1. खबर-संसार
  2. »
  3. समाचार
  4. »
  5. राष्ट्रीय
Written By भाषा
पुनः संशोधित रविवार, 4 मई 2008 (23:35 IST)

सोमनाथ की कार्रवाई पर असंतोष

राजग करेगा कड़े विकल्पों पर विचार

लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी द्वारा उच्छृंखल आचरण के मामले में बड़ी संख्या में विपक्ष के सांसदों के खिलाफ उठाए गए अभूतपूर्व कदम पर भाजपा और कुछ अन्य दलों ने असंतोष व्यक्त किया है।

भाजपा और शिव सेना की ओर से असंतोष के संकेत मुद्दे को लेकर राजग नेताओं की महत्वपूर्ण बैठक से एक दिन पहले दिखे। लोकसभा अध्यक्ष द्वारा 32 सांसदों का मामला विशेषाधिकार समिति को सौंपे जाने के तुरंत बाद बैठक आयोजित करने का राजग का फैसला इस बात का सूचक है कि इस कदम की छाया सोमवार को लोकसभा की कार्यवाही में भी दिखेगी।

पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि बैठक में मुद्दे पर भविष्य की रणनीति तय किए जाने की उम्मीद है। हुसैन भी उन सांसदों में से एक हैं, जिनके मामले विशेषाधिकार समिति को सौंपे गए हैं।

यह बोलते हुए कि सदस्य मुद्दों को संसद में उठा सकते हैं, उन्होंने कहा कि विपक्ष द्वारा महँगाई के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा। ऐसा ही रुख शिवसेना का है।

हुसैन ने कहा कि उस समय 32 सांसदों की सूची में अपना नाम देखकर वह हैरान रह गए, जब विपक्ष महँगाई और इसे रोकने में सरकार की विफलता के मुद्दे को बड़े स्तर पर उठा रहा था। उन्होंने यह भी कहा कि वाम दल भी विपक्ष की तरह महँगाई के मुद्दे को संसद में उठा चुके हैं।

सपा ने भी अध्यक्ष के कदम पर नाराजगी जताई है। पार्टी प्रमुख मुलायमसिंह यादव ने कहा मैं दुखी हूँ। अध्यक्ष को ऐसा कदम नहीं उठाना चाहिए था। नियमन करना अध्यक्ष की जिम्मेदारी है।

राजग के घटक दल शिवसेना ने कहा कि लोगों के जीवन को प्रभावित कर रहे ज्वलंत मुद्‍दे पर माफी माँगने का सवाल ही नहीं उठता। विशेषाधिकार समिति को सौंपी गई सूची में शिवसेना के भी दो सांसदों का नाम है। बसपा के सांसद ब्रजेश पाठक का नाम भी 32 सांसदों की सूची में है। उन्होंने कहा कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है।

कड़े विकल्पों पर विचार : चटर्जी के फैसले के मद्देनजर विपक्षी राजग कड़े विकल्पों तक पर विचार कर रहा है। विपक्षी राजग द्वारा इस मुद्दे पर चर्चा करने और आगे की रणनीति तय करने के लिए सोमवार को अपने नेताओं की बैठक बुलाए जाने के ठीक एक दिन पहले राजग के एक वरिष्ठ नेता ने कहा हमारे पास ढेर सारे विकल्प हैं जिनमें हल्के और सख्त विकल्प शामिल हैं और इन सभी पर विचार किया जाएगा।