राष्ट्रीय उद्यान बांधवगढ़ में वन्य जीवों की सुरक्षा की सतत निगरानी रखें- डॉ. अशोक कुमार भार्गव

वेबदुनिया न्यूज डेस्क| पुनः संशोधित शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020 (00:51 IST)
रीवा। के ने कहा कि इंसानो के बाद वन्य प्राणियों पर कोरोना का खतरा है, इसलिए वन्य जीवों की की सुरक्षा के प्रति सतत निगरानी रखें। उन्होंने उमरिया जिले के भ्रमण के दौरान राष्ट्रीय उद्यान बांधवगढ़ स्थित रेस्ट हाउस में बैठक के दौरान यह बात कही।
बैठक में पुलिस महानिरीक्षक शहडोल रेंज जी जनार्दन, पार्क के क्षेत्र संचालक विन्सेंट रहीम, एसडीएम मानपुर योगेश तुकाराम, उप संचालक बांधवगढ़ टाईगर रिजर्व शुक्ला सहित अन्य पार्क के अन्य कर्मचारी उपस्थित थे।

डॉ. भार्गव ने कहा कि विश्व प्रसिद्ध बांधवगढ़ रिजर्व बाघों के नाम से जाना जाता है यहां की प्राकृतिक छटा पर्यावरण एवं पार्को से भिन्न है। यहां के जंगलों में विचरण करने वाले बाघों, अन्य वन्य प्राणियों में नही फैलने पाए इसके लिए पार्क प्रबंधन भारत शासन वन मंत्रालय की गाइड लाइन का पूरी तरह पालन करें। वन्य प्राणियों के स्वाभाव में यदि आकस्मिक बदलाव देखा जाए तो उनका पूरी तनमयता एवं व्यवस्था के साथ परीक्षण करते हुए सेनेटाइज किया जाए।

उन्होंने कहा कि पार्क में किसी प्रकार की गंदगी नही हों, इसकी स्वच्छता पर भी विशेष ध्यान रखे ताकि वन्य प्राणी जो हमारे देशी की धरोहर है वे सुरक्षित रहें। सीसी टीवी कैमरे के माध्यम से वन्य प्राणियों पर नजर रखी जाए। पार्क के अंदर वन्यकर्मी सेनेटाइज होकर एवं मास्क लगाकर अंदर प्रवेश करें। कोरोना से वन्य प्राणियों को बचाना पार्क प्रबंधन सहित हम सबकी बड़ी जिम्मेदारी है।
डॉ. भार्गव ने कहा कि के संक्रमित होने की आशंका के चलते नेशनल टाईगर कन्जर्वेंशन अथॉरिटी और सेन्ट्रल जू अथॉरिटी एलर्ट मोड पर आ गई है। दोनो अथॉरिटी ने टाईगर रिजर्व को आदेश जारी कर बाघों पर नजर रखने के निर्देश पूर्व में ही दिए हैं, जिनका अक्षरशः पालन सुनिश्चित किया जाए।

बैठक में क्षेत्र संचालक विन्सेंट रहीम ने कमिश्नर को बताया कि बाघों एवं वन्य प्राणियों की निगरानी 24 घंटे सीसी टीवी कैमरे से की जा रही है। उन्होने बताया कि पार्क के अंदर जिन कर्मचारियों को तैनात किया गया है, उन्हें मास्क और सेनेटाइज होकर ही जाने की अनुमति दी गई है।

बाहर से आने वाले लोगों को पार्क के अंदर जाने पर पूरी तरह से रोक लगाई गई है। बाघों के सेंपल कोरोना जांच के लिए भेजने के निर्देश दिए गए है। उन्होंने बताया कि अभी तक वन्य प्राणियों में कोरोना वायरस के लक्षण नही पाए गए है।


और भी पढ़ें :