‘आर्यन मेरा दोस्‍त है, हम एक ही बैरक में थे’, चोर ने दिया इंटरव्‍यू और फि‍र से हो गया ‘अंदर’!

Last Updated: सोमवार, 1 नवंबर 2021 (12:05 IST)
हमें फॉलो करें
शाहरुख खान के बेटे आर्यन को लेकर मीडि‍या में तमाम तरह की खबरें आ रहीं हैं। हाल ही में एक ऐसी खबर आई कि सब चौंक गए।

एक शख्‍स ने मीडि‍या में इंटरव्‍यू देते हुए बताया कि वो आर्यन खान का दोस्‍त है, बस उसकी यह बयानबाजी उस पर भारी पड़ गई। इंटरव्यू देने वाला यह शख्‍स दोबारा सलाखों के पीछे पहुंच गया है।

धारावी निवासी 44 साल के श्रवण नाडार चोरी के एक मामले में आर्थर रोड जेल के उसी बैरक नंबर एक में बंद था, जिसमें क्रूज ड्रग्स पार्टी मामले के आरोपी आर्यन खान को रखा गया था। नाडार के मुताबिक उसे और आर्यन को एक ही दिन जेल में लाया गया था।

तकरीबन एक हफ्ते पहले नाडार को चोरी के एक मामले में जमानत मिली थी। जबकि गुरुवार को बाम्बे हाईकोर्ट ने आर्यन की जमानत मंजूर की। जैसे ही न्यूज चैनल के माध्यम से श्रवण नाडार को यह खबर पता चली तो वह इस आशा में आर्थर रोड जेल परिसर में पहुंच गया कि आर्यन गुरुवार को जेल से बाहर आ जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इस बीच नाडार ने वहां पर मौजूद मीडियाकर्मियों को बताया कि वह भी हाल ही में जेल से बाहर आया है। साथ ही उसने यह भी बताया कि वह और आर्यन एक ही बैरक में बंद थे।

दिलचस्प है कि चोरी के एक दूसरे मामले में जुहू पुलिस स्टेशन को श्रवण नाडार की तलाश थी। उसे टीवी पर इंटरव्यू देते देख जुहू पुलिस स्टेशन के अधिकारी ने इसकी जानकारी क्राइम ब्रांच की यूनिट को दी। इसके बाद नाडार को जुहू पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

उसके खिलाफ 13 मामले दर्ज हैं। इससे पहले मटुंगा पुलिस ने उसे चोरी के आरोप में गिरफ्तार किया था।

श्रवण नाडार ने इंटरव्यू के दौरान मीडियाकर्मियों से बात करते हुए बताया था कि आर्यन खान जेल में पहली बार आने पर रो पड़े थे। जब उनसे पूछा गया कि क्या जेल में आर्यन को कोई वीआईपी ट्रीटमेंट मिल रहा है, क्योंकि वह शाहरुख खान के बेटे हैं? तो श्रवण नाडार ने जवाब देते हुए कहा, ‘उन्हें किसी तरह की कोई अलग ट्रीटमेंट नहीं दी जा रही है। जैसे सभी कैदी रहते हैं, वैसे ही वो भी जेल में रह रहे हैं।

मैं और आर्यन दोनों बैरक नंबर 1 में ही थे’
आर्यन पर बात करते हुए श्रवण नाडार ने मीडिया को बताया था कि जेल में उनके साथ उसी बैरक में उनके दोस्त आर्यन भी हैं, जो इस मामले में फंसे हैं। ज्यादातर वो कैंटीन से बिस्कुट लेकर खाते थे। पहले दिन जब वे आए थे तो रो रहे थे।



और भी पढ़ें :