0

हवाखोरी का रहस्य क्या है?

गुरुवार,फ़रवरी 4, 2021
0
1
हिमालय में कुछ ऐसी जगहें हैं जहां पर शून्य से 45 डीग्री से भी नीचे तापमान रहता है फिर भी वहां पर निर्वस्त्र रूप से रहकर साधुओं को तप करते देखे जाने की घटना से भारतीय सैकिन वाकिफ है। एक ओर जहां पर भारतीय सैनिक खून को जमा देवे और हाड़ कपा देने वाली ...
1
2
वर्तमानकाल में अधिकतर लोगों की सोच नकारात्मक हो चली है। इसके पीछे कई राजनीतिक, सामाजिक और रहन-सहन में परिवर्तन के कारण भी हो सकते हैं। यह भी हो सकता है कि कोई व्यक्ति बचपन से ही गलत लोगों के साथ रहा हो या बाद में उसकी संगति गलत लोगों की हो गई हो। कई ...
2
3
कहते हैं कि जहां गंदगी होती है वहां पर ही वायरस और बैक्टीरिया पनपते हैं। अत: कोरोना काल में साफ-सफाई के साथ ही शरीर और मन की शुद्धि का भी महत्व बढ़ गया है। आओ जानते हैं कि स्नान के कितने प्रकार हैं और यह कैसे किया जाता है। यहां मुख्‍यत: दो तरह के ही ...
3
4
कुछ वर्ष पूर्व आर्काइव्स ऑफ इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित शोध के परिणाम के अनुसार लंबी उम्र के लिए हमारे जीन सिर्फ 30 प्रतिशत तक जिम्मेदार होते हैं बाकी का काम तो जीवन शैली करती है। कोरोनाकाल में हमारी लाइफ स्टाइल पूरी तरह से बदल गई है।
4
4
5
कोराना से जंग में मन की शक्ति का होना बहुत जरूरी है। ऐसे कई लोग हैं जो कोराना मरिज से मिले और फिर भी उन्हें कोरोना नहीं हुआ। ऐसे भी कई लोग हैं जिन्हें कोरोना हो गया और वे 4 दिन में या 7 दिन में ठीक हो गए। यह सब मन का खेल है परंतु आप सोचेगे ऐसा कैसे ...
5
6
योग शब्द के दो अर्थ हैं और दोनों ही महत्वपूर्ण हैं। पहला है- जोड़ और दूसरा है समाधि। जब तक हम स्वयं से नहीं जुड़ते, समाधि तक पहुंचना कठिन होगा। इस सांसार में दो मार्ग है सांसारिक रहकर श्रेष्ठ जीवन जिना और दूसरा संन्यासी बनकर मोक्ष की ओर गमन करना। ...
6
7
आयुर्वेद शास्त्र के अनुसार मनुष्य की आयु लगभग 120 वर्ष बताई गई है लेकिन वह अपने योगबल से लगभग 150 वर्षों से ज्यादा जी सकता है। कहते हैं कि प्राचीन मानव की सामान्य उम्र 300 से 400 वर्ष हुआ करती थी, क्योंकि तब धरती का वातावरण व्यक्ति को उक्त काल तक ...
7
8
हर साल 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जाता है। योग दिवस आखिर क्यों मनाया जाता है और इसकी शुरुआत कब से हुई जानिए संक्षिप्त में कुछ खास।
8
8
9
योग का वर्णन वेदों में, फिर उपनिषदों में और फिर गीता में मिलता है, लेकिन पतंजलि और गुरु गोरखनाथ ने योग के बिखरे हुए ज्ञान को व्यवस्थित रूप से लिपिबद्ध किया। योग हिन्दू धर्म के छह दर्शनों में से एक है। ये छह दर्शन हैं- 1.न्याय 2.वैशेषिक 3.मीमांसा ...
9
10
आधुनिक दौर में अस्पताल के खर्चे, दवाओं के साइड इफेक्ट और भागदौड़ भरी जिंदगी के तनाव, अवसाद और निराशा ने व्यक्ति के जीवन को यंत्रवत और बस काटने वाला बना दिया है। अनियमित जीवन शैली से मन और शरीर में संताप बने रहते हैं। रात में नींद अच्छे से नहीं आती ...
10
11
योग का उद्भव भारत से ही माना जाता है। भारत में योग का इतिहास लगभग 2000 वर्ष पुराना बताया गया है। भार‍त में स्‍वामी विवेकानंद ने योग की शुरुआत बहुत पहले कर दी थी
11
12
आज के समय में सभी के जीवन में योग का बहुत अधिक महत्‍व है। वर्तमान में बढ़ती बीमारियों से निपटने के लिए योग बहुत जरूरी है। जिस प्रकार डायबिटीज के मरीज के लिए दवा जरूरी है,
12
13
इक्कीसवीं सदी की शुरुआत में योग के प्रचार-प्रसार को जो आधुनिक रंग दिया गया था उसके परिणाम सन् 2009 में आने लगे। अब तो योगा डे मनाने के साथ ही योग अब विश्वव्यापी बन चुका है। योग के प्रचार-प्रसार में देशी और विदेशी योगाचार्यों की मेहनत रंग लाई और इसका ...
13
14
कब्ज एक वैश्‍विक समस्या है। वैसे भी लॉकडाउन में घर में ही रहने के चलते घुमना फिरना नहीं हो पा रहा है तो खाने को पचने में भी समस्या हो रही होगी। ऐसे में योग और आयुर्वेद के 5 नुस्खे अपना सकते हैं।
14
15
लॉकडाउन के दौरान आपने योग के नियम का पालन कर लिया तो शर्तिया आप हर संकट से जीत जाएंगे।
15
16
योग में क्रियाएं बहुत असरकारक होती है, लेकिन इन क्रियाओं को वही व्यक्ति कर सकता है जो योग में पारंगत हो। यह क्रियाएं शरीर में जमी गंदगी के अलावा किसी भी प्रकार के बैक्टीरिया हो उन्हें बाहर निकाल देती हैं। यदि आप किसी योग शिक्षक से यह क्रियाएं सीख ...
16
17
जब आप योग कर रहे हैं तो इस बात का जरूर ध्यान रखें कि योग करते समय आपको ठंडा पानी नहीं पीना चाहिए। यह आपके शरीर को नुकसान पहुंचा सकता है,
17
18
पीरियड्स के समय महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव देखे जाते हैं। इस समय कुछ महिलाओं को तकलीफ भी होती है, जैसे कमर दर्द व चिड़चिड़ापन। ऐसी तकलीफें महिलाओं में आमतौर पर देखी जाती हैं और ऐसे दर्द में या पीरियड्स के दौरान व्यायाम करना ठीक है कि ...
18
19
योग शरीर और मन को साधने की एक प्रक्रिया है। वेदों के छह अंगों में से एक है योग। मूलत: योग का वर्णन सर्वप्रथम वेदों में ही हुआ है लेकिन यह विद्या वेद के लिखे जाने से 15000 ईसा पूर्व के पहले से ही प्रचलन में थी, क्योंकि वेदों की वाचिक परंपरा हजारों ...
19