मजेदार बाल गीत : घर बंदी से बाहर

child poem
Kids Poem
 
घर बंदी से बाहर निकले,
आज आनंदी।

आज आनंदी ने ठेले पर,
फुल्की खाई।
हरे पार्क में मस्ती करते,
दौड़ लगाई।
दृख्तों पर देखी हैं,
चि़ड़िया रंगबिरंगी।

बॉल छीनकर दौड़ लगाई,
आगे-आगे।
गोल आनंदी ने फुर्ती से,
दन-दन दागे।
करने लगे वाहवाही सब,
साथी संगी।

पिंजरे से बाहर आते ही,
धूम मचा दी।
रक्षा के ताले की चाबी,
कहीं गुमा दी।
नियम कायदे उड़ा दिए सब,
चिंदी चिंदी।
(वेबदुनिया पर दिए किसी भी कंटेट के प्रकाशन के लिए लेखक/वेबदुनिया की अनुमति/स्वीकृति आवश्यक है, इसके बिना रचनाओं/लेखों का उपयोग वर्जित है...)



और भी पढ़ें :