0

World Yoga Day 2021: योग आसन क्या है, कितने प्रकार के होते हैं योगासन, जानिए

सोमवार,जून 14, 2021
0
1
विश्व में ध्यान करने का प्रचलन बढ़ा है। ध्यान करने से आपकी मोमोरी बढ़ती है, दिमाग शांत रहता है और कई तरह के मानसिक रोगों का भी इलाज होता है। ध्यान पर विश्‍वभर में कई तरह के शोध हुए हैं। कुछ वर्ष पूर्व हुए शोध ने नए तथ्‍य सामने रखे हैं।
1
2
हर साल 21 जून को विश्व योग दिवस मनाया जाता है। यह दिवस संपूर्ण विश्व में मनाया जाता है। इस अवसर पर विश्‍वभर में लाखों लोग एक साथ योग करके सेहतमंद बने रहने और शांति का संदेश देते हैं। योग दिवस आखिर क्यों मनाया जाता है और इसकी शुरुआत कब से हुई जानिए ...
2
3
क्या योग/प्राणायाम से ऑक्सीजन लेवल बढ़ाया जा सकता है? फेफड़ों को संक्रमित होने से बचाया जा सकता है? कोरोना काल में योग/प्राणायाम कितना फायदेमंद है। इसके लिए सीधे चर्चा की रिदमिक पावर योग शिक्षा समिति के बरून कुशवाह से -
3
4
आपको लगता है कि आप बुरी आदतों के शिकार बन गए हो और आप उन्हें छोड़ना चाहते हो, लेकिन आप छोड़ नहीं पा रहे हो। जैसे तंबाखू, शराब, अति भोजन, क्रोध और नकारात्मक विचार। इन आदतों को छोड़ने के लिए जानिए 6 महत्वपूर्ण बातें।
4
4
5
कोविड 19 कोरोना वायरस के चलते भारत में 25 मार्च 2020 को लॉकडाउन लगा दिया गया था जो 31 मई 2020 तक चला और फिर चरणों में अनलॉक की प्रक्रिया प्रारंभ हुई। इसके बाद अप्रैल 2021 में पुन: चरणों में लॉकडाउन प्रारंभ हुआ और अब पुन: जून से अनलॉक प्रक्रिया ...
5
6
फेफड़ों को सुरक्षित रखना बेहद जरूरी होता है। क्योंकि हमारे सांस लेने की प्रक्रिया वहीं से शुरू होती है। अगर आपके फेफड़ें सुरक्षित रहेंगे तो लंबी जिंदगी आराम से जी सकते हैं अन्यथा कई प्रकार की बीमारियां आपको घेर सकती है। जैसे आपको अस्थमा हो सकता है, ...
6
7
21 जून 2021 को विश्‍व योगा दिवस है। करोनावायरस के संक्रमण के चलते लगे लॉकडाउन में बहुतों ने घर में ही योग करना प्रारंभ करके खुद को महामारी से बचाए रखा। यदि आपने अब तक योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा नहीं बनाया है तो योग दिवस से नियम बनाएं और रोज ...
7
8
भारतीय योग की परंपरा भगवान शंकर, दत्तात्रेय से लेकर ऋषि भारद्वाज मुनि, वशिष्ठ मुनि और पराशर मुनि तक प्रचलित रही। फिर योगेश्वर श्रीकृष्ण से लेकर गौतम बुद्ध और पतंजलि, आदि शंकराचार्य, गुरु मत्स्येंद्रनाथ और गुरु गोरखनाथ तक अनवरत चलती रही। इसके बाद ...
8
8
9
कहते हैं कि जहां गंदगी होती है वहां पर ही वायरस और बैक्टीरिया पनपते हैं। अत: कोरोना काल में साफ-सफाई के साथ ही शरीर और मन की शुद्धि का भी महत्व बढ़ गया है। आओ जानते हैं कि स्नान के कितने प्रकार हैं और यह कैसे किया जाता है। यहां मुख्‍यत: दो तरह के ही ...
