जीत के बाद भी आसान नहीं होगी बिडेन की राह, जानिए क्या है मुश्किल...

पुनः संशोधित गुरुवार, 5 नवंबर 2020 (14:33 IST)
वाशिंगटन। अमेरिकी संसद के उच्च सदन सीनेट में डेमोक्रेटिक पार्टी की पकड़ कमजोर होती दिख रही है। इससे राष्‍ट्रपति चुनाव जीतने के बाद भी की मुश्किलें कम नहीं होगी।
ALSO READ:
अमेरिका में डेमोक्रेट्स की जीत का भारत पर क्या होगा असर
अमेरिका के कई प्रमुख प्रांतों में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार अपने विपक्षी रिपब्लिकन उम्मीदवारों के खिलाफ हारते नजर आ रहे हैं। इससे सीनेट में पकड़ मजबूत करने के डेमोक्रेटिक पार्टी के इरादे को झटका लगा है।

कांग्रेस में बढ़त हासिल कर उस पर अपनी पकड़ मजबूत करने की दिशा में आगे बढ़ रहे डेमोक्रेटिक सदस्य उच्च सदन पर भी नियंत्रण हासिल करना चाहते थे। इससे वह देश में राष्ट्रपति बनने वाले अगले व्यक्ति के एजेंडे को आगे बढ़ाने अथवा उसमें रुकावट डालने की स्थिति में हो सकते हैं।
डेमोक्रेटिक सदस्यों से मिली कड़ी चुनौती के बावजूद सीनेट में रिपब्लिकन पार्टी के पास बहुमत है। डेमोक्रेटिक पार्टी सीनेट में बहुमत हासिल करने से केवल चार सीटें ही कम रह गयीं।

गौरतलब है कि इस बार के साथ ही अमेरिकी संसद कांग्रेस के लिए भी साथ-साथ चुनाव हो रहे हैं।
रिपब्लिकन पार्टी के पास 53 सीटों के साथ सीनेट में बहुमत है जबकि डेमोक्रेटिक पार्टी के पास 47 सीटें ही हैं। इस तरह रिपब्लिकन सदस्य राष्ट्रपति बनने के बाद भी बिडेन की राह आसान अथवा मुश्किल कर सकते हैं। (वार्ता)



और भी पढ़ें :