूजा खील बताशों से ही क्यों की जाती है?
6
7
दिवाली, दीपावली के 5 दिन धन के संकट दूर करने के लिए सबसे शुभ माने गए हैं। शास्त्रानुसार व्यक्ति यदि अपने मूल कर्ज से निवृत्ति का उपाय नहीं करता है, तो उसे इस जीवन में अर्थ, उपकार, दया के रूप में किसी भी तरह का उधार लेना ही पड़ता है। इस उधार को उतारने ...
7
8
दीवावली का उत्सव धनतेरस से प्रारंभ होता है और भाई दूज पर समाप्त होता है। इस बीच बहुत से पूर्व आते हैं जिनमें महत्वपूर्ण पूजा होती है। आओ जानते हैं कि कौन-कौन से ऐसे खास पर्व और पूजा हैं जिन्हें दिवाली के दौरान मनाया जाता है।
8
8
9
आज के दिन अपनी बहन को उनकी राशि अनुसार भेंट दें, इससे आपसी रिश्तों में मिठास आएगी और दोनों के लिए यह शुभ होगा।
9
10
भैया दूज के दिन यमुनाजी के पूजन का विशेष विधान है। भगवान चित्रगुप्त पाप पुण्य का लेखा जोखा रखते हैं। भगवान चित्रगुप्त की पूजा के साथ-साथ लेखनी, दवात तथा पुस्तकों की भी पूजा की जाती है।
10
11
भाई दूज की पौराणिक कथा- भाई दूज के दिन बहनें भाई को अपने घर आमंत्रित कर अथवा सायं उनके घर जाकर उन्हें तिलक करती हैं और भोजन कराती हैं।
11
12
भाईदूज भाई-बहन के अटूट प्रेम का त्योहार है,बहन इस दिन अपने भाई को भाई की राशि अनुसार तोहफा दें।
12
13
दीपावली के दूसरे दिन अन्नकूट मनाया जाता है। अन्नकूट का अर्थ है -अन्न का ढेर। आज ही के दिन योगेश्वर भगवान कृष्ण ने इंद्र का मान-मर्दन करते हुए गोवर्धन पर्वत उठाकर इंद्र के कोप से ब्रजवासियों की रक्षा की थी।
13
14
दीपावली के समय सभी जातक महालक्ष्मी पूजन करते हैं लेकिन यदि जातक अपनी राशि अनुसार विधि-विधान से पूजन करें तो महालक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और जीवन में धन-समृद्धि आती है।
14
15
चौकी पर लक्ष्मी व गणेश की मूर्तियां इस प्रकार रखें कि उनका मुख पूर्व या पश्चिम में रहे। लक्ष्मीजी, गणेशजी की दाहिनी ओर रहें। पूजनकर्ता मूर्तियों के सामने की तरफ बैठें।
15
16
दीपोत्सव का अपना ऐतिहासिक महत्व भी है, जिस कारण यह त्योहार किसी खास समूह का न होकर संपूर्ण राष्ट्र का हो गया है।
16
17
कार्तिक मास में आने वाले इन शुभ दिनों में हम ऐसे कुछ अनुभूत प्रयोगों की चर्चा करेंगे जिससे व्यक्ति सामर्थ्यवान होकर अपनी कामनाओं की पूर्ति करने में सक्षम होगा।
17
18
इस वर्ष 7 नवंबर 2018 को दीपों का पर्व दीपावली है। यह 5 दिनों तक मनाए जाने वाला शुभ त्योहार है। इसकी शुरुआत 5 नवंबर धनतेरस से हो जाएगी। ज्योतिर्विद आचार्य संजय वेबदुनिया के पाठकों के लिए लाए हैं हर दिन के शुभ और श्रेष्ठतम मुहूर्त....
18
19
लक्ष्मी पूजा में खील-बताशे अवश्य रखे जाते हैं। क्या आप जानते हैं कि माता लक्ष्मी की पूजा खील बताशों से ही क्यों की जाती है?
19