ऑक्सीजन की किल्लत से मचा हाहाकार, 26 शिशुओं की जान बचाने के लिए CMO के आगे गिड़गिड़ाता रहा डॉक्टर

हिमा अग्रवाल| पुनः संशोधित गुरुवार, 22 अप्रैल 2021 (22:57 IST)
की किल्लत के चलते में 26 नौनिहालों की जान पर बन आई है। निजी अस्पतालों में बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित एडमिट है। कोविड पेशेंट को ऑक्सीजन गैस की आवश्यकता है, तो वहीं नवजात अस्पताल में भर्ती नवजात शिशु और नौनिहालों को भी ऑक्सीजन की पूरी सप्लाई न मिलने से जान पर बन आई है। मानवीयता के नाते डॉक्टर हरसंभव अपने पेशेंट को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए के सामने गिड़गिड़ाते ऑक्सीजन गैस मुहैया कराने की गुहार भी लगा रहे हैं।
ALSO READ:
ऑक्सीजन की सप्लाई देने वाला शारंग गैस प्लांट बंद, मचा हाहाकार...
बहराइच में ऑक्सीजन की कमी से हाहाकार मचा हुआ है, सरकारी अस्पतालों के साथ-साथ निजी अस्पतालों में भी कोविड और नॉन कोविड पेशेंट्स को ऑक्सीजन गैस पर्याप्त में में नही मिल पाने से हड़कम्प मचा हुआ है। बहराइच जिले में आज एक डॉक्टर 26 मासूमों की जिंदगी बचाने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी के गिड़गिड़ाते हुए ऑक्सीजन गैस की मांग करता हुआ नजर आया।

सीएमओ के सामने गिड़गिड़ाते डाक्टर गयास का कहना है कि अस्पताल में 26 बच्चे भर्ती हैं, जिसमें से 11 बच्चे पर है, जिन्हें हर समय ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है, अस्पताल में मात्र 2 घंटे की ऑक्सीजन गैस मौजूद है, ऐसे में यदि 11 बच्चों को समय रहते ऑक्सीजन नही मिली तो, उनकी जीवन डोर टूट सकती है।
कोरोना महामारी की वजह से निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की सप्लाई सीएमओ के आदेश पर की जा रही है। कोरोनाकाल में ऑक्सीजन की मांग बढ़ गई है।

सरकारी और निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन गैस की मांग बढ़ गई है। मांग के अनुसार गैस उपलब्ध नहीं है, जिसकी वजह से निजी अस्पतालों में भर्ती मरीजों की जान खतरे में पड़ी हुई है। डाक्टर गयास का कहना है कि जल्दी ही उन्हें ऑक्सीजन गैस सिलेंडर नहीं मिले तो बच्चों की जान भी जा सकती है।

ऑक्सीजन की कमी की वजह से दर्जनों बच्चे वेंटिलेटर पर दम तोड़ सकते हैं। ऑक्सीजन गैस की किल्लत पर बहराइच जिले के सीएमओ राजेश श्रीवास्तव का कहना है कि ऑक्सीजन की कमी पूरे प्रदेश में हैं। बहराइच भी इससे अछूता नहीं है।
भगवान कहे जाने वाले डॉक्टर दिलों जान से इन शिशुओं को जीवन देने में जुटे है, ऐसे में सीएमओ के व्यवहार ने डॉक्टरों के मन को झकझोर दिया है। ये डॉक्टर मानवता के नाते सीएमओ को बच्चों का वास्ता दे रहे हैं। इसे देखकर 26 अबोध शिशु की जान का बचाने की कवायद देखकर किसी का भी दिल व्यथित हो जाएगा।



और भी पढ़ें :