स्फूर्ति 2012 का हुआ आगाज

ND
के बाद युवाओं को बेहतर मंच प्रदान करने के उद्देश्य से यूनिवर्सिटी में गुरुवार से का रंगारंग आगाज हुआ। यूनिवर्सिटी के विभिन्न विभागों के बीच हर वर्ष केवल खेल प्रतियोगिताएं ही होती थीं। इस वर्ष से स्फूर्ति में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की शुरुआत की गई।


खेल मैदान में जहां विद्यार्थियों के साथ शिक्षकों ने भी हाथ आजमाए, वहीं मंच पर लोकनृत्यों की आकर्षक प्रस्तुतियों में विभिन्ना प्रांतों की लोक संस्कृति के जीवंत दर्शन हुए। यूनिवर्सिटी ऑडिटोरियम में शाम 5 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आगाज हुआ।

कुलपति डॉ. राजकमल, प्रो.आशुतोष मिश्रा, माया इंगले, प्रीति सक्सेना, एके सिंह, महेश पालीवाल, यूनिवर्सिटी छात्रसंघ अध्यक्ष वर्षा शर्मा, यूटीडी छात्रसंघ अध्यक्ष रोहिणी राय व सचिव विजय मूलचंदानी उपस्थित थे। स्कूल ऑफ कम्प्यूटर साइंस, आईएमएस और आईईटी सहित विभिन्ना विभागों के विद्यार्थियों ने लोकनृत्यों की मनमोहक प्रस्तुति दी।

प्रतियोगिता में 8 समूह शामिल हुए थे। युवाओं ने देवा श्री गणेशा, जय भवानी जैसे गीतों पर नृत्यों की प्रस्तुति दी गई। वहीं राजस्थानी नृत्य घूमर और महाराष्ट्र के नृत्य गोंधळ के साथ ही विभिन्न राज्यों की लोक संस्कृतियों को मंच पर पेश किया गया।


हुई विभिन्न स्पर्धाएं यूटीडी खेलों में क्रिकेट, बैडमिंटन, टेबल टेनिस, शतरंज, वॉलीबॉल से लेकर विभिन्न स्पर्धाएं हुई। यूटीडी खेलों के पहले दौर में युवाओं में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। हर खिलाड़ी अपने टीम की जीत के लिए मैदान में जी-जान से खेलता दिखा। वहीं युवाओं के साथ शिक्षकों ने भी मैदान में शानदार प्रदर्शन किया।

वीसी व रजिस्ट्रार इलेवन के बीच रोमांचक मैच हुआ। इसमें वीसी इलेवन को अंतिम गेंद पर 6 रनों की जरूरत थी। आखिरी गेंद पर एक छक्के से वीसी इलेवन ने जीत हासिल की। 25 फरवरी तक विभिन्न प्रतियोगिताएं होंगी। शुक्रवार को आर्केस्ट्रा व खेल स्पर्धाओं के दूसरे दौर के मैच होंगे। अंतिम दिन फैंसी ड्रेस, रॉक बैंड कॉम्पीटिशन और पुरस्कार वितरण समारोह होगा।



और भी पढ़ें :