9
10
अगर आप बहुत बिजी है और अपनी केयर करने के लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं तो अपने शेड्यूल से सिर्फ 10 मिनट का समय निकाल कर ये फेशियल योगा ट्राई करें।
10
11
कोरोना वायरस (coronavirus) का संक्रमण फेफड़ों को कमजोर कर देता है। इस दौर में जहां इम्युनिटी पावर (Immunity power) बढ़ाना जरूरी है वहीं फेफड़ों (Lungs) को सुरक्षित और मजबूत बनाए रखना भी जरूरी है और सबसे जरूरी है शरीर के भीतर का ऑक्सीजन लेवल बढ़ाना। ...
11
12
योग शास्त्र के अनुसार शरीर में सात चक्र होते हैं। इनके नाम है मूलाधार, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, अनाहत, विशुद्धख्य, आज्ञा और सहस्रार। किसी भी एक चक्र, दो, तीन या इससे ज्यादा चक्र जागृत होने के अलग अलग परिणाम होते हैं। समय-समय पर चक्रों वाले स्थान पर ...
12
13
उम्र बढ़ने के साथ ही शरीर फैलने लगता है और चेहरे पर झुर्रियां भी दिखाई देने लगती है। माथे पर की त्वचा पर भी लाइंस दिखाई देने लगती हैं, जिसे त्वचा पर दिखाई देने वाली सिलवटें भी कहा जाता है। माथे की सलवटें को देखकर ऐसा लगता है कि हम अधेड़ता या बुढापे ...
13
14
योग में बहुत सारी क्रियाओं का उल्लेख मिलता है। आसन, प्राणायाम के बाद क्रियाओं को भी करना सीखना चाहिए। क्रियाएं करना बहुत कठिन माना जाता है, लेकिन क्रियाओं से तुरंत ही लाभ मिलता है। योग में प्रमुखत: छह क्रियाएं होती है:-1. त्राटक 2. नेति 3. कपालभाती ...
14
15
काल कैसा भी हो लेकिन स्वस्थ्य और फिट लाइफ के लिए योग, प्रणायाम या एक्सरसाइज जरूर करना चाहिए। इससे आपकी बाॅडी पर कभी भी एक्स्ट्रा फैट जमा नहीं होगा। साथ ही आप में तरावट बनी रहेगी, आपका मन शांत रहेगा और कमजोरी भी नहीं लगेगी। तो आइए जानते हैं 5 सरल ...
15
16
योग में बहुत सारी क्रियाओं का उल्लेख मिलता है। आसन, प्राणायाम के बाद क्रियाओं को भी करना सीखना चाहिए। क्रियाएं करना बहुत कठिन माना जाता है, लेकिन क्रियाओं से तुरंत ही लाभ मिलता है। योग में प्रमुखत: छह क्रियाएं होती है:-1. त्राटक 2. नेति 3. कपालभाती ...
16
17
योग में बहुत सारी क्रियाओं का उल्लेख मिलता है। आसन, प्राणायाम के बाद क्रियाओं को भी करना सीखना चाहिए। क्रियाएं करना बहुत कठिन माना जाता है, लेकिन क्रियाओं से तुरंत ही लाभ मिलता है। योग में प्रमुखत: छह क्रियाएं होती है:-1. त्राटक 2. नेती. 3. कपालभाती ...
17
18
कोरोना काल में योगासन, प्राणायाम और योग क्रियाओं के महत्व को समझा जाने लगा है। योगासन अर्थात आसन या योगा पोश्चर। आसनों का मुख्य उद्देश्य शरीर के मल का नाश करना है। शरीर से मल या दूषित विकारों के नष्ट हो जाने से शरीर व मन में स्थिरता का अविर्भाव होता ...
18
19
प्राणायाम जीवन का रहस्य है। श्वासों के आवागमन पर ही हमारा जीवन निर्भर है और ऑक्सीजन की अपर्याप्त मात्रा से रोग और शोक उत्पन्न होते हैं। प्रदूषण भरे महौल और चिंता से हमारी श्वासों की गति अपना स्वाभाविक रूप खो ही देती है जिसके कारण प्राणवायु संकट काल ...
19