दवाइयों के अवैध कारोबार ने Corona से लड़ाई को बनाया मुश्किल

पुनः संशोधित बुधवार, 16 जून 2021 (19:04 IST)
लैंकेस्टर (ब्रिटेन)। ‘नकली’ शब्द की बात की जाए तो जहन में नकली नोट या असली से मिलते-जुलते किसी सामान की छवि उभरती है, लेकिन इस कोविड काल में अवैध और नकली दवाओं ने महामारी के खिलाफ संघर्ष को बहुत प्रभावित किया है।
इंटरपोल ने हाल ही में एक बड़े ऑपरेशन में, वैश्विक स्तर पर अवैध कारोबार करने वाले गिरोहों को पकड़ा। इस दौरान 1 लाख से अधिक फर्जी ऑनलाइन फ़ार्मेसियों को बंद किया, लगभग 300 गिरफ्तारियां कीं और इस प्रक्रिया में दो करोड़ अमेरिकी डॉलर से अधिक की नकली वस्तुओं को जब्त किया।

मुख्य रूप से नकली कोविड-19 परीक्षण किटों को ध्यान में रखते हुए यह अभियान शुरू किया गया था, लेकिन धीरे-धीरे चीन और दक्षिण अफ्रीका में अवैध सामान के बड़े नेटवर्क से लेकर व्यापक रूप से उपलब्ध सामग्री जैसे नमकीन घोल और मिनरल वाटर से नकली टीकों का उत्पादन शामिल है।
इन कानून प्रवर्तन सफलताओं के बावजूद, कोविड-19 के खिलाफ दुनिया की लड़ाई नकली पीपीई, कोविड-19 परीक्षण किट, टीके, वैक्सीन पासपोर्ट और अन्य उत्पादों के तेजी से बढ़ते व्यापार से कमजोर हो रही है जो वायरस के प्रसार में योगदान दे रहे हैं।

नकली टीकों का बाजार : फार्मास्युटिकल का बाजार सालाना एक खरब अमेरिकी डालर का है, जो इसे जालसाजों के लिए आकर्षण का केन्द्र बनाता है। ये जालसाज अक्सर ऑनलाइन नीलामी साइटों या फार्मेसियों के माध्यम से गुमनाम रूप से व्यापार करते हैं। विशेष रूप से कोविड-19 के नकली टीके सामने आने के कई कारण हैं, जिनमें उच्च और तत्काल मांग शामिल है– जिसने महामारी के दौरान आपूर्ति को पीछे छोड़ दिया है।
वैक्सीन के विकास पर आने वाले खर्च ने टीके की जालसाजी की संभावना को और भी बढ़ा दिया है। वैक्सीन के उत्पादन और उससे पहले इसके अनुसंधान और विकास पर आने वाला खर्च इतना ज्यादा है कि इसने इसे विशेष रूप से गरीब देशों की पहुंच से दूर कर दिया है। इससे अंततः टीकों के लिए असमान वैश्विक पहुंच का वातावरण बना, जहां दुनिया की अधिकांश आपूर्ति सबसे शक्तिशाली देशों द्वारा नियंत्रित की जा रही है।
इस बीच, नकली के उत्पादन की सापेक्ष आसानी के साथ ही इसके नकली होने का पता तभी चल सकता है। यदि यह किसी को वायरस से बचाने में विफल रहती है। इसका सीधा मतलब है कि इसके बाजार में प्रवेश की बाधा अपेक्षाकृत कम हो सकती है।

नकली उत्पादों के सेवन के परिणाम, जब वे व्यक्ति के जीवन की सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण हों, जैसे कि इंजेक्शन वाले टीके के मामले में, निश्चित रूप से महत्वपूर्ण हो सकते हैं और नकली दवाओं के कई ऐतिहासिक मामले हैं, जैसे कि कैंसर और मलेरिया-रोधी दवाएं, जो मौत का कारण बनती हैं। नकली दवाएं संभावित रूप से विषाक्त तो होती ही हैं, इनमें कोई भी सक्रिय संघटक नहीं होता है, या होता भी है तो उसका मिश्रित पतला स्वरूप जो इच्छित प्रभाव देने में विफल होता है।
कोविड से संबंधित अन्य उत्पादों, जैसे नकली वैक्सीन पासपोर्ट और परीक्षण किट से व्यक्ति को सीधे स्वास्थ्य संबंधी नुकसान नहीं होता, लेकिन इन नकली उत्पादों का प्रसार दूसरों को संक्रमित करने में सहायक हो सकता है और इससे कोविड-19 के संचरण को रोकने के प्रयासों में बाधा आ सकती है।

अवैध सामान के कारोबार ने कोविड के जिद्दी अस्तित्व को कितना नुकसान पहुंचाया है, यह बता पाना तो मुश्किल है, लेकिन इतना जरूर कहा जा सकता है कि कुछ देशों में यह बीमारी की नयी लहर आने का कारण हो सकता है और कोविड के खिलाफ वैश्विक लड़ाई पर इसका निर्णायक प्रभाव है।
खतरे का मुकाबला : जालसाज एक बदलते खतरे को पेश करते हैं, और डिजिटल रूप से सक्रिय होने के कारण इनका पता लगाना मुश्किल हो सकता है। हालांकि, उनके द्वारा उत्पन्न खतरे से निपटने के लिए संभावित प्रति-उपाय हैं।
हालांकि कुछ तकनीकी विकास जैसे कि इंटरनेट ने जालसाजी को बढ़ा दिया है, लेकिन कुछ अन्य उपाय करके, जैसे कि रेडियो फ्रीक्वेंसी पहचान टैग और ब्लॉकचेन तकनीक, वास्तविक उत्पादों को अलग करने और उनके असली होने की पुष्टि करने में मदद कर सकते हैं।

इसके अलावा, जिस तरह जालसाज पकड़े जाने से बचने के लिए अपनी तकनीक बदलते रहते हैं, ठीक उसी तरह वास्तविक निर्माता अपने उत्पादों के पैकेजिंग डिजाइन नियमित रूप से बदलकर, और उपभोक्ताओं को नकली का पता लगाने के बारे में शिक्षित करके अपने उत्पादों की नकल को कठिन बना सकते हैं।
हालांकि इस सबके बीच यह अच्छी खबर है कि दुनिया की कुछ महाशक्तियां अब टीकों की वैश्विक आपूर्ति में सहायता कर रही हैं। फिर भी ग्राहकों को नकली खरीदने के खतरों के बारे में शिक्षित करने की आवश्यकता है। इसके अतिरिक्त, नकली उत्पादों की खरीद अक्सर संगठित अपराध के अन्य रूपों के लिए धन देती है।

ऐसे में यह जरूरी है कि जिस तरह सारी दुनिया ने वायरस के खिलाफ मिलकर कार्य किया है ठीक उसी प्रकार नकली सामान के अवैध कारोबार के खिलाफ भी मिलकर कदम उठाना होगा, वर्ना सामान्य हालात की तरफ लौटने की हमारी यात्रा में कुछ और देर हो सकती है।(द कन्वरसेशन)



और भी पढ़ें :