दुनिया की पाँचवीं बड़ी नौसेना

ND
पर जबरदस्त आक्रमण किया और पाकिस्तानी नौसेना के कई युद्धपोत कराची बंदरगाह में डुबो दिए गए। भारतीय नौसैनिकों ने अपनी जान की परवाह किए बगैर कराची बंदरगाह के नजदीक जाकर मिसाइलों से कराची बंदरगाह पर हमला कर दिया। बंदरगाह पर विनाश की जो वीरता भारतीय नौसैनिकों ने दिखाई वह इतिहास के पन्नों पर अमिट हो गई। हर वर्ष 4 दिसंबर को देश 'नेवी डे' मनाकर इन रणबाँकुरों के शौर्य और उनकी कर्त्तव्यनिष्ठा को पुष्पांजलि समर्पित कर आदर प्रकट करता है।

भारतीय नौसेना की क्षमताएँ
* भारतीय नौसेना में 55 हजार कर्मचारी हैं जो मोर्चे पर तैनात हैं जिसमें पाँच हजार कर्मचारी नेवल एविएशन के व 2000 मरीन कमांडो हैं।

* 155 से ज्यादा युद्धपोत व अन्य नावें हैं जिनमें आईएनएस विराट भी शामिल है जो कि एयरक्राफ्ट करियर है।

नौसेना के तीन क्षेत्रीय कमांड
* ईस्टर्न नेवल कमांड (विशाखापट्टनम)
* वेस्टर्न नेवल कमांड (मुंबई)
* साउदर्न नेवल कमांड (कोच्चि)

इसके अलावा नेवी, आर्मी और एयरफोर्स की एक कमान अंडमान-निकोबार में वर्ष 2001 में स्थापित की गई।

युद्धपोत और हथियार
भारतीय नौसेना इन दिनों आधुनिकीकरण के दौर से गुजर रही है। वर्ष 2013 तक भारतीय नौसेना पूरी तरह आधुनिक रूप ले लेगी।

युद्धपोत
भारतीय नौसेना के पास काफी बड़े युद्ध पोत हैं तथा इनका नामकरण आईएनएस (इंडियन नेवलशिप) से होता है। नौसेना के पास भारतीय के अलावा विदेशों से लिए जहाज व पनडुब्बी भी हैं। फिलहाल नौसेना दिल्ली व राजपूत क्लास के विध्वंसक पोत प्रयोग कर रही है जिसमें तलवार क्लास, गोदावरी क्लास तथा ब्रह्मपुत्र शामिल हैं। इसके अलावा किव क्लास एयरक्राफ्ट करियर जिसे रूस से प्राप्त किया है, इसका पहले नाम एडमिरल गोर्शकोव था जिसे बदलकर आईएनएस विक्रमादित्य कर दिया गया है।

वर्ष 2012 में आईएनएस विराट सेवानिवृत्त होगा और उसकी जगह भारत में ही बने विक्रांत क्लास एयरक्राफ्ट करियर लेंगे। वर्ष 2006 में भारत ने 16,900 टन का यूएसएस ट्रिनीटान खरीदा जो कि आस्टिन क्लास ट्रांसपोर्ट डॉक है। इसका नाम आईएनएस जलाश्व कर दिया है जिसे 22 जून 2007 में कमीशन में लिया गया। छह एच-3 सी किंग हेलिकॉप्टर भी खरीदे हैं।

16 पनडुब्बियाँ : नौसेना के पास 16 डीजल चलित पनडुब्बियाँ हैं। ये मुख्य रूप से रूस व जर्मनी की हैं। भारत ने छह स्कॉर्पियन श्रेणी की पनडुब्बियों का निर्माण आरंभ कर दिया है जो कि एयर इंडिपेंडेंट प्रपलशन से युक्त होंगी और इन्हें भारतीय नौसेना में 2010-11 से शामिल किया जाएगा। नौसेना अपनी पनडुब्बियों में ब्रह्मोज क्रूज मिसाइल लगाने जा रहा है।
ND|
1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान भारतीय नौसेना के एक दस्ते ने कराची बंदरगाह
(नईदुनिया)



और भी पढ़ें :