अमिताभ ने सिखाए मैनेजमेंट के गुर (देखें वीडियो)

FILE
इंदौर। 'अगर मैं अपने काम से संतुष्ट हो जाऊंगा और यह सोचने लगूंगा कि मैंने अपने जीवन का सर्वश्रेष्ठ अभिनय कर लिया है, तो एक अभिनेता के तौर पर मेरी मौत हो जाएगी। मैं उम्मीद करता हूं कि हर रोज अभिनय की नई चुनौतियों का सामना करूं।'


यह बात सदी के महानायक ने गुरुवार को द्वारा खेल प्रशाल में आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन के पहले दिन कही। आईएमए के 23वें के उद्‍घाटन सत्र में अमिताभ बच्चन को 'लाइफ टाइम एक्सीलेंस अवॉर्ड' से नवाजा गया।

बिग बी’ ने एक सवाल पर कहा कि 90 के दशक में मुझे मेरे परिजनों और कुछ अन्य करीबी लोगों ने कहा कि मैं बहुत काम कर चुका हूं और मुझे थोड़ा अवकाश लेना चाहिए। इस सलाह पर मैंने तीन-चार साल तक विश्राम करते हुए फिल्मों में काम नहीं किया, लेकिन बाद में मुझे महसूस हुआ कि यह मेरी जिंदगी का सबसे बुरा फैसला था।’

बॉलीवुड के महानायक ने एक सवाल पर गर्दिश के उस दौर को भी याद किया, जब उनकी कंपनी एबीसीएल बदहाल हो चुकी थी और वे हर रोज उन लोगों के तकादे झेल रहे थे, जिन्होंने उन्हें यह कंपनी शुरू करने के लिए रकम उधार दी थी।



और भी पढ़ें :