अयोध्या के घर-घर में लहरा रहा है भगवा ध्वज

Last Updated: बुधवार, 5 अगस्त 2020 (10:03 IST)
अयोध्या। करीब पांच सदियों के लंबे इंतजार के बाद देश दुनिया के करोड़ों रामभक्तों का अयोध्या में भव्य मंदिर निर्माण का सपना पूरा होने जा रहा है। इस बीच, राम नगरी अयोध्या पूरी सज-धज के साथ तैयार है और पूरा नगर भगवा ध्वजों से पट गया है।

भक्ति और उल्लास से सराबोर अयोध्या में उत्सव का माहौल है। शुभ के प्रतीक पीले रंग में रंगी अयोध्या के हर मकान की छत पर भगवा लहरा रहा है। फूलों की भीनी-भीनी खुशबू वातावरण में भक्ति की मिठास घोल रही है।

अयोध्या में सुबह तेज बारिश हुई है और सुबह नौ बजे तक आसमान में बादल छाए रहे, लेकिन इंद्रदेव भगवान राम के भव्य मंदिर के भूमि पूजन का कार्यक्रम निर्विघ्न सम्पन्न कराने के लिए खुद को मर्यादा में रखा है, जिसके चलते यहां सूर्यदेव के दर्शन सुलभ हो चुके हैं।
नगर मे सुरक्षा की दृष्टि से कार्यक्रम सम्पन्न होने तक बाहरी लोगों का प्रवेश निषेध कर दिया गया है। नगर के मंदिरों में अखंड पाठ चल रहा है। हर एक को बस रामलला के भव्य मंदिर के भूमि पूजन का इंतजार है।

प्रतिकूल मौसम से पार पाने के लिए जिला प्रशासन ने तमाम इंतजाम किए हैं। वर्षा से बचने के लिए समूचे कार्यक्रम स्थल को वाटर प्रूफ टेंट से ढका गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन की जोरदार तैयारियों के बीच यहां पर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के भी उपाय किए गए हैं।

भूमि पूजन कार्यक्रम को सम्पन्न कराने के लिए देश भर के धर्माचार्यों के साथ कर्मकांडी विद्वान यहां मौजूद हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ काशी विद्वत परिषद के तीन सदस्य पूजा में बैठेंगे। 12 बजकर 40 मिनट 8 सेकंड पर अभिजीत मुहुर्त में मंदिर की आधारशिला रखी जाएगी।

पूजन के मंच पर मोदी के साथ श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महंत नृत्य गोपालदास, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत रहेंगे। तमाम विचार विमर्शों के बाद ग्रह, नक्षत्रों के हिसाब से भूमि पूजन के लिए समय दिन में 12:44:8 से 12:44:40 बजे के बीच तय किया गया है। यह 32 सेकंड ही महत्वपूर्ण हैं, जब प्रधानमंत्री इस अहम क्षण में राम मंदिर का भूमि पूजन करेंगे।



और भी पढ़ें :