बुधवार, 24 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. व्यापार
  3. शेयर बाजार
  4. Investors lost Rs 6 lakh crore due to huge fall in the stock market
Last Modified: नई दिल्ली , बुधवार, 28 फ़रवरी 2024 (18:21 IST)

Share Market में भारी गिरावट से निवेशकों के 6 लाख करोड़ डूबे

Bombay Stock Exchange
Investors lost Rs 6 lakh crore due to huge fall : बीएसई सेंसेक्स में बुधवार को बड़ी गिरावट के साथ निवेशकों की संपत्ति एक दिन में 6 लाख करोड़ रुपए घट गई। 30 शेयरों पर आधारित सेंसेक्स 790.34 अंक यानी 1.08 प्रतिशत टूटकर 72304.88 अंक पर बंद हुआ। इसके साथ बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 6,02,338.56 करोड़ रुपए घटकर 3,85,97,298.49 करोड़ रुपए (4,710 अरब डॉलर) पर आ गया।
 
मेहता इक्विटीज लि. के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (शोध) प्रशांत तपसे ने कहा, वायदा एवं विकल्प खंड में मासिक सौदों के निपटान से पहले भारी बिकवाली दबाव देखने को मिला। एशिया के अन्य बाजारों में कमजोर रुख तथा डाउ फ्यूचर में नकारात्मक शुरुआत के संकेत से चौतरफा मुनाफावसूली हुई।
 
Vodafone Idea का बाजार पूंजीकरण 10806 करोड़ रुपए घटा : कर्ज के बोझ से दबी दूरसंचार सेवा कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड (वीआईएल) के शेयर में बुधवार को 14 प्रतिशत की भारी गिरावट दर्ज की गई। इसके साथ ही कंपनी का बाजार मूल्यांकन 10,806.71 करोड़ रुपए गिरकर 66,447.95 करोड़ रुपए रह गया।
 
वीआईएल के शेयरों में आई यह गिरावट इस लिहाज से अहम है कि कंपनी के निदेशक मंडल ने एक दिन पहले ही 45,000 करोड़ रुपए जुटाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। इसमें से 20,000 करोड़ रुपए प्रवर्तकों एवं अन्य निवेशकों से इक्विटी के रूप में जुटाए जाने हैं, जबकि बाकी राशि कर्ज के रूप में जुटाई जाएगी।
लेकिन निवेशकों के बीच कंपनी नेतृत्व का यह कदम भी भरोसा जगा पाने में नाकाम रहा और उन्होंने बड़े पैमाने पर बिकवाली की। बीएसई पर वोडाफोन आइडिया का शेयर 13.99 प्रतिशत गिरकर 13.65 रुपए पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान एक समय यह 14.93 प्रतिशत गिरकर 13.50 रुपए पर आ गया था।
एनएसई पर यह 13.88 प्रतिशत गिरकर 13.65 रुपए पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 14.82 प्रतिशत तक गिरकर अपनी निचली सर्किट सीमा 13.50 रुपए पर आ गया था। कर्ज में डूबी वीआईएल पर 2.1 लाख करोड़ रुपए का भारी-भरकम कर्ज है और वह लगातार तिमाही घाटा भी उठा रही है। इसके अलावा उसका ग्राहक आधार भी लगातार घटता जा रहा है। (इनपुट भाषा)
Edited By : Chetan Gour