UP : कामगारों और श्रमिकों के रोजगार के लिए योगी आदित्यनाथ ने बनाया यह प्लान

अवनीश कुमार| पुनः संशोधित सोमवार, 25 मई 2020 (16:23 IST)
लखनऊ। उत्तरप्रदेश के लखनऊ में आज सोमवार को मुख्यमंत्री अपने सरकारी आवास पर के साथ लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश सरकार विभिन्न राज्यों से सभी कामगारों व श्रमिकों की सुरक्षित व सम्मानजनक प्रदेश वापसी के लिए कृत-संकल्पित है।
ALSO READ:

प्रवासी मजदूरों को लेकर उप्र-महाराष्ट्र में तकरार, शिवसेना ने CM योगी को बताया हिटलर
राज्य सरकार कामगारों व श्रमिकों को रोजगार तथा सामाजिक सुरक्षा भी प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए प्रदेश सरकार ने एक आयोग गठित करने का निर्णय लिया है। इसके लिए इस आयोग के गठन की कार्रवाई को तेजी से आगे बढ़ाया जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश वापस आने वाले कामगारों व श्रमिकों को क्वारंटाइन सेंटर में ले जाते हुए वहां उनकी स्क्रीनिंग की जाए। जो स्वस्थ हों, उन्हें राशन किट उपलब्ध कराते हुए होम क्वारंटाइन के लिए घर भेजा जाए। होम क्वारंटाइन के दौरान इन्हें 1,000 रुपए का भरण-पोषण भत्ता भी दिया जाए। नियमित रूप से खाद्यान्न की व्यवस्था के लिए इनके राशन कार्ड भी बनाए जाएं।
उन्होंने कहा कि क्वारंटाइन सेंटर तथा कम्युनिटी किचन में साफ-सफाई तथा सुरक्षा के बेहतर इंतजाम सुनिश्चित किया जाए। साथ ही साथ प्रधानमंत्री के विशेष आर्थिक पैकेज के माध्यम से कामगारों व श्रमिकों के लिए आवास निर्माण की व्यवस्था की जाए। श्रमिकों के रहने के लिए डॉरमेट्री निर्माण पर भी कार्य किए जाने की आवश्यकता है। इससे कम धनराशि में उन्हें अच्छी सुविधा प्राप्त होगी।



और भी पढ़ें :