Bharat Bandh : भाकियू भानु गुट के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह ने किसानों के भारत बंद को बताया आतंकी हरकत

पुनः संशोधित सोमवार, 27 सितम्बर 2021 (14:05 IST)
नई दिल्ली। कृषि कानूनों का विरोध कर रहे संगठन की तरफ से 27 सितंबर को बुलाए गए 'भारत बंद' को अधिकतर विपक्षी दलों ने समर्थन दिया है। केंद्र सरकार के तीन खेती कानूनों के विरोध में 40 से ज्यादा किसान संगठनों ने आज का ऐलान किया है।
ALSO READ:

Kisan Aandolan: भारत बंद का असर, इन ट्रेनों को किया गया रद्द
बंद से कई राज्यों की सड़कें जाम हो गई हैं। ट्रेनों की आवाजाही भी प्रभावित हुई है। किसान पटरी पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच (भानु) के राष्ट्रीय अध्यक्ष भानु प्रताप ने कहा कि मैं सभी पदाधिकारियों, ब्लॉक, ज़िला, मंडल, प्रदेश सबको आह्वान करता हूं कि भारत बंद का कोई सहयोग न करे और इसका विरोध करे।
ऐसे संगठन जो आतंकी गतिविधियों में शामिल है उनको सरकार दबाने की कोशिश करें। उन्होंने आगे कहा कि भारत बंद से अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा। क्या भारत बंद करके ये (राकेश टिकैत) अपनी आतंकवादी गतिविधियों को और बढ़ाना चाहते हैं? आतंकी संगठन तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में कब्जा किया, उस तरह की गतिविधियों को ये बढ़ाना चाहते हैं।
सत्ता में रहने का अधिकार खो चुकी है भाजपा : समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष और उत्तरप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा के आंदोलन और उनके ‘भारत बंद’ के आह्वान का समर्थन करते हुए सोमवार को कहा कि किसानों को सम्मान नहीं देने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सत्ता में बने रहने का नैतिक अधिकार खो दिया है।
सपा प्रमुख ने ट्वीट कर किसान आंदोलन को समर्थन देने की घोषणा की। यादव ने ट्वीट किया, ‘‘संयुक्त किसान मोर्चा के ‘भारत बंद’ को सपा का पूर्ण समर्थन है। देश के अन्नदाता का मान न करने वाली दंभी भाजपा सत्ता में बने रहने का नैतिक अधिकार खो चुकी है। किसान आंदोलन भाजपा के अंदर टूट का कारण बनने लगा है।’’



और भी पढ़ें :