ट्रैवल के बाद यह लक्षण आएं तो तुरंत कराएं कोरोना की जांच


कोविड लहर से पूरी दुनिया जूझ गई थी। जैसे-जैसे कोविड केस कम हो रहे थे लोग राहत की सांस ले रहे थे। एक बार फिर से जिंदगी पटरी पर लौट रही थी। लेकिन कोविड-19 नए वेरिएंट ने चिंता पैदा कर दी है। एक बार फिर से दहशत का माहौल फैल गया है। ऐसे में

ट्रैवल
करना बेहद जोखिम भरा है। यात्रा के दौरान आप कब और किसके संपर्क में आ जाएं कोई नहीं जानता। भले ही आप अच्‍छा महसूस कर रहे हैं, आपको किसी प्रकार के लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं फिर भी आप संक्रमित हो सकते हैं। वायरस आपसे दूसरे में फैल सकता है। आइए जानते हैं
ट्रैवल
के बाद निम्‍न लक्षण दिखने पर कैसे बरते सावधानी -

-
ट्रैवल
के बाद अपने आप को कम से कम 7 दिन तक क्‍वारंटाइन करें।
- सर्दी-जुकाम होने पर डॉक्टर से संपर्क करें।

- सांस लेने में समस्या होने पर डॉक्टर से संपर्क करें और जांच के लिए पूंछे।

- किसी प्रकार के लक्षण नहीं दिखने पर भी 3 से 5 दिन बाद RT-PCR टेस्ट जरूर कराएं।

- अस्‍वस्‍थ्‍य होने पर यात्रा नहीं करें।

- यात्रा के बाद अस्‍वस्‍थ्‍य महसूस कर रहे हैं तो खुद को अलग करें। और डॉक्टर से संपर्क कर जांच के लिए पूछें।

इस प्रकार
ट्रैवल के बाद लक्षण दिखने पर जांच कराना जरूरी है। क्‍योंकि कई बार टेस्‍ट कराने पर भी रिपोर्ट पॉजिटिव आ सकती है। और लक्षण पता नहीं चलते हैं। इसलिए
ट्रैवल
के
दौरान लोगों के संपर्क में आने से बचें। किसी भी प्रकार की चीजों को छूने से बचें। बस में अपने मास्‍क को बार-बार नहीं उतारें। ना ही उसे टच करें। नाक और मुंह को अच्‍छे ढक कररखें। क्‍योंकि वायरस सबसे पहले इन दो जगहों से प्रवेश करता है। हाल ही में दुनिया में नए वेरिएंट के सामने आ रहे मामलों में कई लोगों को टीके के दोनों डोज लग चुके हैं तो किसी
के अंदर वायरस से संक्रमित होने के लक्षण नजर नहीं आए है। इसलिए ट्रेवल के बाद अपने आपको सेल्‍फ क्‍वारंटाइन जरूर करें और टेस्‍ट कराएं।



और भी पढ़ें :