सोमवार, 22 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. Sukhdev Gogamedi murder case : Delhi Police Crime Branch detains three, including key accused
Written By
Last Updated : रविवार, 10 दिसंबर 2023 (08:03 IST)

गोगामड़ी हत्याकांड : सुखदेव सिंह की हत्या करने वाले 2 शूटर्स सहित 3 चंडीगढ़ से गिरफ्तार

sukhdev singh gongamadi
Sukhdev Gogamedi murder case : गोगामड़ी हत्याकांड में शामिल आरोपियों को दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच और राजस्थान पुलिस का जॉइंट ऑपरेशन के जरिए पकड़ लिया गया है। सुखदेव सिंह की हत्या करने वाले 2 शूटर्स समेत 3 को गिरफ्तार किया गया है। 
 
इनकी गिरफ्तारी चंडीगढ़ के सेक्टर 22 के होटल से हुई है। आरोपियों के पास से मोबाइल फोन बरामद किया गया है। गिरफ्तार हुए आरोपियों में नितिन फौजी, रोहित राठौड़ और उधम शामिल हैं। उधम वह शख्स है जो फरारी के दौरान इनके साथ था।
 
श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की मंगलवार को शूटर नितिन फौजी एवं रोहित राठौड़ ने अंधाधुंध गोलीबारी कर हत्या कर दी थी ।
 
पुलिस के मुताबिक नितिन फौजी के लिए जयपुर में पूरी व्यवस्था रामवीर ने की थी। उन्होंने बताया कि ये दोनों दोस्त हैं। 
 
वारदात के बाद रामवीर ही आरोपी नितिन एवं रोहित को मोटरसाइकिल पर लेकर बगरू टोल प्लाजा से आगे गया और उन्हें राजस्थान रोडवेज की एक बस में बैठाया था।

परिवार ने लगाया लापरवाही का आरोप : इस मामले में गोगामेड़ी की पत्नी शीला शेखावत ने पूर्व की अशोक गहलोत सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। शीला का दावा है कि उनके पति की सुरक्षा को खतरा था लेकिन इसके बाद भी उन्हें सिक्योरिटी नहीं दी गई थी। 
 
क्या लिखा था एफआईआर में : अपनी एफआईआर में उन्होंने लिखा है कि पंजाब पुलिस ने उनके पति की हत्या की आशंका जताई थी। अशोक गहलोत और डीजीपी ने इस अलर्ट के बाद भी सुखदेव सिंह को सुरक्षा नहीं दी जिस वजह से शूटर्स उनकी हत्या करने में सफल रहे हैं। 
 
राजस्थान में हुआ था भारी बवाल : करणी सेना का प्रभाव राजस्थान में जातिगत और राजनीतिक स्तर पर भी रहा है। यही कारण है कि इस मर्डर केस पर जमकर बवाल हो रहा है। करणी सेना समर्थकों ने इसे आतंकी घटना बताते हुए एनआईए से जांच की मांग की है। 
 
नहीं हुआ मुख्यमंत्री का ऐलान : दूसरी ओर राजस्थान में अब तक नए मुख्यमंत्री का ऐलान नहीं हुआ है। भाजपा और निर्वतमान अशोक गहलोत सरकार के लिए मर्डर केस को जल्द से जल्द सुलझाना जरूरी है क्योंकि इसके राजनीतिक समीकरण भी हैं। राजपूत समाज के अंदर इस हत्याकांड की वजह से भारी आक्रोश है। प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन भी हुआ है।