बिजनौर में सांसद मलूक नागर की 'तलाश' के पोस्टर लगे

में सांसद के गुमशुदगी के पोस्टर जगह-जगह चस्पा किए गए हैं। पोस्टर का मजमून है- 'गुमशुदा की तलाश, सांसद बिजनौर'। चौंकिए मत, बिजनौर के सांसद का न तो किडनैप हुआ है और न ही वे अपराधी हैं, जिनकी तलाश के लिए शहर और गांव में पोस्टर लगे हैं। आइए, वेबदुनिया आपको इन पोस्टरों का सच बताता है, कौन हैं ये पोस्टर चस्पा करने वाले और क्यों हुए पोस्टर चस्पा?
ये पोस्टर बसपा सांसद मलूक नागर के हैं। बिजनौर लोकसभा सीट से बसपा, रालोद व सपा गठबंधन से पहली बार बसपा का परचम लहराने वाले सांसद मलूक नागर की तलाश कोई और नहीं, बल्कि उनके मतदाता कर रहे हैं। बिजनौर संसदीय सीट के मतदाताओं का कहना है कि मलूक नागर लोकसभा चुनाव जीतने के बाद क्षेत्र से गायब हो गए हैं।

जब उनकी लोगों को जरूरत होती है तो वे नदारद होते हैं। कोरोना काल में भी वे गायब हैं, क्षेत्र की जनता उन्हें ढूंढ रही है, सांसद मिल नहीं पा रहे, ऐसे में परेशान होकर जनता ने उनकी गुमशुदगी के पोस्टर लोकसभा क्षेत्र में कई जगह लगा दिए हैं।

मलूक नागर 2004 और 2009 से बसपा टिकट पर सांसद बनने के सपने संजोए हुए
मेरठ सीट से लड़े, लेकिन किस्मत ने साथ नहीं दिया और वे हार गए। 2014 में बिजनौर सीट से सांसद बनने के लिए किस्मत आजमाई, लेकिन पराजय का ही सामना करना पड़ा।

2019 में बसपा सुप्रीमो मायावती ने गठबंधन सीट पर गुर्जर-दलित समीकरण के चलते मलूक नागर को बिजनौर से पुनः टिकट दिया और वे जीत गए। बिजनौर में सांसद बनने के बाद उन्होंने अपने क्षेत्र में कोई खास रुचि नहीं दिखाई। कई महत्वपूर्ण मौकों पर केवल उनके प्रतिनिधि ही आए। इससे क्षेत्र की जनता में रोष है।

अब कोरोना महामारी के समय में भी वे किसी भी मौके पर नजर नहीं आए। इसी के चलते नाराज जनता ने पोस्टर लगा दिए, जिन पर लिखा है, गुमशुदा की तलाश, सांसद बिजनौर मलूक नागर। अगर यह मिल जाएं तो कृपा करके बिजनौर के लोगों को सूचित किया जाए।

पोस्टर वॉर पर मलूक नागर का कहना है कि मैं हमेशा अपनी क्षेत्र की जनता के साथ हूं और रहूंगा। दूसरी पार्टी से जुड़े कुछ लोग मुझ पर गलत कार्य का दबाव बना रहे थे, जो मैंने नहीं किया। जिसके चलते आज लॉकडाउन खुला तो उन्होंने मेरे गुमशुदगी के पोस्टर अपने इलाके में लगा दिए।

लॉकडाउन के चलते मैं क्षेत्र में घूमा नहीं, लॉकडाउन में लगातार अपने इलाके के लिए सेवा करता रहा हूं, जनता के हितों के लिए सरकार से पत्राचार भी किया है। मेरे क्षेत्र की जनता मेरे साथ है, जनता पोस्टर के बाद सोशल मीडिया पर मेरे लिए लड़ रही है।
बिजनौर से बसपा सुप्रीमो को बहुत मोह है। उनकी राजनीतिक पारी में बिजनौर का बहुत योगदान है। ऐसे में बसपा सुप्रीमो का अपने सांसद के प्रति क्या रवैया या एक्शन होगा, यह आने वाला समय बताएगा। मलूक नागर डेयरी व्यवसाय के बड़े कारोबारी हैं और बहनजी की गुड बुक में माने जाते हैं।



और भी पढ़ें :